बद्री नाथ और केदारनाथ को चीन अपना मानता है: शंकराचार्य

बद्री नाथ और केदारनाथ को चीन अपना मानता है: शंकराचार्य
               किरन कांतशंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती
बद्री नाथ और केदार नाथ धाम को चीन अपना मानता है। उसके सैनिक लड़ाकू जहाज से आकर बद्री नाथ और केदार नाथ की रेकी करते रहते हैं, इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शीघ्र ही कुछ करना चाहिए, वरना चीन बद्री नाथ और केदार नाथ पर पूरी तरह कब्जा कर लेगा।
उक्त सनसनीखेज खुलासा द्वारिका शारदापीठ और ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने किया है। अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती द्वारा मुस्लिमों और साईं बाबा के संबंध में हाल ही में दिये गए बयान को लेकर देश भर में बवाल मचा हुआ है, इस विवाद के थमने से पहले शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने अब ऐसा खुलासा किया है कि लोग सुन कर दंग हैं।
शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का स्पष्ट कहना है कि बद्री नाथ और केदार नाथ को चीन अपना मानता है और कई बार रेकी भी कर चुका है। उनका मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शीघ्र ही इस ओर ध्यान देना चाहिए, वरना चीन बद्री नाथ और केदार नाथ पर पूरी तरह कब्जा कर लेगा। उन्होंने कहा कि गाँव खाली हो रहे हैं, ऐसे में सरकार को गाँव आबाद करने की दिशा में शीघ्र ही गंभीर प्रयास करने चाहिए।
इस प्रकरण में उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक बीएस सिद्धू का कहना है चीन द्वारा रेकी करने के मामले तो सामने आये हैं, पर इस सब पर नज़र रखना और उस पर निर्णय लेने का अधिकार आईडीबीपी और सेना का है। बोले- हमारी ज़िम्मेदारी नहीं है। कुल मिला कर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का खुलासा गंभीर माना जा रहा है, क्योंकि रेकी की बात डीजीपी भी मान रहे हैं, ऐसे में अब विशेष ध्यान देने की बात यह है कि प्रधानमंत्री के स्तर से क्या बयान आता है।
उधर साईं बाबा वाले बयान पर उन्होंने आज फिर नया बयान दिया है। बोले- राम-शिव और गंगा से दूर रहें साईं भक्त। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि साईं के भक्तों को साईं की पूजा करने की आजादी है, वो साईं की पूजा करें, पर राम और शिव की भक्ति और गंगा स्नान से दूर रहें, तो हमें साईं की पूजा पर कोई आपत्ति नही है। साईं भक्तों द्वारा किए जा रहे विरोध के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह विचारों की लड़ाई है, जिसके लिए वह विरोध को भी सहेंगें।
उन्होंने यह भी कहा कि साईं बाबा बोलते थे कि “सबका मालिक एक” है, तो सबका अर्थ क्या है? अगर, सबकी बात करते हैं, तो जैन और बौद्व ईश्वर को नहीं मानते हैं। साईं बाबा मनुष्य थे, ऐसे में उनका मालिक भी कोई और था। अब साईं के अनुयायी उनका मन्दिर बना कर साईं के सिद्धांतों का मखौल उड़ा रहे हैं।

One Response to "बद्री नाथ और केदारनाथ को चीन अपना मानता है: शंकराचार्य"

  1. Earl   May 25, 2015 at 8:00 AM

    Hmm it looks like your blog ate my first comment (it was extremely long) so I guess
    I’ll just sum it up what I had written and say, I’m thoroughly enjoying your
    blog. I as well am an aspiring blog writer but I’m still new
    to the whole thing. Do you have any helpful hints for inexperienced blog writers?
    I’d definitely appreciate it.

    Reply

Leave a Reply