मुस्लिम कोतवाल को हटवाने को दारोगा ने ही रच डाला षड्यंत्र

ग्रामीणों से बात करते हुए एसडीएम, सीओ और कोतवाल।
ग्रामीणों से बात करते हुए एसडीएम, सीओ और कोतवाल।

मुस्लिम कोतवाल को हटवाने के उददेश्य से एक दारोगा ने ही सांप्रदायिक दंगा कराने का षड्यंत्र रच डाला। अति होने पर आज एक वर्ग लामबंद हो गया, तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसडीएम, सीओ और कोतवाल मौके पर पहुंच गये, तो षड्यंत्र का खुलासा हुआ। अफसरों ने क्षमा मांग कर आक्रोशित लोगों को शांत कर दिया, जिससे बड़ा बवाल होने से टल गया।

सनसनीखेज वारदात बदायूं जिले में स्थित बिसौली कोतवाली क्षेत्र की पुलिस चौकी दबतोरी क्षेत्र के गाँव लक्ष्मीपुर की है। बताते हैं कि यहाँ तैनात दारोगा धर्मेन्द्र यादव चार-पांच दिन पहले गाँव के मन्दिर पर पहुंचा और वहां मौजूद लोगों से कहा कि नमाज के समय लाउडस्पीकर न बजाया करें। लोगों ने कहा कि नमाज के समय लाउडस्पीकर बजता ही नहीं है। अगले दिन दारोगा फिर पहुंचा और कहा कि लाउडस्पीकर की आवाज धीमी रखा करें, तो लोगों ने कह दिया कि आवाज धीमी ही रहती है, इसके बाद दारोगा फिर पहुंचा और कहा कि लाउडस्पीकर की दिशा बदल देना, कल देखने आऊँगा, दिशा नहीं बदली, तो ठीक नहीं होगा।

दारोगा की चेतावनी की बात गाँव में फैल गई। दारोगा के आने के समय आज मन्दिर पर सैकड़ों लोग जमा हो गये, जिसकी भनक अफसरों तक पहुंच गई, तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसडीएम आरडी राम, सीओ नरेश कुमार और कोतवाल जमीरउल हसन गाँव पहुंच गये और उन्होंने मौके पर जमा लोगों से जानकारी ली, तो दारोगा धर्मेन्द्र यादव की हरकत जान कर सभी लोग स्तब्ध रह गये। खुलासा हुआ कि लाउडस्पीकर को लेकर किसी को कोई आपत्ति ही नहीं है और न ही किसी ने शिकायत की है, साथ ही लाउडस्पीकर शोर मचाने के उददेश्य से बजाया भी नहीं जाता। अफसरों ने फोन कर दारोगा धर्मेन्द्र यादव को मौके पर बुलाया, लेकिन वह मौके पहुंचा भी नहीं, इसके बाद एसडीएम, सीओ और कोतवाल ने दारोगा की हरकत से परेशान होने पर सभी से क्षमा मांगी, तब लोग तत्काल शांत हो गये।

सूत्रों का कहना है कि कोतवाल जमीरउल हसन ने क्षेत्र में ज्यादातर अवैध धंधे बंद करा दिए हैं, जिससे पुलिस की अवैध आमदनी भी बंद हो गई है, इसीलिए कोतवाली व क्षेत्र की चौकियों पर तैनात कुछेक सिपाही और दारोगा उनसे ईर्ष्या करने लगे हैं, उन्हें हटवाने के लिए राजनैतिक दबाव बनवाने लगे हैं, साथ ही क्षेत्र में कोई ऐसा सांप्रदायिक बवाल भी कराना चाहते हैं, जिससे जमीरउल हसन का स्थानांतरण हो जाये, ऐसे षड्यंत्र रचने वाले भ्रष्ट पुलिस कर्मियों के विरुद्ध तत्काल कड़ी कार्रवाई होनी अति आवश्यक है।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

आदेश के विरुद्ध बदनाम एसओ ने बेटे की रकम डीएम को दे दी

Leave a Reply