मोहनलालगंज की घटना का खुलासा, दरिंदा गिरफ्तार

मोहनलालगंज की घटना का खुलासा, दरिंदा गिरफ्तार
एडीजीपी सुतापा सान्याल
एडीजीपी सुतापा सान्याल

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज इलाके में 16 जुलाई की रात को गोरखपुर की मूल निवासी और प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्‍थान पीजीआई के न्यूक्लियर मेडिसिन विभाग में कार्यरत स्टाफ नर्स के साथ हुई दर्दनाक घटना का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। वीभत्स दृश्य देख कर कहा जा रहा था कि घटना को तीन-चार लोगों ने मिल कर अंजाम दिया होगा, लेकिन पुलिस ने एक ही शख्स को गिरफ्तार किया है, जिसने पुलिस के सामने अपना जुर्म कुबूल भी कर लिया है, फिर भी पुलिस के खुलासे को लेकर अधिकांश लोग संतुष्ट नहीं हैं।

उत्तर प्रदेश की एडीजीपी सुतापा सान्याल ने रविवार को घटना का खुलासा करते हुए बताया कि मृतका के साथ रेप नहीं हुआ था। मुख्य अभियुक्त के हवाले से उन्होंने बताया कि रेप करने में असफल रहने के बाद स्टाफ नर्स की हत्या की गई है।

एडीजीपी सुतापा सान्याला ने बताया कि मोहनलालगंज के एक निर्माणाधीन अपार्टमेंट में गार्ड रामसेवक नाम के शख्स ने घटना को अंजाम दिया है। उन्होंने बताया कि गैंगरेप नहीं हुआ था, जबकि घटना के दिन उन्होंने ही गैंगरेप की बात कही थी।

एडीजीपी ने बताया कि 14 जुलाई से 16 जुलाई की शाम तक मृतका और एक राजीव नाम की आईडी पर खरीदे गए सिम से 28 बार बात हुई है। 16 बार कॉल रिसीव की गई और 12 बार आउट गोइंग कॉल की गई। राजीव ही रामसेवक था और वही मृतका से बात कर रहा था। उन्होंने यह भी बताया कि जिस अपार्टमेंट में रामसेवक काम करता था, मृतका उसी अपार्टमेंट में फ्लैट किराये पर लेना चाहती थी, लेकिन पुलिस के अनुसार उसका और रामसेवक का आपस में परिचय नहीं था।

सान्याल ने यह भी बताया कि रामसेवक मृतका से संबंध बनाना चाहता था। रामसेवक ने ही राजीव बनकर चोरी के सिम से मृतका से घटना की रात 10:22 बजे बात की और फॉर्म हाउस ले जाने का निमंत्रण दिया। मृतका साथ जाने को तैयार हो गई और राजीव से मिलने सड़क पर आ गई। हेलमेट लगाए बाइक सवार रामसेवक महिला को 16 जुलाई की रात में 11 बजे के आसपास बलसिंहखेड़ा गांव के प्राथमिक विद्यालय पर ले आया और यहाँ आकर उसने हेलमेट उतारा, तब मृतका ने पहचाना कि यह राजीव नहीं, बल्कि रामसेवक है। उसने देखते ही कहा कि रामसेवक तुम, मुझे यहाँ धोखे से ले आए, कल तुम्हें बताती हूँ, लेकिन दरिंदे का रूप ले चुका रामसेवक रेप करने का प्रयास करने लगा। महिला का मोबाइल फोन छीनकर झाड़ी में फेंक दिया और कपड़े नोंच डाले। मृतका को बेरहमी से पीटने लगा, साथ ही असफल रहने पर रामसेवक ने गुप्तांग पर वार कर दिये और मृतका की गर्दन पर चाबी घोंप दी। दरिंदे ने होश खो चुकी महिला से अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का भी प्रयास किया, इस सबके चलते खून बहने लगा और अत्यधिक खून बहने के कारण ही उसकी मौत हो गई।

दरिंदे ने पुलिस को यह भी बताया कि घायल महिला ने कराहते हुये पानी मांगा, तो उसने हैंडपंप की ओर इशारा कर के कह दिया कि पी ले। किसी तरह महिला हैंडपंप तक पहुँच आई, इसलिए हैंडपंप के आसपास खून पड़ा मिला। इस दौरान एडीजी सान्याल के साथ डीआईजी नवनीत सकेरा और एसएसपी प्रवीण कुमार भी मौजूद रहे।

Leave a Reply