… आखिर प्रभु ने बरेली-कासगंज मार्ग पर ट्रेन चला ही दी

बरेली में दुल्हन की तरह सजी-धजी खड़ी ट्रेन।
बरेली में दुल्हन की तरह सजी-धजी खड़ी ट्रेन।

पूर्वोत्तर रेलवे (एनईआर) के बरेली-कासगंज बहुप्रतीक्षित ब्राडगेज का रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मंगलवार शाम करीब 5 बजे रेल भवन से वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से दो नई पैसेंजर ट्रेन का उद्घाटन किया। बरेली-कासगंज पैसेंजर व रामपुर-आगरा एक्सप्रेस के चलने से जनता बेहद खुश नजर आ रही है। ट्रेन को देखने के लिए जगह-जगह बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

बरेली-कासगंज पैसेंजर की कुल दूरी 104 किलीमीटर है, जो प्रतिदिन चलेगी, वहीं उत्तराखंड के रामनगर से आगरा फोर्ट जाने वाली एक्सप्रेस सप्ताह में एक दिन चलेगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा की यूपी-बिहार में यात्रियों के बोझ को कम करने के लिए अतिरिक्त रेल चलाई जायेंगी, साथ ही कहा कि दिल्ली में रेल लाइन पर अतिक्रमण खत्म करने के लिए दिल्ली सरकार को 11 करोड़ की धनराशि दी गई है। इस अवसर पर बरेली में केन्द्रीय वस्त्र मंत्री संतोष गंगवार, रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा और क्षेत्रीय सांसद धर्मेन्द्र कश्यप के अलावा एनआर के जीएम एके पुठिया, एनईआर के जीएम राजीव मिश्र, सीओएम संजीव गर्ग, सीसीएम ज्ञान प्रकाश, सीएमडी डा.एमपी सिंह सहित तमाम जनप्रतिनिधि व विभागीय अफसर मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि एनईआर के 104 किमी लंबे बरेली-कासगंज ट्रैक को छोटी लाइन (मीटरगेज) से बड़ी लाइन (ब्राडगेज) में बदलने का काम एक जनवरी- 2014 से शुरू हुआ था। ब्राडगेज पर मार्च से ट्रेन दौड़ाने की तैयारी थी, लेकिन बजट खत्म होने, रामगंगा रेल पुल की कनेक्टिविटी के साथ कछला रेल पुल के चलते देरी होती रही, पर 18 महीनों के लंबे अंतराल और इंतजार के बाद आज से ट्रेन दौड़ने लगी है। इस मार्ग पर लंबी दूरी की कई ट्रेन चलेंगी। आगरा, कासगंज, बदायूं और बरेली मार्ग पर ट्रेन चलने से कई राज्यों की दूरियां कम हो जायेंगी, जिससे लाखों लोगों को धन और समय की बचत होगी, वहीं व्यापार क्षेत्र में बड़ा लाभ होगा। आवागमन के अभाव में बंद हो चुके उद्योग धंधे पुनः फलने-फूलने लगेंगे, जिससे स्थानीय स्तर पर ही रोजगार सृजित होंगे और शहरों की ओर होने वाले पलायन में बड़ी संख्या में कमी आयेगी।

Leave a Reply