“माई च्वाइस” के खुल कर विरोध में आईं लेखिका उषा राठोड़

लेखिका उषा राठोड़
लेखिका उषा राठोड़

होमी अदजानिया के निर्देशन में बनाया गया दीपिका पादुकोण का वीडियो ‘माई च्वाइस’ विवादों में है। दावा किया जा रहा है कि इस वीडियो में दीपिका पादुकोण ने 98 महिलाओं के साथ महिलाओं की जिन्दगी के सभी पहलुओं पर आवाज बुलन्द कर महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने का प्रयास किया है। वीडियो में सवाल किया गया है कि महिलाओं को कैसे कपड़े पहनने हैं, किससे प्यार करना है और किससे सेक्स करना है वगैरह-वगैरह की हिदायतें दी जाती हैं, लेकिन वीडियो में दीपिका कहती हैं, “मैं अपनी पसंद के हिसाब से जिंदगी गुजारना चाहती हूं। जैसा चाहूं वैसे कपड़े पहनूं, मर्द से प्यार करूं या औरत से, यह मेरी मर्जी है। शादी से पहले सेक्स करूं, शादी के बाद सेक्स करूं या न करूं, यह मुझ पर निर्भर है।”  ब्लैक एंड व्हाइट फॉरमेट में बने 2.34 मिनट के इस वीडियो में दीपिका पादुकोण, जोया अख्तर, अधुना अख्तर, अनीता अदजानिया, निमरत कौर, अनुपमा चोपड़ा सहित 99 महिलाओं ने अभिनय किया है। हालांकि इस वीडियो को अधिकांश लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। पुरुष तो अधिकांशतः चटखारे ही ले रहे हैं, इस बीच लेखिका उषा राठोड़ ने साहस के साथ दीपिका से सवाल किया है। उन्होंने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा है कि …

दीपिका पादुकोण जी आप अपने किसी खास वर्ग की औरतों के बारे में बात कर रही होंगी, क्योंकि चॉइस पर दुनिया चलने लगी तो आपकी कोई चॉइस ही नहीं बचेगी … माय चॉइस के निर्देशक होमी अदजानिया और दीपिका जी अगर आपके माता पिता भी अपनी चॉइस से जिंदगी जीते तो आप आज यहाँ नहीं होते, जहाँ हैं … कौन सी लड़ाई सिखा रहे हैं आप औरतों को माय चॉइस के नाम पे?
अरे लड़ना हैं तो अपनी पढाई के लिए लड़ो, कुछ कर गुजरने को लड़ो, आप अपने बच्चो को स्कूल लेकर जाओ और सारे टीचर ये कह दें कि हम सब पार्टी कर के सुबह 6 बजे लौटे हैं, इसलिए आज स्कूल नहीं खुलेगा, इट्स टीचर्स चॉइस ना?
आप अपने बच्चे को अपनी आया के भरोसे छोड़कर अपने पुरुष मित्र के साथ लेट नाईट पार्टी करेंगी, वापस घर सुबह 6 बजे लौटेंगी। … देखेंगी कि आपका बच्चा पॉटी, सू-सू से लथपथ पड़ा हैं, आपकी आया आपके बिल्डिंग के वाचमैन के साथ पार्टी करके मस्त टुन पड़ी हैं तो आप उसको मत डाँटना, बिकॉज़ हर किसी की चॉइस ना?
आपके एग्जाम सर पर हैं और आपके माता पिता अपनी चॉइस जी रहे हैं तो आप एक्टिंग का ए भी नहीं सीख़ पातीं और आपके जो ये निर्देशक साहब हैं ना, इनको माँ ने ही पेन-पेन्सिल पकड़ना सिखाया था, तब ये कैमरा पकड़ना सीखे… समझीं … बात करती हैं माय चॉइस !
आज की पीढ़ी के पास सिर्फ सिनेमा ही ऐसा माध्यम हैं, जिसे लोग बड़े चाव से देखते हैं। महापुरुषों की जीवनियाँ पढ़ने का वक़्त नहीं, न्यूक्लियर फैमिली में दादा-दादी नहीं हैं, जो कहानियाँ सुनायें ऐसे में सिर्फ सिनेमा ही माध्यम रह जाता हैं, जहाँ बच्चे या बड़े कुछ अच्छा सीख़ सकें, वहाँ आप माय चॉइस प्रदर्शित कर रही हैं ?
आपकी माँ भी इस चॉइस से एग्री नहीं करेगी, बात करती हैं माय चॉइस … और एक बात आपके निर्देशक साहब फुल पेण्ट और शर्ट में फंक्शन में आते हैं और आप उनका मनोरंजन करने के लिए ऐसे कपड़े पहनती हैं कि खुद को सम्भालना मुश्किल होता है, उन कपड़ो के साथ आप ठीक से बैठ तक नहीं सकतीं … बात करती हैं माय चॉइस … इंदिरा गाँधी ने तो साड़ी पहन कर देश सम्भाल लिया, आपसे एक स्कूटी नहीं संभलती? सेना में महिला जवान अपनी यूनिफार्म के साथ गोली बन्दुक लेकर सरहद सम्भाल लेती हैं, आप से एक दुपट्टा नहीं सम्भलता? … बात करती हैं माय चॉइस! … जिन पुरुषों के साथ तुम भरोसा करके लेट नाइट पार्टी की बात कर रही हो ना, वो पुरुष प्रेम के नाम पर कब तुम्हें चलती-फिरती लाश बना देंगे, पता भी नहीं चलेगा … दीपिका जी आप से अच्छी तो मेरी कामवाली है, जो हर घर में जाकर ये कह रही हैं कि भाभी में अपना बच्चा अकेला घर पे नहीं छोड़ सकती, क्या काम पर लेकर आऊँ? … क्योंकि उसे अपनी चॉइस पता हैं? … आप के क्लीवेज पर टिप्पणी हुई तो आपको बुरा क्यों लगा … आखिर पब्लिक की भी चॉइस हैं? … निर्देशक होमी अदजानिया, इन्ही साहब ने कॉकटेल में अपनी चॉइस से जीने वाली को क्लाइमेक्स में लात मार कर घरेलू, परन्तु स्वाभिमानी लड़की को हीरो की हीरोइन बना दिया … इस वीडियो की स्क्रिप्ट ऐसे भी तो लिखी जा सकती थी?
कि में अपनी अधूरी छूट गई पढाई फिर पूरी करुँगी इट्स माय चॉइस … मैं घर के साथ आपका बिजनैस भी सम्भालूंगी इट्स माय चॉइस … एक बेटी होने के बाद दूसरी बेटी के होने पर तीसरा बच्चा पैदा नहीं करुँगी इट्स माय चॉइस … बेटी को गर्भ में नहीं मरने दूंगी इट्स माय चॉइस … दहेज़ नहीं लाऊंगी इट्स माय चॉइस … जब तक अपने पैरों पर खड़ी नहीं होउंगी शादी नहीं करुँगी इट्स माय चॉइस … अपने माता-पिता को अपने साथ रखूंगी इट्स माय चॉइस … तुम्हारी ऑफिस की पार्टी में शोपीस बनकर नहीं जाऊँगी इट्स माय चॉइस … बेवकूफ औरतों, अपने इम्पावरमेंट के लिए कौन सी स्क्रिप्ट चूज़ करनी है, ये भी नहीं आता ! … और हाँ अपने वीडियो के व्यूवर देख कर ज्यादा खुश न हो, पसंद बहुत कम लोगों ने किया है समझीं? … बात करती हैं इट्स माय चॉइस … ।

नैतिकता के पैमाने से टीओआई और दीपिका दोनों ही बाहर

फिल्म भाग्य को मिला एक और अवार्ड

Leave a Reply