मुख्यमंत्री ने किया फिल्म, टीवी और लिबरल आर्ट्स संस्थान का शिलान्यास

फिल्म, टेलीविज़न एवं लिबरल आर्ट्स संस्थान, उत्तर प्रदेश का शिलान्यास के अवसर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, साथ में हैं जया बच्चन, अनुराग कश्यप और अभिषेक बच्चन।

उत्तर प्रदेश में सदैव से संस्कृति, साहित्य एवं कला के प्रति लोगों का अनुराग रहा है। यही कारण है कि यहां की तमाम विभूतियों ने देश एवं दुनिया में अपने साथ-साथ प्रदेश का भी नाम रौशन किया है, इसीलिए समाजवादी सरकार फिल्म, टेलीविज़न एवं लिबरल आर्ट्स जैसे संस्थान की स्थापना का काम कर रही है।

उक्त विचार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ स्थित लोक भवन में आयोजित किये गये फिल्म, टेलीविज़न एवं लिबरल आर्ट्स संस्थान, उत्तर प्रदेश का शिलान्यास करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि यह संस्थान सुविधाओं, पठन-पाठन तथा प्रशिक्षण की दृष्टि से दुनिया के बेहतरीन संस्थानों में होगा। समाजवादी सरकार प्रदेश की समृद्ध कला एवं संस्कृति की विरासत को फिल्मों के माध्यम से प्रचारित-प्रसारित करने के लिए फिल्म निर्माताओं एवं कलाकारों को हर सम्भव सहयोग प्रदान करेगी। प्रदेश में बनी 21 फिल्मों के प्रतिनिधियों को फिल्म नीति के तहत 9 करोड़ 41 लाख रुपए से अधिक का अनुदान वितरित करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य सरकार फिल्म निर्माण के लिए जरूरी वातावरण बनाने हेतु लगातार काम कर रही है।

राज्य सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों की चर्चा करते हुए श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने जहां देश के सबसे लम्बे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का निर्माण रिकाॅर्ड समय में कराया, वहीं मेट्रो रेल परियोजनाओं को जमीन पर उतारने का काम भी किया। दुनिया में सर्वाधिक निःशुल्क लैपटाॅप वितरित करके प्रदेश के छात्र-छात्राओं को तकनीकी रूप से सक्षम बनाने का काम किया गया। प्रदेश के 55 लाख गरीब परिवारों को समाजवादी पेंशन योजना का लाभ दिलाया जा रहा है। गोमती नदी के किनारे आबादी के बीच जनेश्वर मिश्र जैसा हरा-भरा पार्क बनवाया गया। आगे प्रदेश के लोगों को समाजवादी स्मार्ट फोन योजना के तहत निःशुल्क मोबाइल सेट वितरित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने समाजवादी सरकार द्वारा बनवाए गए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर जब लोग यात्रा करेंगे, तो निश्चित रूप से इसी सरकार को दोबारा सत्ता में लाने का काम करेंगे। राज्य सरकार ने प्रदेश के विकास के लिए जिस प्रकार की कल्पना की थी, उसी के अनुरूप विश्वस्तरीय परियोजनाओं के निर्माण के साथ-साथ नौजवानों को रोजगार दिलाने के लिए काम किया जा रहा है, इस मौके पर मुख्यमंत्री ने अलिफ फिल्म का ट्रेलर भी जारी किया।

इससे पहले सांसद जया बच्चन ने मुख्यमंत्री को स्वप्न दृष्टा युवा नेता बताते हुए कहा कि सपना देखने वाला व्यक्ति ही विकास को जमीन पर उतार सकता है। मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार आलोक रंजन ने प्रदेश की फिल्म नीति को देश की सबसे अच्छी फिल्म नीति बताते हुए कहा कि इसमें क्षेत्रीय भाषाओं के साथ-साथ हिन्दी में फिल्म बनाने वालों को प्रोत्साहन की व्यवस्था की गई है। फिल्म नीति का ही परिणाम है कि इस समय प्रदेश में करीब 250 फिल्मों की शूटिंग के लिए आवेदन आ चुके हैं, जिनमें 70 फिल्मों की शूटिंग का काम भी चल रहा है। इसी कड़ी में प्रदेश में शूट की गई फिल्मों को आज अनुदान वितरित किया गया है।

एफ. टी. आई. आई पुणे के पूर्व डीन वीरेन्द्र सैनी ने प्रस्तावित संस्थान की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि 14 एकड़ में बनने वाले इस संस्थान में आधुनिक उपकरण मौजूद होंगे। भोजपुरी सिनेमा से जुड़े रवि किशन ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लागू की गई नई फिल्म नीति से प्रोड्यूसर्स को राहत मिल रही है। फिल्म निर्माता एवं निर्देशक अनुराग कश्यप ने कहा कि इस संस्थान के बन जाने से प्रदेश के कलाकारों को अपनी प्रतिभा को तराशने का मौका मिलेगा। सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशक सुधेश कुमार ओझा ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस मौके पर विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय, कई विधायक और मंत्री एवं राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष नवीन चन्द्र बाजपेयी, मुख्य सचिव राहुल भटनागर, सूचना सलाहकार ए. एम. खान, उपाध्यक्ष राज्य फिल्म विकास परिषद गौरव द्विवेदी, फिल्म अभिनेता अभिषेक बच्चन, कुणाल कपूर, जय राज, स्वाती शर्मा, राहुल मित्रा सहित फिल्म एवं साहित्य जगत से जुड़े लोग व अन्य तमाम गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिं

1877 करोड़ देते समय अखिलेश ने गिनाये नोटबंदी के दुष्परिणाम

यूपी को 60 हजार करोड़ की सौगात देकर अखिलेश यादव ने मचाई धूम

Leave a Reply

Your email address will not be published.