उत्पीड़न के विरोध में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे पत्रकार

पत्रकार शाजेब खान को न्याय दिलाने के लिए धरने पर बैठे पत्रकार।
पत्रकार शाजेब खान को न्याय दिलाने के लिए धरने पर बैठे पत्रकार।

बदायूं में शोषण के विरुद्ध पत्रकार अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये हैं। शासन-प्रशासन ने मांग नहीं मानी, तो आक्रोशित पत्रकार उग्र आंदोलन भी करेंगे, साथ ही प्रदेश भर में हो रहे पत्रकारों पर हमलों की घटनाओं को लेकर पत्रकारों ने चिंता व्यक्त करते हुए सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है।

बदायूं जिले में स्थित कस्बा सहसवान के नगर पालिका अध्यक्ष नूरुद्दीन ने जिला अस्पताल में कवरेज के दौरान पत्रकार शाजेब खान को धमकाया था, जिसकी लिखित और मौखिक जानकारी शाजेब ने पुलिस अफसरों को देते हुए सुरक्षा व मुकदमा दर्ज कराने की मांग थी, लेकिन स्थानीय पुलिस ने शाजेब के प्रार्थना पत्र पर ध्यान तक नहीं दिया।

पीड़ित पत्रकार डीआईजी- बरेली से भी मुकदमा दर्ज कराने की गुहार लगा चुका है, इसके बावजूद मुकदमा दर्ज नहीं हुआ, जबकि नूरुद्दीन और उनके गुर्गे लगातार शाजेब को धमका रहे हैं। परेशान होकर शाजेब आज मालवीय आवास गृह पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये। पीड़ित पत्रकार के समर्थन में सभी पत्रकार एकजुट हो गये हैं और पत्रकारों ने शासन-प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर, शीघ्र मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई नहीं की गई, तो उग्र आंदोलन किया जायेगा। धरने पर आज आशु बंसल, भारत शर्मा, बी.पी.गौतम, पंकज गुप्ता, विशाल साहू, सोहन पाल साहू, मो. नईम, शाह आलम, छबीले चौहान, सौरभ शर्मा सहित अन्य तमाम पत्रकार प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

दबंगों के दबाव में मीडिया कर्मियों की नहीं सुन रही पुलिस

Leave a Reply