कल शाहजहाँपुर जायेगी पीसीआई की टीम, धरना प्रदर्शन जारी

धरना स्थल पर अस्वस्थ सुमन सिंह व अन्य लोग।
धरना स्थल पर अस्वस्थ सुमन सिंह व अन्य लोग।

शाहजहाँपुर के पत्रकार जगेन्द्र हत्या कांड को लेकर भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति चंद्रमौलि कुमार प्रसाद ने मामले की जांच हेतु दिनांक 10 जून, 2015 को तीन सदस्यीय तथ्य खोजी दल गठित कर दिया था, जिसमें प्रेस परिषद के सदस्य प्रकाश दुबे, एस.एन.सिन्हा तथा डॉ. सुमन गुप्ता शामिल हैं। यह दल दिनांक 16-17 जून 2015 को लखनऊ और शाहजहांपुर का दौरा करेगा और पीड़ित परिवार, जनता व अन्य संबद्ध व्यक्तियों सहित मीडिया कर्मियों से बड़े स्तर पर चर्चा करते हुए आवश्यक सूचना एकत्रित करेगा। खोजी दल के सदस्य डाक बंगला, शाहजहांपुर में ही कल सायं 04 बजे मीडिया कर्मियों से भेंट करेंगे।
उधर जगेन्द्र हत्या कांड के दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करने, नामजद आरोपी राज्यमंत्री राममूर्ति वर्मा को मंत्रिमंडल से बाहर करने एवं दिवंगत पत्रकार के परिजनों को आर्थिक सहायता देने की मांग करते हुए आज भी धरना प्रदर्शन का दौर जारी रहा। देश व देश के बाहर भी घटना की निंदा की जा रही है। उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों, तहसील व ब्लॉक मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया गया। दिल्ली में भी घटना की निंदा करते हुए प्रदर्शन किया गया।

दिवंगत पत्रकार जगेन्द्र के परिजन तमाम लोगों के साथ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठा है। कस्बा खुटार के मोहल्ला कोट में जारी धरने में जगेन्द्र की पत्नी सुमन सिंह की हालत बिगड़ गई है, उनका धरना स्थल पर ही उपचार चल रहा है। सीएमओ डॉ. जे.एल. गौतम के साथ गई टीम ने पाया कि सुमन बेहद कमजोर हो गई हैं, उन्हें ग्लूकोज की ड्रिप लगा दी गई है। एसडीएम लाल बहादुर ने भी धरना स्थल पर जाकर नजर बनाये रखी।

हरदोई जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी से वार्ता करते आक्रोशित पत्रकार।
हरदोई जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी से वार्ता करते आक्रोशित पत्रकार।

इधर उत्तर प्रदेश सरकार में वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री व पार्टी के मुख्य प्रवक्ता शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि जांच पूर्ण न होने तक राज्यमंत्री राममूर्ति वर्मा को नहीं हटाया जायेगा। आज की अच्छी खबर यह है कि प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पंडा और डीजीपी एके जैन ने पत्रकारों की सुरक्षा के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पंडा ने लखनऊ में सोमवार को बताया कि राज्य स्तर पर गठित मीडिया समन्वय समिति की बैठक शीघ्र आयोजित की जायेगी, जिसमें पत्रकारों द्वारा जिला स्तरीय अधिकारियों से संबंधित शिकायतों और पत्रकारों के उत्पीड़न की घटनाओं पर विचार व निस्तारण किया जायेगा। राज्य स्तर पर प्रमुख सचिव गृह की अध्यक्षता में मीडिया समन्वय समिति के गठन का निर्णय लिया गया है। समिति में सूचना विभाग, आवास एवं शहरी नियोजन, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव व सचिव सदस्य रहेंगे। पुलिस महानिदेशक, राज्य सम्पत्ति अधिकारी तथा प्रमुख सचिव सूचना द्वारा नामित प्रिंट मीडिया के तीन एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के दो प्रतिनिधि भी समिति के सदस्य होंगे। पुलिस महानिरीक्षक कानून-व्यवस्था ए. सतीश गणेश ने पत्रकारों को बताया कि ताजा घटनाओं को देखते हुए डीजीपी ने कहा है कि पत्रकारों की सुरक्षा किसी भी हालत में होनी चाहिए। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जिलों में डीएम और सूचना अधिकारी के साथ समन्वय करते हुए वरिष्ठ पत्रकारों को बुलाकर बैठकें आयोजित की जायें, जिसमें त्वरित कार्रवाई हो।
पत्रकार जगेन्द्र हत्या कांड से संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply