डीजे बंद कराने गये सिपाहियों पर हमला, एक सिपाही की मौत

घायल सिपाही को एंबुलेंस से उतार पर इमरजेंसी वार्ड में ले जाते लोग।
घायल सिपाही को एंबुलेंस से उतार पर इमरजेंसी वार्ड में ले जाते लोग।

बदायूं जिले में पुलिस कभी इतनी निरंकुश व लापरवाह हो जाती है कि नियम-कानून को उठा कर ताक में रख देती है और कभी इतनी कमजोर हो जाती है कि एक आम सिरफिरा भारी पड़ जाता है। एक सिरफिरे व्यक्ति के हमले में घायल हुए दो सिपाहियों में से एक की जान चली गई है एवं दूसरा सिपाही जिंदगी से जूझ रहा है।

घायल सिपाही।
घायल सिपाही।

घटना बदायूं जिले में स्थित बिल्सी थाना क्षेत्र के गाँव गढ़ौली की है। बताते हैं कि रिसौली पुलिस चौकी पर तैनात सिपाहियों को गाँव गढ़ौली में डीजे बजा कर हंगामा करने की सूचना मिली, तो सिपाही मोहम्मद शहीम और भीमसेन देर शाम डीजे बंद कराने पहुंच गये। सिपाहियों के मना करने पर शराब के नशे में धुत सिरफिरा व्यक्ति फावड़ा लेकर हमला करने लगा। फावड़े के वार से दोनों सिपाही लहूलुहान होकर गिर गये, तो हमलावर भाग गया।

फोन से उच्चाधिकारियों को घटना के संबंध में जानकारी देते एसएसपी सौमित्र यादव।
फोन से उच्चाधिकारियों को घटना के संबंध में जानकारी देते एसएसपी सौमित्र यादव।

घायल सिपाहियों को किसी तरह जिला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टर ने प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को बरेली के लिए रेफर कर दिया। बताते हैं कि दोनों की हालत गंभीर बनी हुई थी। सूत्र का कहना है कि बरेली स्थित राममूर्ति स्मारक मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान शहीम ने दम तोड़ दिया, साथ ही भीमसेन को आईसीयू में रखा गया है। उधर एसएसपी सौमित्र यादव अधीनस्थों के साथ जिला अस्पताल पहुंचे और दोनों सिपाहियों की हालत देखने के बाद उन्होंने पुलिस व पीएसी भेज कर हमलावर को पकड़ने का निर्देश दिया है। सूत्रों का कहना है कि आक्रोशित पुलिस व पीएसी अन्य घरों में भी तोड़-फोड़ कर रही है, वहीं लोग यह भी सवाल करते दिख रहे हैं कि चुनाव व बोर्ड परीक्षाओं को लेकर धारा- 144 लागू है, ऐसे में रात भर जिला मुख्यालय पर डीजे कैसे बजता रहता है?, जबकि रात 12 बजे के बाद सामान्य दिनों में भी डीजे नहीं बजाया जा सकता।

Leave a Reply