कोतवाल पर कोर्ट में मुकदमा, आबिद ने फिर लगाये आरोप

 इंस्पेक्टर संत प्रसाद उपाध्याय
इंस्पेक्टर संत प्रसाद उपाध्याय

बदायूं की सदर कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर संत प्रसाद उपाध्याय और बजाज एजेंसी के स्वामी राजू आहूजा के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कराने की शारिक उर्फ खिल्लू ने न्यायालय में गुहार लगाई है। प्रार्थना पत्र पर सुनवाई की तिथि न्यायालय ने 6 अक्टूबर तय की है। उधर विधायक आबिद रजा ने अफसरों पर सांसद धर्मेन्द्र यादव के इशारे पर कार्रवाई करने का आरोप लगाया है।

उल्लेखनीय है कि सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला ऊपरपारा से 20 सितंबर को दोपहर तीन बजे के करीब घर से खेलने निकला ढाई वर्षीय मोहम्मद हमजा नाम का बच्चा अचानक गायब हो गया था, उसकी मंगलवार को दोपहर के समय सदर विधायक आबिद रजा के आवास के पीछे लाश बरामद हुई थी। घर के पीछे लाश मिलने की सूचना पाकर मौके पर विधायक आबिद रजा भी पहुंच गये और सदर कोतवाल संत प्रसाद उपाध्याय पर अपने अंदर की भड़ास निकालने लगे, इस पर कुछ देर बहस करने के बाद कोतवाल मौके से दूर हट गये, जिससे नाले से लाश निकालने में दो-तीन घंटे की देरी हो गई। बाद में लाश निकाली गई और पोस्टमार्टम के लिए भेज दी गई, इस बीच पचास-साठ लोग हाथों में कोतवाल के विरुद्ध लिखी तख्तियां लेकर लालपुल स्थित हाईवे पर आ गये और नारेबाजी करते हुए रोड जाम कर दिया। हाईवे पर कई घंटे आतंक का राज रहा। पुलिस न सिर्फ सहमी रही, बल्कि एसओ सिविल लाइन एके सिंह के साथ बदतमीजी तक की गई। जाम के चलते सैकड़ों वाहन रोड पर खड़े रहे, जिससे बड़ी संख्या में लोग परेशान हुए, वहीं एंबुलेंस फंसने से कई मरीजों की जान पर बन आई थी।

उक्त प्रकरण में सदर कोतवाल संत प्रसाद उपाध्याय ने विधायक आबिद रजा के पीआरओ सरताज, राजेन्द्र मथुरिया, अहमद रजा, शहबाज, रियाज, फिरोज, रफत, अजमेरी, हसन, शाकिर, नईम और अकरम मिस्त्री को नामजद करते हुए 30-40 अज्ञात लोगों के विरुद्ध धारा- 147, 346, 504, 283, 120 (बी) और 7 क्रिमिनल लॉ के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कराया, इसी प्रकरण में शाकिर उर्फ खिल्लू ने आज सीजेएम के समक्ष प्रस्तुत होकर धारा- 156 (3) के अंतर्गत प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया, जिसमें मोहम्मद हमजा के अपहरण और हत्या का आरोप लगाया गया है। पीड़ित शाकिर ने मुकदमा पंजीकृत कराने की गुहार लगाई है, जिस पर अब 6 अक्टूबर को सुनवाई होगी।

उधर सदर विधायक आबिद रजा ने भी उक्त प्रकरण को लेकर आज पत्रकारों से बात की और सांसद धर्मेन्द्र यादव के इशारे पर मुकदमा दर्ज कराने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अफसर सांसद के इशारे पर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे गरीब और पीड़ितों के लिए लड़ते रहेंगे, साथ ही कहा कि जाम लगवाने और बवाल कराने में कोतवाल का ही हाथ है। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि उच्च न्यायालय ने डीएम को आदेश दिया है कि उन्हें सुरक्षा उपलब्ध कराई जाये।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

विधायक आबिद रजा के पीआरओ सहित 13 लोगों पर मुकदमा

मृतक के परिजनों के सहारे हाईवे जाम करने वालों पर मुकदमा

पालिका की गलती कोतवाल पर थोपने का प्रयास, जाम खुला

लापता मासूम की सदर विधायक के आवास के पीछे मिली लाश

Leave a Reply