मंगलवार को हुए सात नामांकन, कुशाग्र की नोंक-झोंक, शिवसेना की छवि खराब

नामांकन पत्र जमा करते सपा प्रत्याशी आशुतोष मौर्य “राजू”।

बदायूं जिले में मंगलवार को सपा, भाजपा और शिवसेना सहित सात प्रत्याशियों ने अलग-अलग विधान सभा क्षेत्रों के लिए नामांकन पत्र दाखिल किए, वहीं दूसरी ओर 15 पर्चे भी खरीदे गए, इस दौरान भाजपा प्रत्याशी कुशाग्र सागर, उनके पिता पूर्व विधायक योगेन्द्र सागर व साथ आये लोगों की दबंगई के चलते पुलिस से तीखी नोंक-झोंक भी हो गई।

बदायूं जिले की बिसौली विधान सभा क्षेत्र के लिए समाजवादी पार्टी से लोकप्रिय विधायक आशुतोष मौर्य “राजू”, समय निकल जाने के कारण सोमवार को नामांकन पत्र जमा नहीं कर पाये, उनके साथ नामांकन प्रक्रिया के पांचवें दिन भारतीय जनता पार्टी से कुशाग्र सागर एवं जन शक्ति पार्टी से जगवीर ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया, इसी विधान सभा क्षेत्र से प्रजा शक्ति पार्टी की ओर से जगवीर एवं जन अधिकार मंच से कुमारी यशोदा ने नामांकन पत्र खरीदा। सहसवान विधान सभा क्षेत्र में कोई भी नामांकन पत्र दाखि़ल नहीं हुआ, लेकिन भारतीय जनता पार्टी से जितेन्द्र यादव ने चार पर्चे खरीदे। बिल्सी विधानसभा के लिए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चन्द्र भान सिंह ने नामांकन पत्र दाखिल किया और फखरुद्दीन एवं विशाल ने पर्चे खरीदे।

बदायूँ विधान सभा क्षेत्र से राम सेवक सिंह ने शिवसेना प्रत्याशी के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया, वहीं समाजवादी पार्टी के चर्चित प्रत्याशी आबिद रजा का नामांकन पत्र सोमवार को अपूर्ण होने के चलते जमा नहीं हो सका, जिससे उन्होंने मंगलवार को पुनः संशोधित नामांकन पत्र दाखिल किया तथा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मुजफ्फर अली ने नामांकन पत्र खरीदा।

शेखूपुर विधान सभा क्षेत्र के लिए राष्ट्रीय मजदूर एकता पार्टी से प्रीति कश्यप ने नामांकन पत्र दाखिल किया और महान दल के कामता प्रसाद ने पर्चा खरीदा। दातागंज विधान सभा क्षेत्र के लिए कोई भी नामांकन पत्र दाखिल नहीं हुआ, लेकिन भारतीय जनता पार्टी से राजीव कुमार सिंह “बब्बू”, पीस पार्टी से शैलेन्द्र पाठक, निषाद पार्टी से धर्मेन्द्र पाल, देश शक्ति पार्टी से मान सिंह एवं निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में राजेन्द्र सिंह ने नामांकन पत्र खरीदे।

पुलिस से झगड़ते भाजपा प्रत्याशी कुशाग्र सागर।

कुशाग्र सागर सोमवार को भी नामांकन पत्र जमा करने आये थे, लेकिन समय निकल जाने के कारण पुलिस ने उन्हें गेट के अंदर नहीं घुसने दिया, इसलिए आज पुनः आना पड़ा, पर आज अंदर अधिक लोगों को ले जाने के कारण गेट पर ही पुलिस से तीखी नोंक-झोंक हो गई। भाजपाईयों ने दबंगई के बल पर पुलिस को झुकाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने कलेक्ट्रेट परिसर में अधिक लोगों को नहीं जाने दिया, जिससे कुशाग्र के पिता पूर्व विधायक योगेन्द्र सागर को बाहर ही रहना पड़ा।

नामांकन पत्र जमा करते शिवसेना प्रत्याशी राम सेवक सिंह पटेल।

यहाँ यह भी बता दें कि कट्टरपंथी दल शिवसेना से कट्टरपंथी छवि के रामसेवक सिंह के प्रत्याशी बनने की घोषणा हुई, तो बड़ी संख्या में लोग शिवसेना से जुड़ने को तैयार हो गये, लेकिन अब सूत्रों का कहना है कि बेहद खराब छवि के लोगों को भी शिव सेना प्रत्याशी बनाने जा रही है, जिसका दुष्प्रभाव रामसेवक पटेल को भी झेलना पड़ेगा। सूत्रों का कहना है बिल्सी विधान सभा क्षेत्र से शिव सेना बदनाम छवि के कथित पत्रकार को प्रत्याशी बनाने जा रही है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

रामसेवक पटेल का जुलुस देखने के लिए वीडियो पर क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.