समस्याओं का अंबार, सीडीओ ने दिए निराकरण के निर्देश

तहसील दिवस में शिकायतें सुनते प्रभारी डीएम प्रताप सिंह भदौरिया व अन्य जिला स्तरीय अधिकारी।
तहसील दिवस में शिकायतें सुनते प्रभारी डीएम प्रताप सिंह भदौरिया व अन्य जिला स्तरीय अधिकारी।
बदायूं जिला प्रशासन द्वारा पीड़ित किसानों को दिए गए कृषि निवेश अुनदान तथा सूखा राहत सहायता के चेकों का शत-प्रतिशत भुगतान न होने के कारण कई किसान बैंक और तहसील के चक्कर काटते नजर आ रहे हैं। तहसील तथा बैंक अधिकारी एक दूसरे की कमियां निकालते हुए अपना पल्ला झाड़ लेते हैं, लेकिन अभी तक उन्हें राहत नहीं मिल सकी है, ऐसे ही कई किसानों ने तहसील दिवस में अपना दर्द सुना कर भुगतान कराने की फरियाद की, जिस पर मुख्य विकास अधिकारी/प्रभारी जिलाधिकारी प्रताप सिंह भदौरिया ने चेकों में छोटी-छोटी खामियों को दुरूस्त कर शाखा प्रबन्धकों को हिदायत दी है कि किसानों के चेकों के भुगतान में अनावश्यक विलम्व न किया जाए।
मंगलवार को तहसील सदर में आयोजित तहसील दिवस में प्रभारी डीएम, एसएसपी सौमित्र यादव ने जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ जन समस्याओं व शिकायतों को सुना। ग्राम सिंगरौरा के सियाराम, रामपाल तथा प्रेम दास सहित अन्य कई ग्रामीण अपने अपने चेक लेकर तहसील दिवस में पहुंचे और फरियाद की कि चेक में दर्ज नाम तथा पिता का नाम बैंक खाते में दर्ज नाम से मैच न होने के कारण उनका अब तक भुगतान नहीं हो रहा है। प्रभारी डीएम ने निर्देश दिए कि किसानों की हर सम्भव मदद की जाए, जिससे उनके चेकों का भुगतान हो सके, इतना ही नहीं हद तो तब हो गई, जब ग्राम जुगपुरा के रामेश्वर ने शिकायत की कि उसका 1800 रूपए का चेक पंजाब नेशनल बैंक की ककराला शाखा के प्रबन्धक ने खो दिया और यह कह कर किसान को टहला दिया कि तहसील से दूसरा चेक बनवा कर लाएं तभी भुगतान सम्भव होगा। तहसील प्रशासन भी बिना अभिलेखीय सुबूत के दूसरा चेक बनाने में असमर्थ है। प्रभारी डीएम ने सम्बंधित शाखा के प्रबन्धक के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। मोहल्ला लोटनपुरा के अच्छन वाल्मीकि ने शिकायत की कि उसने लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व वृद्धावस्था पेंशन हेतु आवेदन किया था, लेकिन अभी तक उसको पेंशन नहीं मिली है, जबकि वह कई बार तहसील दिवसों में प्रार्थना पत्र दे चुका है। प्रभारी जिलाधिकारी ने जिला समाज कल्याण अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि जांच कर एक सप्ताह में उन्हें आख्या दी जाए कि अब तक पेंशन स्वीकृत किन कारणों से नहीं हुई। उन्होंने यह भी निर्देश दिए जो बाबू दोषी पाया जाए, उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाए। ग्राम पंचायत नाई मिघौनिया ब्लाक जगत के प्रधान सत्येन्द्र कुमार ने शिकायत की कि प्राथमिक विद्यालय डुमैंरा में वर्ष 2013-14 से सहायक अध्यापक तरूण शर्मा नहीं जा रहे हैं। 05 अगस्त, 2015 को तहसील दिवस में इस सम्बन्ध में दी गई शिकायत को यह कहते हुए निस्तारण कर दिया गया कि सम्बंधित सहायक अध्यापक को छात्रवृत्ति कार्याें के निष्पादन हेतु कार्यालय कार्य में लगा दिया गया है और अब उसे स्कूल में शिक्षण कार्य हेतु भेज दिया गया है, लेकिन सहायक अध्यापक अब भी विद्यालय नहीं जा रहा है, जबकि स्कूल मात्र एक शिक्षा मित्र के सहारे चल रहा है। प्रभारी डीएम ने जांच कर दोषी पाए जाने पर शिक्षक के विरूद्ध कार्रवाई करने को कहा है। तहसील दिवस में विद्युत, शिक्षा, समाज कल्याण, पुलिस, लोक निर्माण, आपूर्ति आदि विभागों के साथ ही सबसे अधिक राजस्व विभाग से सम्बंधित शिकायतें प्राप्त हुईं। कुल प्राप्त 69 शिकायतों में 21 शिकायतों का मौके पर निस्तारण कराया गया।

Leave a Reply