भ्रष्टाचार के चलते जेल के अंदर और बाहर बंदियों को मिल रही है वीवीआईपी सुविधा

न्यायालय परिसर में हथकड़ी के बिना घूमते बंदी।

भ्रष्टाचारी व्यक्ति को कोई भी दायित्व दे दिया जाये, वह भ्रष्टाचार के रास्ते बना ही लेता है। बात पुलिस विभाग की करें, तो कुछेक प्रतिशत सिपाहियों के कारण संपूर्ण विभाग दागदार नजर आ रहा है। भ्रष्ट सिपाही थाने-चौकी पर तैनात होते हैं, तो वहां आम जनता को खुलेआम लूटते नजर आते हैं, उन्हीं में से कुछ डायल- 100 में जगह पा जाते हैं, तो सपनों की सेवा की भी धज्जियां उड़ा देते हैं और बंदियों के साथ लगा दिए जायें, तो वहां भी भ्रष्टाचार का बड़ा सा रास्ता बना लेते हैं।

बात फिलहाल बदायूं जिले की हो रही है, जहाँ भ्रष्ट सिपाहियों ने हालात बदतर कर रखे हैं। जिला कारगार से प्रतिदिन न्यायालय के लिए बंदी लाये जाते हैं, इन बंदियों को सुविधा देने के नाम पर खुलेआम वसूली होती है। सूत्रों का कहना है कि घर कॉल कराने के सौ रूपये, मौके पर परिजन आ जायें, तो उनसे बात कराने के सौ रूपये, परिजन सामान देकर जायें, तो उसके सौ रूपये, बंदी हथकड़ी के बिना घूमना चाहे, तो उसके रूपये, इसी तरह की हर सुविधा का चार्ज तय कर रखा है। समृद्ध बंदी हर सुविधा का लाभ लेते नजर आते हैं, जिससे लगता है कि वे बंदी नहीं, बल्कि वीवीआईपी हैं और सिपाही उनके अंगरक्षक।

सोमवार को न्यायालय परिसर में कई सारे बंदी ऐसे दिखे, जिन्हें हथकड़ी नहीं लगाई गई थी। कुछेक बंदी अलग बैठे परिजनों से बात कर रहे थे। कुछेक बंदी मोबाईल से बात कर रहे थे, वहीं कुछेक बंदी रेस्टोरेंट में बैठे चाय-पकौड़ी खाते हुए गप्पिया रहे थे। कहावत है कि पैसे के बल पर कुछ भी करना संभव है, इसको बदायूं में चरितार्थ होते हुए देखा जा सकता है।

जिला कारागार के हालात भी ऐसे ही हैं। सूत्रों का कहना है कि जेल के अंदर सब कुछ मिलता है। वीवीआईपी नाश्ता, खाना और सुविधा जनक वातावरण पैसे से खरीदा जा सकता है। अस्पताल में भर्ती होकर और भी मजे लिए जा सकते हैं। सिगरेट, बीड़ी दोगुने दामों पर सभी को उपलब्ध है, कोई अन्य नशा करना चाहे, तो उसकी भी मोटी रकम पर व्यवस्था उपलब्ध हो जाती है। पैसे के बल पर समृद्ध लोग जेल के अंदर और बाहर वीवीआईपी सुविधायें भोगते नजर आते हैं, तो आम आदमी अनायास ही कह उठता है कि जिस दल की सरकार हो, पर हालात नहीं बदलने वाले।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

न्यायालय परिसर में बिना हथकड़ी के घूमते बंदियों को देखने के लिए वीडियो पर क्लिक करें

Leave a Reply