माफिया ज्योति द्वारा आम रास्ता बंद करने से मचा हाहाकार

माफिया ज्योति मेंदीरत्ता के द्वारा फाटक लगा कर बंद किया गया आम रास्ता एवं प्लाट में भरा गंदा पानी।
माफिया ज्योति मेंदीरत्ता के द्वारा फाटक लगा कर बंद किया गया आम रास्ता एवं प्लाट में भरा गंदा पानी।

बदायूं जिले में शराब माफिया, भू-माफिया और शिक्षा माफिया के रूप में कुख्यात शातिर दिमाग ज्योति मेंदीरत्ता का बदायूं-मथुरा रोड पर नबादा में ब्लूमिंगडेल नाम का स्कूल है, जो लूट का अड्डा बना ही हुआ है, साथ ही स्कूल का वातावरण बेहद खराब हो चुका है, जिससे यहाँ पढ़ने वाले छात्र व छात्रायें अपराधी बनने लगे हैं एवं अनैतिक कार्यों को खुलेआम करने लगे हैं, जिनमें से कई छात्र जेल जा चुके हैं और छात्रायें बदनाम हो चुकी हैं। सत्ताधारियों के बगल में मंच पर बैठने वाले ज्योति की प्रशासन में गहरी पैठ है, जिससे इसके विरुद्ध कार्रवाई नहीं हो पाती, इसलिए ज्योति के हौसले बढ़ते जा रहे हैं। ज्योति की दबंगई का शिकार अब आम जनता भी होने लगी है।

शहनाज बेगम, कादिर खां, आतिफ, शारिक, परवेज, आसिफ, जावेद, युसूफ और सलीम सहित दर्जनों लोगों का आरोप है कि एक खाली प्लाट में जलभराव होने के कारण गंदगी रहती है, जिससे न सिर्फ बीमारी फैलने की आशंका बनी रहती है, बल्कि पड़ोस के मकानों की दीवारें भी जर्जर होती जा रही हैं, जिससे मकान गिरने का भी खतरा बना रहता है। पीड़ितों ने उपजिलाधिकारी को पत्र भेज कर कार्रवाई कराने एवं परेशानी से निजात दिलाने की मांग की है।

बता दें कि माफिया ज्योति ने उत्तर-पूरब दिशा का रास्ता बंद कर फाटक लगा दिया है और इसी दिशा में स्कूल से निकलने वाला गंदा पानी भी छोड़ रखा है, जिससे तमाम तरह की परेशानियां बनी रहती हैं, लेकिन प्रशासनिक अफसर राजनैतिक पहुंच होने के कारण माफिया ज्योति के विरुद्ध कार्रवाई नहीं करते।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

ज्योति राजनेता के सहारे दबाना चाहता है एमएमएस कांड

एमएमएस कांड में जेल गया ब्लूमिंगडेल स्कूल का छात्र

ब्लूमिंगडेल स्कूल के छात्रों पर पड़ने लगा ज्योति का असर

कब्रिस्तान पर कब्जा कर बनाया गया है ब्लूमिंगडेल स्कूल

सपा नेताओं के सहारे बचा हुआ है घोटालेबाज ज्योति मैंदीरत्ता

शराब और भू-माफिया से शिक्षा माफिया भी बना ज्योति

हर नियम-कानून को ताक में रखता है माफिया ज्योति

धर्मेन्द्र यादव व आबिद रजा माफिया के स्कूल में नहीं पहुंचे

Leave a Reply