गंगा, सोत, महाबा और अरिल नदी से खुलेआम हो रहा है अवैध खनन

अरिल नदी से लाई जा रही मिटटी एवं सहसवान कोतवाली पुलिस द्वारा छोड़ा गया ट्रैक्टर-ट्रॉली।

बदायूं जिले में अवैध खनन खुलेआम हो रहा है। खनन विभाग को अवैध खनन रोकने में कोई रूचि नहीं है, वहीं पुलिस भी मूकदर्शक बनी हुई है। लेखपाल अवैध खनन की रोकथाम की दिशा में कभी कार्रवाई नहीं करते और एसडीएम पूरी तरह बेखबर बने हुए हैं, जिससे भाजपा सरकार की जमकर फजीहत हो रही है।

जिले की चारों दिशाओं में अवैध खनन हो रहा है, लेकिन उसहैत, उझानी और कादरचौक थाना क्षेत्रों में खनन माफिया बड़े स्तर पर खनन करते नजर आ रहे हैं, इनके निशाने पर गंगा ही है, जहाँ से प्रतिदिन लाखों रूपये का रेत सप्लाई किया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि एक प्रभावशाली नेता के संरक्षण में ही यह सब हो रहा है, जिसका हिस्सा पुलिस भी ले रही है। उसहैत थाना पुलिस खनन में संलिप्त है, सो वह कार्रवाई नहीं कर रही। सोमवार को उसहैत क्षेत्र से बाहर निकलते ही अलापुर थाना पुलिस ने अवैध रेत से भरे 28 डनलप पकड़ लिए थे, जिस पर कई नेता बौखला भी गये हैं।

इसी तरह बिसौली कोतवाली क्षेत्र में सोत और अरिल नदी से रात-दिन अवैध खनन किया जा रहा है। अरिल नदी में तो जेसीबी और ट्रैक्टर-ट्रॉली रात-दिन जुटी रहती हैं। सूत्रों का कहना है कि दबतोरी चौकी पुलिस का खनन माफियाओं को खुला संरक्षण प्राप्त है। सहसवान कोतवाली क्षेत्र में गंगा और महाबा नदी से रेत की बड़े स्तर पर सप्लाई की जा रही है। पिछले दिनों सूचना मिलने पर एसडीएम ने सहसवान कोतवाली पुलिस को निर्देश दिए थे, तो पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रॉली पकड़ लिए, लेकिन कुछ देर बाद ही मुक्त भी कर दिए। पूरे जिले में सिर्फ बिल्सी के एसडीएम विधान जायसवाल ही खनन माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई करते नजर आ रहे हैं, अन्य क्षेत्रों में कोई देखने वाला नहीं है, जिससे जिले भर में भाजपा सरकार की जमकर फजीहत हो रही है, क्योंकि किसान अपनी जरूरत भर के लिए रेत-मिटटी का खनन नहीं कर सकता और माफिया खुलेआम खनन करते नजर रहे हैं।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply