तहसील दिवस में उठा पाकिस्तानी झंडा लहराने का मुद्दा, मुकदमा लिखाने की मांग

बिसौली स्थित तहसील दिवस में शिकायत सुनते डीएम पवन कुमार।
बदायूं जिले के बिसौली में आज तहसील दिवस आयोजित किया गया, जिसमें पाकिस्तानी झंडा लहराने वालों के विरुद्ध देश द्रोह का मुकदमा दर्ज कराने और धार्मिक स्थल का विवाद निपटाने की मांग की गई, साथ ही स्थानीय पुलिस-प्रशासन की भूमिका पर भी सवाल उठाया गया। संपूर्ण प्रकरण समझने के बाद जिलाधिकारी ने जांच का आदेश दिया है।
उल्लेखनीय है कि बिसौली में निकाले गये जुलुस-ए-मुहम्मदी के दौरान पाकिस्तानी झंडा लहराने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया था, जिसको लेकर तनाव उत्पन्न हो गया, साथ ही धार्मिक स्थलों का विवाद भी उछाल दिया गया, तो पुलिस ने एक पक्ष के अट्ठारह लोगों को नामजद करते हुए तीन सौ अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया, साथ ही अगले दिन बिसौली में धारा- 144 भी लगा दी गई। उक्त प्रकरण को लेकर आज तहसील दिवस में तमाम लोग जिलाधिकारी से मिले और पाकिस्तानी झंडा लहराने वालों के विरुद्ध देश द्रोह की धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कराने की मांग की एवं नाथ जी के मन्दिर की बाउन्ड्रीवॉल बनवाने और बराबर में निर्माणाधीन मस्जिद की जमीन की पैमाइश कराने की भी मांग की। लोगों ने एकतरफा कार्रवाई करने को लेकर स्थानीय पुलिस-प्रशासन की भूमिका पर भी सवाल खड़ा किया, इस पर जिलाधिकारी ने जाँच के आदेश दे दिए हैं।
इसके अलावा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महेन्द्र यादव की उपस्थिति में जिलाधिकारी पवन कुमार ने जन-शिकायतों को सुनते हुए कोटेदारों की मनमानी पर शिकंजा कसने के निर्देश दिए कि खाद्यान्न उठान के दिन सभी एसडीएम गोदाम पर स्वयं उपस्थित रहें और विभिन्न कोटेदारों के यहाँ भी अकस्मिक छापामारी करें तथा हेरा-फेरी करने वालों के साथ कोई रियायत न बरतें। चकबंदी विभाग की भी लगातार कई शिकायतें प्राप्त होने पर डीएम ने निर्देश दिए कि चकबंदी अधिकारी प्रत्येक शुक्रवार और शनिवार को अनिवार्य रूप से तहसील स्तरीय अपने कार्यालय में उपस्थित होकर विभाग से सम्बंधित समस्याओं का समाधान करायें। तहसील स्तर पर जल निगम से सम्बंधित किसी अधिकारी के न होने पर डीएम ने अधिशासी अभियंता जल निगम को निर्देश दिए हैं कि सप्ताह में दो दिन तहसील में उपस्थित होने के लिए किसी जेई को नामित कर दें, जिससे समस्याओं का समय से समाधान होता रहे।
तहसील दिवस में विभिन्न विभागों से सम्बंधित कुल 87 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिसमें 09 शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण करा दिया गया। तहसील क्षेत्र के विद्युत उपभोक्ताओं को त्रुटिपूर्ण बिल प्राप्त हो रहे हैं। डीएम ने बिसौली खण्ड के अधिशासी अभियंता एससी सागर को अपने समक्ष तलब कर निर्देश दिए हैं कि बरेली स्थित कम्प्यूटर बिलिंग सर्विस सेंटर के अधिशासी अभियंता से संपर्क कर सभी बिलों को तत्काल ठीक कराया जाए, जिससे उपभोक्ताओं को अनावश्यक रूप से कार्यालयों के चक्कर न लगाने पड़ें। ग्राम पिवारी के धनपत सिंह ने अवगत कराया कि गांव के सुरेश चन्द्र, अमीना, फूलवती, नेकसो देवी, राम चरन, सर्फ उद्दीन, बुद्धवती, ओमपाल एवं प्रेमवती का तीन वर्ष पूर्व देहांत हो चुका है और उनके नाम पर अभी भी पेंशन आ रही है, जबकि गांव में कई और लोग पात्र हैं, उन्हे किसी भी प्रकार की पेंशन का लाभ नहीं मिल रहा है। डीएम ने सम्बंधित विभागीय अधिकारियों को जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
तहसील बिसौली में ग्राम पंचायत रानेट गोविंदपुर की ग्राम प्रधान शशिदेवी ने शिकायत की कि गांव के राजवीर एवं भूरे पुत्र अमर सिंह दो बार ग्रामसभा की भूमि पर अवैध कब्जा कर चुके हैं। लेखपाल और कानूनगो बार-बार पैमाइश कराकर अवैध कब्जा हटवा देते हैं, लेकिन उसके बाद भी उक्त दोनों लोग पुनः कब्जा कर लेते हैं। डीएम ने हल्का लेखपाल राजेन्द्र पाल तथा बिसौली के कोतवाल लोकेन्द्र पाल सिंह को अपने सामने तलब कर निर्देश दिए हैं कि दोनों दोषियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करा दी जाए।
ग्राम उरैना की महरुलनिशा ने शिकायत की कि उसके आवासीय पट्टे पर दबंगों का कब्जा है। डीएम ने लेखपाल को निर्देश दिए हैं कि दो दिन के अंदर पट्टाधारक को कब्जा दिलाया जाए, अन्यथा लेखपाल के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। तहसील दिवस में अधिवक्ताओ के शिष्टमंडल ने दाखिल-खारिज़ न होने तथा तहसील में किसी नायब तहसीलदार की तैनाती न होने के कारण राजस्व अभिलेखों की नकल मिलने में असुविधा होने की शिकायत करते हुए किसी नायब तहसीलदार को सप्ताह में दो दिन के लिए तहसील बिसौली से सम्बद्ध किए जाने का अनुरोध किया। इस अवसर पर प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानकी प्रभाग समीर कुमार, एसडीएम बिसौली रामदत्तराम, तहसीलदार संजय सिंह सहित अन्य सम्बंधित जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।
संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply