जो जनता सांसद धर्मेन्द्र यादव को रीयल हीरो मानती थी, वही जनता करने लगी घृणा

सांसद धर्मेन्द्र यादव की कोठी के द्वार पर तैनात सशत्र जवान।

बदायूं जिले की जो जनता सांसद धर्मेन्द्र यादव को अपना रीयल हीरो मानती थी, वही जनता अब उनसे घृणा करने लगी है, जो चुनाव के समय समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों पर भारी पड़ सकती है। बदायूं में हर जाति, हर धर्म और हर आयु वर्ग के लोग सांसद पर आंख बंद कर विश्वास करते थे, लेकिन सांसद वचन के पक्के नहीं निकले। उन्होंने हर उस व्यक्ति का दिल तोड़ा है, जो उनकी बुराई करने वालों की जुबान काटने को तत्पर रहता था।

पिछले दिनों विधायक व पूर्व दर्जा राज्यमंत्री आबिद रजा ने परोक्ष व अपरोक्ष रूप से सांसद धर्मेन्द्र यादव पर हमला बोला, तो बदायूं जिले के साथ संभल जिले तक के लोगों का खून उबल उठा। लोग सड़कों पर उतर आये। जिन लोगों का आबिद रजा और राजनीति से कोई मतलब नहीं था, वे भी सांसद के पक्ष में न सिर्फ बोलने लगे, बल्कि आबिद रजा के पुतले जला कर अपने आक्रोश का प्रदर्शन करने लगे, ऐसे निःस्वार्थ भाव से प्रेम करने वाले लोगों का सांसद ने आबिद रजा से गोपनीय समझौता कर के दिल तोड़ दिया।

लोग समझौते के विरोध में नहीं हैं, गोपनीय तरीके से किये गये समझौते से आहत हैं। अधिकांश लोगों का कहना है कि समझौता करने की सूचना सांसद को एक बार देनी चाहिए थी। कुछेक लोगों को यह भी लग रहा था कि पहले व्यवस्तताओं के चलते और पार्टी में शीर्ष स्तर पर हुये उतार-चढ़ावों के कारण वार्ता नहीं कर पाये होंगे, पर बदायूं आने पर सभी को एक बार अवश्य बुलायेंगे, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। सांसद सोमवार को बदायूं पहुंचे और इस्लामियां इंटर कॉलेज के परिसर में हुई जनसभा में अपना फतवा जारी करने के बाद कोठी में कैद हो गये, जहाँ द्वार पर सशस्त्र जवानों को इस निर्देश के साथ तैनात कर दिया गया है कि अंदर कोई नहीं आना चाहिए। सांसद के इस व्यवहार से लोगों की नाराजगी घृणा में बदल गई है, जो चुनाव के समय समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों पर भारी पड़ सकती है। आहत वर्ग का कहना है कि सांसद ने उनके साथ बंधुआ मजदूर की तरह व्यवहार किया है, जिसे आसानी से भुलाया नहीं जा सकेगा।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

जो कुछ कहा और जो कुछ किया, उसके लिए क्षमा मांगता हूँ: आबिद

सांसद जी हमारी मदद करा देयो, हम जीवन भर आभारी रहेंगे

आबिद रजा के सपा में लौटने की चर्चाओं पर सांसद धर्मेन्द्र यादव ने लगाया ब्रेक

मैनपुरी की कंपनी ने सड़कें खोद कर बर्बाद किया बदायूं शहर

विकास के नाम पर बदायूं जिले में हुआ करोड़ों का खेल

उत्तर प्रदेश में बदायूं बना खनन माफियाओं की राजधानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.