बेखौफ दरिंदों ने की किशोर की बेरहमी से हत्या, पैर की अंगुलियाँ काट दीं

मेंथा की फसल के बीच पड़ा रामचंद्र का शव।

बदायूं जिले में ही आपराधिक वारदातों का ग्राफ आसमान की ओर अग्रसर नजर आ रहा है, लेकिन उघैती थाना क्षेत्र के हालात और भी ज्यादा भयावह हैं। पुलिस का डर पूरी तरह खत्म हो चुका है, जिससे जघन्यतम वारदातें आम तौर पर घटित होने लगी हैं। नृशंस हत्याकांड को भी अंजाम दे दिया गया है। बेखौफ दरिंदे हत्यारों ने किशोर को तड़पा कर मौत के घाट उतारा है, जिससे समूचे इलाके में रोष व्याप्त है।

उघैती थाना क्षेत्र के गाँव सरैरा में दिल दहला देने वाले हत्याकांड को अंजाम दिया गया है। बताते हैं कि सरैरा के पप्पू नाई का 14 वर्षीय बेटा रामचंद्र पूड़ी-कचौड़ी बेलने का काम करता है। बीती रात एक शादी समारोह में 11 बजे तक देखा गया था। सुबह मेंथा की फसल के बीच में रामचंद्र का शव पड़ा देखा गया, तो हड़कंप मच गया। सूचना घर पहुंची, तो कोहराम मच गया। रोते-विलखते परिजन घटना स्थल की ओर दौड़ पड़े। देखते-देखते सैकड़ों लोग जमा गये। लोगों ने शव की हालत देखी, तो उनकी आँखों में खून उतर आया। रामचंद्र को हत्या से पूर्व बेरहमी से पीटा गया है, उसके चेहरे को घायल किया गया है, उसके पैरों की अंगुलियाँ भी काट दी गई हैं, ऐसी नृशंस हत्या क्षेत्र में आज तक नहीं हुई है।

सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची, तो पुलिस को लोगों के रोष का सामना करना पड़ा। आक्रोशित लोग हत्यारों का पता कर गिरफ्तार करने पर अड़े हुए हैं। हाल-फ़िलहाल घटना को लेकर क्षेत्र में दहशत व्याप्त है। यह भी बता दें कि व्यवस्था दुरुस्त करने के उद्देश्य से तेजतर्रार एडीजी द्वारा वेदप्रकाश गुप्ता का तबादला मुरादाबाद रेंज के लिए कर दिया गया है। वेदप्रकाश गुप्ता सपा की सरकार के समय से ही जिले भर में चर्चित रहे हैं, जिससे उनके थाना प्रभारी बनने पर ही लोग चौंक गये थे। कार्यभार ग्रहण करते ही क्षेत्र में पुलिस का डर ही खत्म हो गया है। तबादला होने के चलते गश्त तक नहीं हो पा रही है, जिससे क्षेत्र में अपराधियों के हौसले बुलंद नजर आ रहे हैं।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

इस्लामनगर के एसओ बने रघुराज, वेदप्रकाश, गौरव और भारत का तबादला

पांच थाना प्रभारियों को हटाया, चौकी भी न संभाल पाये वेदप्रकाश को मिला थाना

Leave a Reply