मुलायम ने रेवती-बनवारी को बनाया अपनी मजबूती का आधार, सोमवार को होगा निर्णय

अखिलेश यादव एवं मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव ने परिस्थितियों को स्वीकार कर लिया है, वे यह जान गये हैं कि जन, धन, बल और ज्ञान में अखिलेश उनसे आगे निकल गये हैं, वे यह भी अच्छी तरह समझ गये हैं कि इस समय शक्ति से विजय प्राप्त नहीं कर सकते, तभी राजनीति की पिच पर बड़ी समझदारी के साथ कूटनीति के सहारे खेल रहे हैं। सार्वजनिक रूप से वे कुछ और कर रहे हैं और एकांत में कुछ और कर रहे हैं। मुलायम जनभावनाओं को समझ गये हैं, तभी उन्होंने सार्वजनिक रूप से कहना शुरू कर दिया कि बहुमत मिलने पर अखिलेश ही मुख्यमंत्री होंगे, लेकिन बात जंग की करें, तो वे अखिलेश को मात देने के लिए हर चाल रहे हैं।

शुक्रवार को चुनाव आयोग में मुलायम के वकीलों ने आक्रामक अंदाज में तर्क दिए। सूत्रों का कहना है कि मुलायम के वकीलों ने अधिवेशन और प्रतिनिधियों के शपथ पत्रों पर प्रश्न चिन्ह लगाया। मुलायम के वकीलों ने कहा कि अधिवेशन निष्कासित व्यक्ति द्वारा बुलाया गया, जिससे उसमें हुई कार्रवाई फर्जी है, साथ ही कहा कि कई ऐसे लोगों के भी शपथ पत्र दिए गये हैं, जो मर चुके हैं एवं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो इन दिनों गंभीर रूप से बीमार होने के चलते अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती हैं, इसका साक्ष्य बदायूं जिले से विधान परिषद सदस्य एवं दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव एवं इलाहाबाद निवासी राज्यसभा सभा सदस्य रेवती रमण सिंह का दिया गया है। बता दें कि बनवारी सिंह यादव बीमारी के चलते मेदांता हॉस्पीटल में भर्ती हैं, वहीं फिसल कर गिरने से चोटिल हुए रेवती रमण सिंह भी अस्वस्थ हैं। हालाँकि मुलायम पक्ष की दलीलें उलझाने वाली ही प्रतीत हो रही हैं, क्योंकि उन्होंने प्रो. रामगोपाल यादव को नियम के विरुद्ध निष्कासित किया था, जिसका लाभ अखिलेश पक्ष को मिलने की संभावना जताई जा रही है।

उच्चपदस्थ सूत्रों का यह भी कहना है कि चुनाव आयोग समाजवादी पार्टी को लेकर अपना निर्णय सोमवार को सुनायेगा। यहाँ यह भी बता दें कि समाजवादी पार्टी के विवाद पर न सिर्फ सपाईयों, बल्कि उत्तर प्रदेश के साथ देश भर की जनता की नजर टिकी हुई है। करोड़ों लोग यह जानना चाहते हैं कि साईकिल चुनाव चिन्ह किसे मिलेगा, इसका जवाब जानने के लिए लोगों को अभी और इंतजार करना पड़ेगा।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

अखिलेश ने अमर सिंह को नहीं बनने दिया महापुरुष, समझौता वार्ता निरस्त

अमर सिंह की चाल पर रानी गंवा बैठे अखिलेश यादव

मुलायाम का अमर सिंह ने हद से ज्यादा दोहन किया

मुलायम के पास सिर्फ दो विकल्प, अखिलेश ने सपा के खातों पर लगवाई रोक

अखिलेश के पक्ष में विधायकों ने दिए शपथ पत्र, जंग से सर्वाधिक दुखी धर्मेन्द्र

मुलायम ने की बड़ी गलती, अखिलेश बनेंगे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष

मुलायम-शिवपाल पदच्युत, अमर सिंह बाहर, अखिलेश चुने गये राष्ट्रीय अध्यक्ष

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.