आजम को सुर्खियों में रहने की बीमारी है, पागलपन के बयान देने के आदी हैं

बदायूं जिले के प्रभारी मंत्री और उत्तर प्रदेश सरकार में श्रम समन्वय एवं सेवायोजन विभाग के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने विकास भवन स्थित सभागार में बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि लापरवाही बर्दास्त नहीं की जायेगी। माफियाओं और अपराधियों के साथ कोई नरमी नहीं बरती जायेगी।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने गुरुवार सुबह करीब 10: 00 बजे सोत पर भ्रमण किया और फिर जिला अस्पताल में छापा मारा। छापे के दौरान कैंपस में इधर-उधर खड़े वाहनों को देखते ही उन्होंने कोतवाली पुलिस को वाहन सीज करने के निर्देश दिए थे, जिस पर पुलिस ने तत्काल कार्रवाई कर दी, वे वार्डों में पहुंचे, तो मरीजों और तीमारदारों की शिकायत पर उन्होंने साथ में मौजूद जिलाधिकारी अनीता श्रीवास्तव को निर्देश दिए कि सीएमएस प्रवीणा माहेश्वरी और सर्जन आरएस यादव के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई करें। स्वामी प्रसाद मौर्य छापे के बाद सीधे विकास भवन चले गये, जहां उन्होंने बैठक की अध्यक्षता करते हुए विकास कार्यों की समीक्षा के साथ अस्पताल में दिए निर्देशों की प्रगति जानी और फिर दोहराया कि सीएमएस प्रवीणा माहेश्वरी के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई की जाये। जिलाध्यक्ष हरीश कुमार शाक्य, सदर विधायक महेश चंद्र गुप्ता और शेखूपुर क्षेत्र के विधायक धर्मेन्द्र कुमार शाक्य “पप्पू” मौजूद रहे।

विधायक आरके ने कछला में अवैध खनन, नगर पालिका उझानी, बिल्सी व नगर पंचायत कछला में वाहन पार्किंग के नाम पर वाहनों से हो रही अवैध वसूली की शिकायत की, साथ ही क्षेत्र में सट्टेबाजों पर अंकुश लगाने हेतु प्रभावी कार्यवाही किए जाने पर बल दिया। प्रभारी मंत्री ने दोषियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए। नगर विधायक द्वारा ग्रामों में विद्युत् की कमी व खराब ट्रांसफार्मरों को समय से न बदलने की शिकायत की गई। भाजपा जिलाध्यक्ष द्वारा ट्यूबेल के कनेक्शन में विभाग द्वारा सामग्री की आपूर्ति में की जा रही मनमानी से अवगत कराया गया, इस पर प्रभारी मंत्री ने निर्देश दिए कि ट्यूबेल कनेक्शन सामग्री का वितरण में पूर्ण पारदर्शिता अपनाते हुए जमा की गई धनराशि के क्रम में सामग्री की आपूर्ति की जाये एवं उपलब्ध धनराशि का विवरण नोटिस बोर्ड पर अंकित किया जाये।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि वह इस सत्र से प्राथमिक विद्यालयों में अंग्रेजी विषय का प्रचार प्रसार बाल पेंटिंग कराकर करें। गड्ढा मुक्ति अभियान की समीक्षा करते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि सम्बन्धित विभाग अवशेष कार्य पूर्ण कराते हुये कराये गये कार्यों की सूची व फोटोग्राफ विधायकों एवं उन्हें उपलब्ध करा दें। जन शिकायतों का गुणवत्ता पूर्ण निस्तारण समय से कराया जाये। जिलाधिकारी ने जन प्रतिनिधियों से एक-एक ग्राम को ओडीएफ कराने में सहयोग करने का अनुरोध किया। पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने कानून व्यवस्था की स्थिति व अपराध नियन्त्रण हेतु पुलिस द्वारा की गई कृत कार्यवाहियों से उन्हें अवगत कराया। बैठक में यूपी- 100 पर नियुक्त कर्मचारियों द्वारा वसूली की शिकायत की गई। विधायक बिल्सी द्वारा छोटे वाहनों में क्षमता से अधिक सवारियां ले जाने पर दुर्घटना की आशंका को दृष्टिगत रखते हुए स्थिति पर अंकुश लगाने की मांग की गई। अन्त में उन्होंने अपने सम्बोधन में सभी अधिकारी, कर्मचारियों से सरकार की मंशा के अनुरूप कार्य प्रणाली में सुधार लाने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि जन सामान्य को कोई असुविधा न हो व अधिकारियों की अच्छी छवि जनता के बीच बने। कानून व्यवस्था में सुधार लाने के सम्बन्ध में अत्यधिक बल देते हुए कहा कि अपराधों को रोकने में सबसे अधिक भूमिका पुलिस की होती है। पुलिस संवेदनशील होकर कार्यवाही करे।

उन्होंने कहा कि भीभत्स हादसों पर जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक घटना स्थल पर तत्काल पहुँचकर प्रभावी कार्यवाही करायें। अपराधियों के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाये, अपराधियों में कानून का भय हो, ताकि अपराधी अपराध करने से डरें। कितने भी अच्छे विकास कार्य हों, यदि कानून व्यवस्था ठीक नहीं है, तो सरकार द्वारा कराये गये समस्त कार्य जनता के नजर में नहीं आते। कानून व्यवस्था में सुधार हेतु थानों में अधिक समय से कार्यरत स्टाफ को अन्य थानों में स्थानान्तरित कर दिया जाये। इसी प्रकार राजस्व विभाग में भी लम्बे समय से एक ही पटल पर कार्यरत कर्मचारियों के पटल भी 10 दिवस में बदल दिए जायें। उन्होंने सभी अधिकारियों को और अधिक बेहतर कार्य करने हेतु प्रेरित किया। अन्त में विकास भवन प्रांगण में मंत्री, विधायक एवं अधिकारियों ने वृक्षारोपण भी किया।

विकास भवन स्थित सभागार में बैठक की अध्यक्षता करते प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य एवं उपस्थित विधायकगण।

बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने सवाल के जवाब में कहा कि आजम खान को सुखियों में बने रहने की बीमारी है, इस प्रकार का पागलपन भरा बयान वे हर दो-तीन महीने में देने के आदी हैं। उन्होंने कहा कि देश द्रोह की श्रेणी का बयान है, जिस पर कानून काम करेगा, साथ ही कहा कि सैनिकों के प्रति सपा में थोड़ा सा भी सम्मान हो, तो वह आजम खान के विरुद्ध कार्रवाई करे। उन्होंने कहा मायावती को जनता ने भाजपा सरकार पर टिप्पणी करने लायक नहीं छोड़ा है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply