कटरा सआदतगंज में सदियों याद की जाती रहेगी यह घटना

बदायूं जिले में उसहैत थाना क्षेत्र के गाँव कटरा सआदतगंज में घटी दुस्साहसिक आपराधिक वारदात दुर्भाग्य पूर्ण ही नहीं, बल्कि समूचे समाज के गाल पर तमाचा है। पीड़ितों को न्याय दिलाने की मुहिम में विश्व स्तर पर मीडिया तो कदम से कदम मिला कर साथ चल ही रहा है, साथ ही राजनेता भी घटना को गंभीरता से ले रहे हैं। भाजपा, बसपा और कांग्रेस के तमाम नेता घटना स्थल पर जाकर पीड़ित परिवार को सांत्वना दे चुके हैं। आज राहुल गाँधी आये और उन्होंने भी पीड़ितों का हाल जाना। उन्होंने पीड़ित परिवार की सीबीआई जांच की मांग पर सहमति जताते हुए कहा कि न सिर्फ सीबीआई जांच हो, बल्कि पीड़ितों को न्याय मिलना चाहिए, ताकि अपराधियों के बीच यह संदेश जाये कि हिन्दुस्तान में ऐसी घटनायें नहीं कर सकते।

खैर, दबाव में ही सही, पर अब उत्तर प्रदेश सरकार भी पीड़ितों को न्याय दिलाने को तैयार है। प्रदेश सरकार सीबीआई जाँच कराने को भी राजी हो गई है, जिसके अच्छे परिणाम आने की आशा व्यक्त की जा सकती है, लेकिन फिलहाल गाँव व क्षेत्र के लोगों के चेहरों पर यह सब देख कर अलग तरह के ही भाव हैं। गाँव में देश के नहीं, बल्कि विदेश के मीडिया कर्मी भी मौजूद हैं, जिनमें महिलायें भी शामिल हैं। लग्जरी गाड़ियों का बेड़ा खड़ा है। वीवीआईपी के चलते अत्याधुनिक सुरक्षा कवच है। तमाम चैनलों की टीम मौके से लाइव प्रसारण कर रही है, जिसे देख कर गाँव व क्षेत्र के अधिकांश लोगों में कोई स्तब्ध हैं, कोई रोमांचित है, कोई और दुखी है, कोई खुश है, तो कोई विचार शून्य अवस्था में सिर्फ नजारा देखता ही नज़र आता है। न्यायालय में क्या होगा, यह तो आने वाले दिनों में ही साफ हो पायेगा, पर यह घटना यहाँ सदियों तक याद की जाती रहेगी। हालांकि इस दर्द की भरपाई किसी तरह नहीं की जा सकती। एक पिता की इकलौती बेटी की भेंट चढ़ी है, इकलौता चिराग बुझने से उसके तो वंश पर ही प्रश्न चिन्ह लग गया है, लेकिन विश्व स्तर पर तमाम क्षेत्रों के लोग उनके साथ खड़े हैं, यह जान कर वह फिलहाल संतुष्ट है और अंतिम साँस तक अपराधियों को फांसी दिलाने की दिशा में लड़ने के लिए तैयार है। गौतम संदेश भी पीड़ित परिवार को साहस देता रहेगा, फिलहाल गाँव के आज के दृश्य को चित्रों के माध्यम से देखें और हाव-भाव स्वयं महसूस कर भावना को समझें, क्योंकि महसूस करने की क्रिया शब्दों से नहीं कराई जा सकती।

हाथ जोड़ कर अपनी व्यथा सुनाते एक बुजुर्ग पीत वस्त्रधारी
हाथ जोड़ कर अपनी व्यथा सुनाते एक बुजुर्ग पीत वस्त्रधारी
राहुल गाँधी को छत से निहारतीं महिलायें और बच्चे
राहुल गाँधी को छत से निहारतीं महिलायें और बच्चे
घटना को लेकर रोती और गर्मी से बचने को पंखा चलती एक बुजुर्ग महिला
घटना को लेकर रोती और गर्मी से बचने को पंखा झलती एक बुजुर्ग महिला
गाँव की सड़क पर पसरा सन्नाटा
गाँव की सड़क पर पसरा सन्नाटा
चार-पांच घंटे खड़े होकर ड्यूटी भी नहीं कर सकती यूपी पुलिस, एक बैठक पर आराम फरमाते पुलिस कर्मी
चार-पांच घंटे खड़े होकर ड्यूटी भी नहीं कर सकती यूपी पुलिस, एक बैठक पर आराम फरमाते पुलिस कर्मी
जासूसी कुत्ते के साथ खड़ा पुलिस कर्मी और गर्मी से बेहाल कुत्ता
जासूसी कुत्ते के साथ खड़ा पुलिस कर्मी और गर्मी से बेहाल कुत्ता
घटना स्थल पर जमा भीड़ और भीड़ को आगे बढ़ने से रोकने के लिए तैनात पुलिस कर्मी
घटना स्थल पर जमा भीड़ और भीड़ को आगे बढ़ने से रोकने के लिए तैनात पुलिस कर्मी
घटना की रिपोर्टिंग के लिए मौके पर मौजूद तमाम चैनलों की गाड़ियाँ
घटना की रिपोर्टिंग के लिए मौके पर मौजूद तमाम चैनलों की गाड़ियाँ
गाँव के लड़के के कंधों पर हाथ रख कर पीछे मुड़ कर सहज भाव से बात करते राहुल गाँधी
गाँव के लड़के के कंधों पर हाथ रख कर पीछे मुड़ कर सहज भाव से बात करते राहुल गाँधी
घटना स्थल की ओर जाते राहुल गाँधी
घटना स्थल की ओर जाते राहुल गाँधी
महिलाओं से बात करते राहुल गांधी
महिलाओं से बात करते राहुल गांधी
एक युवती से गंभीरता से बात करते राहुल गांधी
एक युवती से गंभीरता से बात करते राहुल गांधी
समूचे घटना क्रम को स्पष्ट देखने के लिए पेड़ पर चढ़े ग्रामीण
समूचे घटना क्रम को स्पष्ट देखने के लिए पेड़ पर चढ़े ग्रामीण
पेड़ पर आराम से बैठ कर घटना क्रम को देखता एक ग्रामीण
पेड़ पर आराम से बैठ कर घटना क्रम को देखता एक ग्रामीण
जिस पेड़ पर दोनों बहनों के शव लटके मिले थे, उस पेड़ को निहारते राहुल गांधी
जिस पेड़ पर दोनों बहनों के शव लटके मिले थे, उस पेड़ को निहारते राहुल गांधी

 

 

 

 

Leave a Reply