कार्यभार ग्रहण करते ही जिलाधिकारी के निशाने पर आया बीआरबी स्कूल

जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव

बदायूं में तैनात की गईं जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव ने शुक्रवार को जिला कोषागार पहुंचकर विधिवत कार्यभार ग्रहण कर लिया और फिर तत्काल कार्य में जुट गईं। उन्होंने कहा कि शासन की प्राथमिकताओं, जन शिकायतों, विकास कार्यों एवं नई परियोजनाओं के निर्माण कार्यों को विशेष प्राथमिकता दी जायेगी। प्रातः 9 बजे से पूर्वान्ह 11 बजे तक कार्यालय में बैठकर जन शिकायतों को सुनेंगी, साथ ही अन्य अधिकारी भी इस अवधि में अपने-अपने कार्यालय में उपस्थित रहकर जनता की शिकायतों को सुनकर गुणवत्तापूर्वक निस्तारण करायेंगे।

शुक्रवार को नवागत जिलाधिकारी ने सीडीओ अच्छे लाल सिंह यादव सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ जिला कोषागार पहुंच कर कार्यभार ग्रहण किया। नवागत जिलाधिकारी पीसीएस अफसर हैं और वर्ष- 2004 में में उन्हें आईएएस ग्रेड मिल गया था, इससे पहले वह सुलतानपुर, वाराणसी जिलों की विभिन्न तहसीलों में उप जिलाधिकारी, खादी बोर्ड की उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी, अपर निदेशक स्थानीय निकाय एवं ग्राम विकास, खाद्य एवं रसद विभाग में विभिन्न पदों के अतिरिक्त लखनऊ विकास प्राधिकरण में संयुक्त सचिव, गाज़ीपुर में मुख्य विकास अधिकारी तथा देवरिया में जिलाधिकारी के पद पर कार्यरत रही हैं। व्यवसायिक शिक्षा में विशेष सचिव के रूप में भी कार्य किया है। उन्होंने कहा कि शासन की प्राथमिकतायें ही उनकी प्राथमिकता होगी। शिक्षा और समाज कल्याण के कार्यों पर विशेष बल दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनता अपनी समस्याओं के लिए प्रातः 9 बजे से 11 बजे तक कार्यालय में निःसंकोच मिल कर अपनी समस्यायें एवं शिकायतें दे सकती है। उन्होंने कहा है कि जहां खामियां पाई जायेंगी, उन्हें हर हाल में दूर किया जाएगा। इस अवसर पर एडीएम प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव, एडीएम वित्त हवलदार यादव, नगर मजिस्ट्रेट श्रीराम यादव एवं एसटीओ प्रवीन कुमार त्रिपाठी सहित सभी एसडीएम मौजूद रहे। उन्होंने यह भी कहा कि पत्रकार बन्धुओं द्वारा दी गई जानकारी का अवश्य संज्ञान लिया जाएगा। पत्रकार समाचार प्रकाशन से पूर्व सम्बंधित अधिकारी से उसके सम्बंध में पुष्टि कर के समाचार प्रकाशित करें, तो ज्यादा बेहतर होगा।

नौ बजे से कार्यालय में बैठकर अधिकारी सुनेंगे शिकायतें

प्रदेश सरकार की नई व्यवस्था के तहत सभी अधिकारी प्रातः नौ बजे से अपने-अपने कार्यालय में उपस्थित होकर जन शिकायतों को सुनकर उनका निस्तारण करेंगे। जन शिकायतों की सुनवाई के लिए जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव आज 29 अप्रैल से प्रातः 9 बजे से पूर्वान्ह 11 बजे तक अपने कार्यालय में उपस्थित रहेंगी। कोई भी व्यक्ति निर्धारित अवधि में उपस्थित होकर शिकायत कर सकता है। डीएम ने कहा कि पीड़ितों की हर संभव सहायता की जाएगी। उन्होंने सभी अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि इस कार्य में कोई लापरवाही क्षम्यहोगी।

अवैध पार्किंग वसूली करने वाले ठेकेदारों को भेजें जेल

नवागत जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव ने कड़ा रुख अपनाते हुए निर्देश दिए कि नगर निकायों में अवैध पार्किंग वसूली पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए। दोष सिद्ध होने पर ठेकेदारों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराकर जेल भेजा जाए। उन्होंने कहा कि सभी पार्किंग स्थल पर निर्धारित दरों के साइन बोर्ड लगवाए जायें। बोर्ड न पाए जाने पर ठेकेदार के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। अवैध वसूली के सम्बंध में किसी निकाय से शिकायत मिली तो वहां के अधिशासी अधिकारी का भी उत्तरादायित्व तय किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सीधे गुज़रने वाले वाहनों से पार्किंग शुल्क लिए जाने का कोई नियम नहीं है। सभी निकायों में पार्किंग स्थल का एरिया निर्धारित होना चाहिए कि इस स्थान पर वाहन खड़े होने पर ही निश्चित दरों के अनुसार शुल्क वसूल किया जाएगा। पत्रकार वार्ता के दौरान प्राप्त जानकारी के अनुसार जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद से दूसरे प्रदेशों को जाने वाली प्राईवेट बसों की डग्गामारी पर भी पूर्ण लगाये जाये। लाइसेंस निरस्तीकरण के साथ ही विधिक कार्यवाही भी अमल मे लाई जाए।

तत्काल हटवायें सार्वजनिक सम्पत्तियों से अवैध कब्जे

डीएम के सामने सोत नदी के साथ अवैध कब्जों की बात उठाई गई, उन्होंने तहसीलवार सूची तैयार कर एक सप्ताह के अन्दर उपलब्ध कराने हेतु उप-जिलाधिकारियों को निर्देश दे दिए। उन्होंने कहा कि चकरोड, ग्राम सभा की भूमि, तालाब आदि स्थानों का स्थलीय निरीक्षण कर सूची तैयार की जाए। अवैध कब्जों को हटाने के लिए विशेष अभियान के तहत कार्यवाही कराई जाएगी और दोषियों को जेल भेजा जाएगा।

फूड प्वाइजनिंग मामले की जांच शुरू

जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव ने बीआरबी स्कूल की कैन्टीन के खाद्य पदार्थ खाने से बीमार हुए बच्चों की जांच प्रक्रिया शुरू करा दी है। मामले की जानकारी मिलते ही डीएम ने गंभीरतापूर्वक लेते हुए प्रकरण की प्राथमिक जांच हेतु नगर मजिस्ट्रेट, जिला विद्यालय निरीक्षक तथा जिला खाद्य अधिकारी को मौके पर भेज दिया है। उन्होंने कहा कि तत्काल प्रभाव से बीआरबी स्कूल की कैन्टीन को बंद कराया जाए। खाद्य पदार्थ का नमूना लिया जाए। बीमार बच्चों एवं उनके अभिभावकों के ब्यान भी दर्ज किए जायें। इस प्रकरण में जो भी दोषी होगा, उसके विरुद्ध कठोर कार्यवाही अवश्य कराई जाएगी।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply