लाभार्थियों को समारोह तक लाने में असफल रहा जिला प्रशासन

लाभार्थियों के साथ बनवारी सिंह यादव, डॉ. यासीन अली उस्मानी और अन्य तमाम नेता व अधिकारीगण।
बदायूं स्थित इस्लामियां इंटर कॉलेज के मैदान में रविवार को एक समारोह आयोजित किया गया, जिसके मुख्य अतिथि प्रदेश के पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष व दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव एवं विशिष्ट अतिथि प्रदेश के राज्य श्रम संविदा सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना डॉ. यासीन अली उस्मानी रहे। अतिथियों ने संयुक्त रूप से प्रदेश सरकार द्वारा संचालित अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग, सामान्य जाति तथा अनुसूचित जाति की पुत्रियों की शादी अनुदान योजना के तहत 1113 लाभार्थियों को प्रति लाभार्थी बीस हजार रूपए की दर से दो करोड़ 22 लाख 60 हजार रूपए के स्वीकृति पत्र वितरित किए। शासन द्वारा सभी लाभार्थियों के बैंक खातों में सीधे ऑनलाइन धनराशि भेजी जा चुकी है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बनवारी सिंह यादव ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसी विशेष जाति एवं वर्ग के लिए नहीं, बल्कि सभी गरीब लोगों की बेटियों की शादी के लिए शादी अनुदान योजना शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि गरीबी के कारण पुत्रियों की शादी में आने वाली समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुए निर्धन व्यक्तियों के हितार्थ यह अनुदान योजना लाभप्रद साबित हुई है। योजना को पारदर्शी बनाने हेतु आवेदन से लेकर भुगतान तक सभी कार्य सरकार द्वारा ऑनलाइन कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि सांसद धर्मेन्द्र यादव के प्रयासों से जनपद में सभी क्षेत्रों में विकास कार्य हुए हैं। उन्होंने जिलाधिकारी पवन कुमार तथा सीडीओ अच्छे लाल सिंह यादव की लगन और सहनशीलता की प्रसंशा करते हुए कहा कि दोनों वरिष्ठ अधिकारियों की मेहनत के कारण शासन की योजनाओं का लाभ ग्रामीण अंचलों तक पारदर्शी ढंग से पहुंच रहा है।
श्रम संविदा सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना यासीन अली उस्मानी ने अपने सम्बोधन में कहा कि दूसरों की खिदमत करने वाला ही सबसे बेहतर इंसान होता है। व्यक्ति की मुख्य जरूरत रोटी, कपड़ा और मकान है। इसी को मद्देनजर रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा आवासीय योजनाओं के साथ विभिन्न पेंशन योजनाएं और अन्य तमाम कार्यक्रम शुरू कर जनता की मदद कराने का कार्य किया गया। उन्होंने कहा कि धनाभाव के कारण तमाम लड़कियों की शादी में अनगिनत समस्याएं आती हैं, इसीलिए सरकार ने सभी वर्गों के गरीबों की पुत्रियों के लिए जो योजना शुरू की गई है, वह अति सराहनीय कार्य है।
जिलाधिकारी पवन कुमार ने सभी वर्गों के लिए चलाई जा रही शादी अनुदान योजना पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जनपद में अनुसूचित जाति की 270 पुत्रियों के लिए 54 लाख, सामान्य जाति की 85 पुत्रियों के लिए 17 लाख, पिछड़ा वर्ग की 356 पुत्रियों के लिए 71 लाख 20 हजार तथा अल्पसंख्यक वर्ग की 402 पुत्रियों की शादी के लिए 80 लाख 40 हजार रूपए के स्वीकृति पत्र बांटे गए हैं। उन्होंने कहा शादी अनुदान योजना पूरी तरह से ऑनलाइन कर दी गई है, लेकिन इसके अलावा अन्य आवासीय, ऋण, पेंशन, अनुदान योजनाओं को पूर्ण पारदर्शी बनाने पर विशेष बल देते हुए प्रयास किए जा रहे हैं कि शासन की योजनाओं का लाभ केवल पात्र लोगों को ही मिले। अन्त में सीडीओ अच्छे लाल सिंह यादव ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में दातागंज के पूर्व विधायक प्रेमपाल सिंह यादव ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए शादी अनुदान योजना को बेहतर योजना बताया। कार्यक्रम का शुभारम्भ फीता काटकर तथा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।
जिला भूमि संरक्षण अधिकारी/प्रभारी जिला समाज कल्याण अधिकारी नरेन्द्र पाल सिंह यादव ने कहा कि पुत्री की शादी से 90 दिन पूर्व अथवा 90 दिन बाद तक किसी भी साइबर कैफे, निजी इंटरनेट एवं विभागीय वेबसाइट से सीधे आवेदन किया जा सकता है। ऑनलाइन आवेदन के पश्चात तीस दिन के अन्दर हार्ड कापी सम्बंधित कार्यालय में जमा करना होगी। शादी अनुदान योजना के तहत पहले दस हजार का अनुदान दिए जाने की व्यवस्था थी लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा इसे अब बीस हजार रूपए कर दिया गया है। इस अवसर पर उप निदेशक कृषि प्रसार आरपी चौधरी, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी जहीर अब्बास, सेवानिवृत्त जिला समाज कल्याण अधिकारी एनके पाठक सहित लाभार्थी मौजूद रहे।
उधर जिला प्रशासन की असफलता भी नजर आई, क्योंकि सरकार की मंशा के अनुरूप प्रशासन समस्त लाभार्थियों को समारोह में लाने में असफल साबित हुआ। मौके पर लाभार्थियों की संख्या बेहद कम थी, इस दृष्टि से समारोह असफल ही कहा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.