अतीत से सबक लें कुमार विश्वास

कवि की तरह ही ब्रांडिंग कर नेता बनना चाहते हैं कुमार विश्वास
कवि की तरह ही ब्रांडिंग कर नेता बनना चाहते हैं कुमार विश्वास

सार्वजनिक कवि सम्मेलनों के साथ एकल मंच पर श्रृंगार रस के प्रख्यात कवि कुमार विश्वास श्रोताओं से अक्सर यह अपील करते रहे हैं कि अगली पंक्ति पर तालियों की आवाज इलाहाबाद तक पहुंचनी चाहिए, इस अपील के साथ जब वह श्रोताओं को सुनाते थे कि “दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं, उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं, वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है, चुप-चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है, जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ, लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ, उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा, सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा, बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है, और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है”, तो आईआईटी खड़गपुर के युवा हों या आईआईटी बीएचयू के, आईएसएम धनबाद के युवा हों या आईआईटी रूड़की के, आईआईटी भुवनेश्वर के युवा हों, चाहे आईआईएम लखनऊ के साथ एनआईटी जालंधर और एनआईटी त्रिचि के युवा रात-रात भर उनकी रचनाओं पर झूमते रहे हैं, इसी तरह जब वे मदहोश होकर यह गाते थे कि “दिल बरबाद कर के इस मेँ क्यों आबाद रहते हो, कोई कल कह रहा था तुम इलाहाबाद रहते हो, के ये कैसी शोहरतें मुझको अता कर दी मेरे मौला, मैं सब कुछ भूल जाता हूँ मगर, तुम याद रहते हो” तो वह रातों-रात युवाओं के दिलों में बस गये। “हमारे शेर सुनकर के भी जो ख़ामोश इतना है, ख़ुदा जाने गुरूर-ए-हुस्न में मदहोश कितना है, किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का, जो खुद बेहोश हो वो क्या बताए होश कितना है।”, ऐसी रचनाओं के सहारे कुमार विश्वास युवाओं के दिलों पर बहुत कम समय में ही राज करने लगे। ट्वीटर, फेसबुक, यू-ट्यूब सहित दुनिया भर की सोशल साइट्स पर मौजूद उनकी रचनाओं के हिंदी कविता प्रेमी दीवाने हैं और लगातार उनकी रचनाओं को पढ़ रहे हैं और यू-ट्यूब पर देख रहे हैं। हिंदी कवियों में जितने हिट उनके वीडियो को मिलते हैं, अन्य किसी कवि का वीडियो लोकप्रियता की दृष्टि से उनके वीडियो के आसपास भी नहीं है, यह सब यह सिद्ध करने के लिए काफी है कि हिन्दुस्तान के साथ दुनिया भर में फैले हिंदी कविता प्रेमियों के बीच वह बेहद लोकप्रिय हैं। दुनिया भर में फैले उनके प्रशंसक यह भी जानते हैं कि कुमार विश्वास की कोई प्रेमिका है, जो इलाहाबाद में रहती है, जिसका उल्लेख वह अक्सर करते रहे हैं और यू-ट्यूब पर मौजूद उनके वीडियो में कही गई बातें आज भी सुरक्षित हैं, जिससे साफ़ है कि अपनी रचनाओं में सत्य का अहसास कराने भर के लिए उन्होंने एक अनाम लड़की को भी दुनिया भर में ख्याति दिला रखी है। खुद को इलाहाबाद में रह रही एक अनाम लड़की का प्रेमी सिद्ध करते हुए तालियाँ बटोरते रहे हैं।

कुमार विश्वास अब तक सिर्फ कवि थे, जिससे उनकी इस तरह की बातों पर अधिकाँश लोग गौर नहीं करते थे। मंच की मस्ती समझ कर भुला देते थे, लेकिन वह अब राजनीति की राह पर चल पड़े हैं। उनकी एक-एक बात पर अब विपक्षियों की नज़र है। उनकी पिछली कही बातों को भी लोग अब गंभीरता से ले रहे हैं। जिस तरह वह इलाहाबाद की एक अनाम लड़की के सहारे मस्ती करते थे और श्रोताओं को कराते थे, वैसे ही उन्होंने कभी हिंदू और मुस्लिम धर्म के देवताओं और इमाम पर भी टिप्पणियां की थीं, जिसको लेकर अब बवाल हो रहा है। पिछले दिनों लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उन पर एक मुस्लिम युवा ने धार्मिक टिप्पणी को लेकर ही अंडा मारा था, जिस पर खूब बवाल हुआ, ऐसे ही किसी ने इलाहाबाद की उस अनाम लड़की का नाम-पता और फोटो सार्वजनिक कर दिया, तो उस लड़की के जीवन का क्या होगा?

खुद को आशिक सिद्ध करने भर के लिए, अपनी रचनाओं में जान डालने के लिए, युवाओं के बीच लोकप्रिय होने के लिए और एक लड़की के नाम के सहारे छिछोरी मस्ती करने के लिए कुमार विश्वास ने उस अनाम लड़की की एक तरह से जिंदगी बर्बाद कर दी है, वो हमेशा इस डर में ही जीती होगी कि कहीं उसके बारे में पति को पता न चल जाये, कहीं पड़ोसियों और शहर के लोगों को पता न चल जाये, इतना ही नहीं, कुमार विश्वास के राजनीति में आने के बाद से तो उसका डर और भी बढ़ गया होगा। कुमार विश्वास की इस अशोभनीय और अनैतिक हरकत के दुष्परिणाम का अंदाज़ा नरेंद्र मोदी के चर्चित कथित जासूसी प्रकरण से लगाया जा सकता है। कथित जासूसी प्रकरण जैसे मीडिया में छाया, वैसे ही सोशल साइट्स पर उस लड़की का नाम-पता और फोटो सार्वजनिक हो गया, जिसके कारण उस लड़की का देश में रहना तक मुश्किल हो गया। बताया जा रहा है कि वो लड़की परिवार सहित देश छोड़ गई है। देश न भी छोड़े, तो भी सामाजिक दृष्टि से उस लड़की की जिन्दगी बर्बाद होने में कोई कसर बाकी नहीं रह गयी है, जबकि अभी तक उस लड़की ने कोई बयान नहीं दिया है और न ही उसने किसी तरह की आपत्ति जताई है, पर नरेंद्र मोदी के दुश्मनों ने उनकी छवि को तार-तार कर राजनैतिक लाभ लेने भर की नीयत से एक लड़की की जिन्दगी से खिलवाड़ कर दिया। ऐसे ही अब कुमार विश्वास के भी हजार दुश्मन हैं, उन्हीं में से किसी ने ऐसा कुछ कर दिया, तो उनका कुछ हो न हो, पर उस लड़की का जीवन जरूर बर्बाद हो जायेगा।

अब जो हो गया, सो हो गया। अतीत को बदला नहीं जा सकता और न ही मिटाया जा सकता है, पर अतीत से सबक अवश्य लिया जा सकता है और कुमार विश्वास भी सबक ले लें, तो यह उनके आने वाले राजनैतिक जीवन के लिए बेहद उपयोगी साबित होगा। वह पिलखुआ जैसे बड़े शहर में जन्मे हैं, एक शिक्षक की संतान हैं, उनका शैक्षिक परिवेश भी अच्छा रहा है, खुद प्रवक्ता रहे हैं, कवि हैं और एमए व पीएचडी के साथ उनके पास डी-लिट् की उपाधि भी है, धनाढ्य हैं, इतना सब किसी को सिर्फ किस्मत से नहीं मिलता, यह सब पाने में उनकी अपनी मेहनत भी है, लेकिन यह सब जिस किसी के पास होता, वह बेहद संवेदनशील और गंभीर होता। उसकी हर बात वेद वाक्य की तरह होती। अब उम्मीद है कि कुमार विश्वास भी अपने अंदर वह गंभीरता उत्पन्न करेंगे। किसी के भी बारे में भद्दी और ओछी टिप्पणी करने से पहले सोचेंगे, क्योंकि उनके कहे शब्द अब इतिहास में दर्ज होते हैं। शायद, गंभीरता उनके अंदर हो भी, पर आवश्यक है कि उस गंभीरता का अब प्रदर्शन भी करें। साहित्य के मंच पर उन्हें आज तक खुद को ब्राह्मण बताने की आवश्यकता महसूस नहीं हुई, फिर भी अपार प्रेम मिला, पर राजनीति के मंच पर पहले ही दिन वह अमेठी में खुद को ब्राह्मण बताने से नहीं चूके, जिससे उनकी राजनैतिक मंशा स्पष्ट झलक रही है। प्रेम के दीवाने तमाम युवा कुमार विश्वास को आदर्श मानते रहे हैं और वही युवा अब बेहतर भविष्य बनाने की अपेक्षा लिए उनकी ओर निहार ही नहीं रहे हैं, बल्कि बड़ी संख्या में उनसे जुड़ भी रहे हैं। कुमार विश्वास ऐसी पार्टी का महत्वपूर्ण अंग है, जिसे परंपरागत घटिया राजनीति का विकल्प कहा जा रहा है, पर जैसे ब्रांडिग कर वह बड़े कवि बने हैं, वैसे ही ब्रांडिंग कर बड़ा नेता बनने की डगर पर चलते नज़र आ रहे हैं। हो सकता है कि वह बड़े नेता बन भी जायें, पर इस देश के युवा और आम आदमी के साथ यह एक और छल होगा।

बी.पी.गौतम
बी.पी.गौतम

खैर, जिस व्यक्ति के पास डी-लिट् की उपाधि है और जो श्रृंगार रस का इतना बड़ा कवि है, वह व्यक्ति यह जानता ही होगा कि प्रेम और राजनीति प्रदर्शन और वाणिज्य के नहीं, बल्कि त्याग और दर्शन के विषय हैं। कुमार विश्वास के उज्जवल भविष्य की कामना और उनकी ही एक लोकप्रिय रचना के साथ बात खत्म। “वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है, वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है, किसी से भूल कर भी अपने दिल की बात मत कहना, यहाँ ख़त भी जरा-सी देर में अखबार होता है।”

 

Leave a Reply