सांसद के घर आने से नूरुद्दीन के खानदान में आया जोश, वकील पीट कर लूटा

कोतवाली में अर्द्ध मूर्छित अवस्था में कुर्सी पर बैठा घायल अधिवक्ता रविन्द्र प्रताप सिंह यादव।

बदायूं जिले की नगर पालिका परिषद सहसवान के चेयरमैन नूरुद्दीन के घर ईद के अवसर पर सांसद धर्मेन्द्र यादव बधाई और शुभकामनायें देने पहुंच गये, तो नूरुद्दीन के खानदान में एक बार फिर जोश आ गया। नूरुद्दीन के लड़के और भतीजे वगैरह जोश में पूरी तरह होश खो बैठे और राह चलते अधिवक्ता को ही बेरहमी से पीट दिया। अधिवक्ताओं की एकता के चलते पुलिस को मुकदमा दर्ज करना पड़ा। घायल को मेडिकल परीक्षण व उपचार हेतु अस्पताल भेज दिया गया है। घटना को लेकर अधिवक्ताओं में रोष व्याप्त है।

कस्बा सहसवान के मोहल्ला नयागंज निवासी अधिवक्ता रविन्द्र प्रताप सिंह यादव पुत्र अधिवक्ता रुकुम सिंह यादव का कहना है कि वह तहसील में कार्य समाप्त कर कचहरी परिसर की ओर जा रहा था, तभी करीब शाम 4: 10 बजे रास्ते में नूरुद्दीन के लड़के और भतीजे नई बाइक का एवरेज देखने के लिए पेट्रोल के रूपये मांगने लगे और न देने पर बेरहमी से पीटने लगे। चेहरा, सिर, सीना वगैरह पर लात-घूंसों की बरसात कर दी और दो हजार रूपये भी निकाल लिए। पीड़ित की चीख सुन कर साथी अधिवक्ता और परिचित दौड़ पड़े, तब हमलावरों ने पीड़ित को छोड़ा।

पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने नूरुद्दीन के लड़कों व भतीजे पर मकदमा दर्ज कर लिया है। घायल को मेडिकल परीक्षण और उपचार हेतु अस्पताल भेज दिया। सहसवान स्थित सीएचसी से प्राथमिक उपचार के बाद घायल को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है। घटना को लेकर आम चर्चा है कि कल ईद के अवसर पर सांसद धर्मेन्द्र यादव नूरुद्दीन घर पर पहुंचे थे, जिससे पूरे खानदान में एक बार फिर जोश आ गया है। लोग सवाल भी कर रहे हैं कि जब समाजवादी पार्टी नूरुद्दीन को चुनाव में विरोध करने पर निष्कासित कर चुकी है, तो धर्मेन्द्र यादव नूरुद्दीन के घर गये ही क्यों?, इस पर स्थानीय सपाई आक्रोशित भी हैं, पर धर्मेन्द्र यादव से कुछ नहीं कह पा रहे हैं।

यह भी बता दें कि नूरुद्दीन पर गंभीर धाराओं के अंतर्गत कई मुकदमे दर्ज हैं। स्थानीय पुलिस नूरुद्दीन के दबाव में रहती है, जिससे तमाम मुकदमे दर्ज भी नहीं करती। आज की घटना में अधिवक्ता एकजुट न हुए होते, तो पुलिस आज भी मुकदमा दर्ज नहीं करती, वहीं नूरुद्दीन ने दबाव बनाने के लिए अपनी ओर से भी मुकदमा दर्ज कराने का प्रयास किया, पर अधिवक्ताओं के डर के चलते पुलिस ने अनैतिक कार्य नहीं किया। पुलिस ने जिला संभल की कोतवाली गुन्नौर क्षेत्र के गाँव सैमल करनपुर के निवासी दलित नत्थूराम पुत्र मदनलाल का भी मुकदमा दर्ज नहीं किया था, उसने नूरुद्दीन पर अपहरण करने का, अफीम का धंधा करने का, नाबालिग लड़कियों और औरतों का यौन शोषण कराने का आरोप लगाते हुए न्यायालय में वाद दायर किया है, जिस पर सुनवाई चल रही है। हाल ही में नूरुद्दीन के बेटे जमालुद्दीन के पेट्रोल पंप जैद फीलिंग स्टेशन पर एसडीएम दिनेश कुमार और सीओ श्योराज सिंह के नेतृत्व में छापा मारा गया था, जिसमें दो मशीनें संदिग्ध पाई गईं थीं, जिन्हें सील कर दिया गया था।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

नूरुद्दीन की मानसिक स्थिति गड़बड़ाई, बोले- गौतम संदेश बनवायेगा पुलिया

कुख्यात नूरुद्दीन का नूर गायब होते ही सहसवान का अधिशासी अधिकारी बदला

जमीन कब्जाने, अपरहरण, अफीम और देह व्यापार का भी धंधा करता है नूरुद्दीन

Leave a Reply