हत्याकांड को योजना बना कर दिया गया अंजाम, भाजपा विधायक पर आरोप

एसएसपी को दिए पत्र की छायाप्रति एवं आरोपी भाजपा विधायक धर्मेन्द्र कुमार शाक्य।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी प्रदेश की कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए नई नीतियाँ बना रहे हैं और कड़े दिशा-निर्देश भी जारी कर रहे हैं, लेकिन उनके इरादों में रोड़ा उनके अपने विधायक ही बनते नजर आ रहे हैं। गोरखपुर में भाजपा विधायक आरएम अग्रवाल द्वारा सीओ चारू निगम से अभद्रता करने का प्रकरण शांत होता, उससे पहले बदायूं जिले में सनसनीखेज खुलासा हुआ है। जघन्य हत्याकांड को पूरी तैयारी के साथ अंजाम दिया गया था और हत्याकांड को अंजाम देने वालों की मदद भाजपा विधायक ने की थी, तभी सूचना के बाद पुलिस नहीं पहुंची थी।

उल्लेखनीय है कि छः मई की सुबह कादरचौक थाना क्षेत्र के गाँव खिरिया बाकरपुर में एक पक्ष पर अचानक हमला बोला गया था, जिसमें दानवीर यादव की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई एवं कई लोग घायल हुए थे। घटना के दिन ही पीड़ितों ने बताया था कि गाँव पर कई घंटे बवालियों का कब्जा रहा, जिसकी सूचना तत्काल पुलिस को दी गई, लेकिन बवाली जब तक घटना को अंजाम देकर चले नहीं गये, तब तक पुलिस नहीं पहुंची, यह भी बताया कि घटना के बाद एंबुलेंस को कॉल की गई, तो एंबुलेंस के पहुंचने के बाद पुलिस पहुंची।

उक्त घटना को अंजाम देने वाले एक नामजद का मोबाईल गिर गया, जो पीड़ित पक्ष के हाथ लग गया। मोबाईल में रिकॉर्डिंग सेव है, जिसे सुनने पर सनसनीखेज खुलासा हुआ। आरोपियों ने हत्याकांड को अंजाम देने की पहले से तैयारी की थी। हथियार जुटाए गये एवं पुलिस पर दबाव बनाया कि वह तत्काल एक्शन न ले। विक्रम सिंह ने एसएसपी को प्रार्थना पत्र और ऑडियो क्लिप देते हुए मुकदमा में भाजपा विधायक धर्मेन्द्र कुमार शाक्य का नाम शामिल करने की गुहार लगाई है। पीड़ित का आरोप है कि उसकी पुत्रवधू राशन डीलर है, जिसको लेकर विधायक ने एक लाख रूपये की मांग की थी, जो प्रार्थी ने नहीं दिए, तो विधायक ने गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी थी, जिसको लेकर विधायक ने आरोपियों की मदद की है। यहाँ यह भी बता दें कि वर्ष- 2012 के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में भगवान सिंह शाक्य की जीत सुनिश्चित मानी जा रही थी, पर चुनाव से पहले उनकी कोठी से इनामी बदमाश हरीश पहाड़ियाँ गिरफ्तार हो गया, जिससे वे चुनाव हार गये, इस चुनाव में उनके पुत्र धर्मेन्द्र कुमार शाक्य भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े और जीत गये, जिन पर अब गंभीर आरोप लगा है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)
संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

हत्याकांड को अंजाम देने के संबंध में आरोपी पक्ष एक-दूसरे से बात करते हुए एवं भाजपा विधायक धर्मेन्द्र कुमार शाक्य दारोगा से सिफारिश करते हुए, सुनने के लिए नीचे क्लिक करें

Leave a Reply