महिलाओं के बिना प्रदेश व देश की तरक्की असंभव: मुख्यमंत्री

महिलाओं के बिना प्रदेश व देश की तरक्की असंभव: मुख्यमंत्री
हिंदुस्तान द्वारा आयोजित समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
हिंदुस्तान द्वारा आयोजित समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि कन्या शिक्षा, सुरक्षा व सम्मान के बगैर समाज, प्रदेश और देश की तरक्की नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश एक बड़ी जनसंख्या वाला राज्य है, जिसकी प्रगति के बिना देश की तरक्की सम्भव नहीं है। महिलाएं हमारी आबादी का आधा हिस्सा हैं, उनकी शिक्षा, सुरक्षा और सम्मान का कार्य हर स्तर पर किया जाना जरूरी है, जिसके लिए समाजवादी पार्टी की सरकार लगातार प्रयासरत है।
मुख्यमंत्री आज लखनऊ स्थित इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, गोमती नगर में उत्तर प्रदेश कन्या शिक्षा और सुरक्षा कार्यक्रम के अन्तर्गत अपने और दूसरों के हक की लड़ाई लड़ रही लखनऊ मण्डल की चयनित महिलाओं को सम्मानित किए जाने के अवसर पर आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार कन्या शिक्षा, सुरक्षा व उनके सम्मान के प्रति संवेदनशील है। महिलाओं के प्रति अपराध, हिंसा एवं उत्पीड़न की घटनाओं को रोकने व इसमें लिप्त दोषियों को सजा दिलाने का कार्य तेजी से किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। महिलाओं के प्रति किसी भी आपराधिक घटना पर तुरन्त एफ0आई0आर0 दर्ज की जाती है और कार्रवाई होती है, लेकिन षड्यंत्र के तहत ऐसी कार्रवाई का प्रचार-प्रसार न कर केवल घटना को अतिरंजित कर दिखाया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि कार्रवाई किए जाने की घटना के बारे में प्रमुखता से बताया जाए, तो अपराध को रोकने में मदद मिलेगी। इसके लिए मीडिया को सजग रहना चाहिए। इस सन्दर्भ में उन्होंने बदायूं की घटना का उदाहरण देते हुए कहा कि इसकी सच्चाई अब सामने आ रही है। हाल ही में घटित एक घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने पीड़ित बच्चों की हर सम्भव सहायता की।
श्री यादव ने कहा कि 1090 विमेन पावर लाइन सेवा ने लाखों बेटियों और महिलाओं की मदद की है। इसकी सफलता से उत्साहित होकर अब इस सेवा का विस्तार जिला मुख्यालयों पर भी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस सेवा ने महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में उल्लेखनीय पहल की है और इस विमेन पावर लाइन सेवा की नकल अन्य राज्यों की सरकारें भी कर रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी सोच के लोगों ने महिलाओं की शिक्षा, सुरक्षा व सम्मान के लिए सदैव आवाज उठाई और संघर्ष किया। उन्होंने हिन्दी दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ को बधाई देते हुए कहा कि उसने विभिन्न क्षेत्रों में अपने और दूसरों के हक की लड़ाई लड़ रही महिलाओं को जनता के सामने लाने का कार्य किया, जो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि यह एक अच्छी शुरुआत है, जिसे जारी रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि इसी प्रकार लोगों व संस्थाओं का सहयोग मिलता रहे, तो हम निश्चित रूप से कन्या शिक्षा और सुरक्षा कार्यक्रम को सफल बनाने में कामयाब होंगे। उन्होंने मलाला युसुफजई की हिम्मत और हौसले की चर्चा करते हुए कहा कि आज उसे दुनिया भर में जाना जा रहा है। मलाला ने लड़कियों की शिक्षा की दिशा में सराहनीय कार्य किया, जिसको यू0एन0ओ0 और तमाम स्वयंसेवी संस्थाओं ने जनता तक पहुंचाने में मदद की।
श्री यादव ने कहा कि अच्छे लोगों के कार्य से अन्य लोगों को प्रेरणा मिलती है। इसलिए अच्छे लोगों को सम्मानित किए जाने का कार्य किया जाना आवश्यक है। उन्होंने प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना लैपटाॅप वितरण का जिक्र करते हुए कहा कि लैपटाॅप समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह योजना सच्चे अर्थों में धर्मनिरपेक्ष व समाजवादी योजना थी, जिसे सरकार ने बगैर किसी भेदभाव के चलाया। उन्होंने कहा कि लोगों को प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं और कानून के बारे में जानकारी होनी चाहिए, इसके लिए जागरूकता आवश्यक है। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया और उत्तर प्रदेश कन्या शिक्षा और सुरक्षा कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रदेश के विभिन्न मण्डलों में आयोजित समारोहों पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया।
समारोह को राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि महिलाओं का स्वतंत्र अस्तित्व है, जिन्हें हर हाल में शिक्षा और बराबरी का अधिकार मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाओं की शिक्षा और सुरक्षा हम सभी की जिम्मेदारी है।
मुख्य सचिव आलोक रंजन ने इस अवसर पर कहा कि कन्या शिक्षा व सुरक्षा कार्यक्रम सरकार की एक अच्छी पहल है। यह कार्यक्रम सभी मण्डलों में सम्पन्न हुए। उन्होंने कहा कि शिक्षा के मोर्चे पर प्रदेश सरकार निरन्तर कार्य कर रही है। समाज में प्रगति व परिवर्तन के लिए महिला साक्षरता व शिक्षा जरूरी है। उन्होंने कहा कि विमेन पावर लाइन-1090 ने महिला उत्पीड़न को रोकने की दिशा में महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त की है। इसका दायरा अब और व्यापक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारियों व पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि वह महिला के प्रति अपराधों से जुड़े प्रकरणों का निपटारा तेजी से करें और ऐसे अपराधों से सख्ती से निपटें। इस अवसर पर बिटाना देवी, मनोरमा लाल, सोनिया, अरुणिमा सिन्हा, सुषमा वर्मा, कविता, जाहिरा (काल्पनिक नाम), मीना, शाहजहां, मोहिनी श्रीवास्तव और नलिनी (काल्पनिक नाम) को उनकी हिम्मत और हौसले के लिए सम्मानित किया गया। मलाला के सम्बन्ध में डाक्यूमेन्ट्री व विमेन पावर लाइन 1090 का प्रदर्शन किया गया।
कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से आई न्याय व हक की लड़ाई लड़ रही महिलाएं, मंत्रिगण, जनप्रतिनिधिगण, वरिष्ठ अधिकारीगण, मीडियाकर्मी व  गणमान्य नागरिक मौजूद थे। हिंदुस्तान के हेड के.के. उपाध्याय ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply