मुकेश सक्सेना की हृदय आघात से मौत, शोक की लहर

मुकेश सक्सेना की हृदय आघात से मौत, शोक की लहर
मुकेश सक्सेना के निधन पर भाई गुलशन सक्सेना को सांत्वना देते दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव व अन्य गणमान्य नागरिक।
मुकेश सक्सेना के निधन पर भाई गुलशन सक्सेना को सांत्वना देते दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव व अन्य गणमान्य नागरिक।

वो न्यायालय से जीत गया, लेकिन कलेक्ट्रेट के बाबुओं से हार गया और ऐसा हारा कि शरीर ही त्याग दिया। शनिवार को एक जिंदादिल इंसान ने अचानक प्राण त्याग दिए, जिससे हर कोई स्तब्ध है।

बदायूं के मोहल्ला चित्रांशनगर निवासी मुकेश सक्सेना कलक्ट्रेट में संविदा कर्मी थे। प्रशासन ने सभी संविदा कर्मियों को हटा दिया, तो वे सब न्यायालय की शरण में चले गये। लंबी लड़ाई के बाद संविदा कर्मियों की जीत हुई, लेकिन प्रशासन के बाबुओं ने मुकेश सक्सेना की छंटनी कर दी, तो मुकेश सक्सेना पुनः न्यायालय की शरण में चले गये। न्यायालय में पुनः मुकेश सक्सेना की जीत हुई, पर कलेक्ट्रेट के बाबुओं ने उन्हें ज्वाइन नहीं कराया, तो उन्होंने अवमानना का मुकदमा भी दायर कर दिया, जिस पर वरिष्ठ प्रशासनिक अफसरों ने उन्हें शीघ्र ही ज्वाइन कराने का आश्वासन दिया था, लेकिन मुकेश सक्सेना बाबुओं के पास पहुँचते, तो बाबू फिर कोई न कोई आपत्ति लगा देते।

नौकरी मिलने की ख़ुशी मुकेश सक्सेना के हाथों में आकर फिसल जाती थी, जिससे उन पर मानसिक दबाव रहने लगा, पर कभी जाहिर नहीं होने देते थे। शनिवार की दोपहर में अचानक उनके सीने में तेज दर्द उठा। भाई गुलशन सक्सेना तत्काल डॉक्टर के पास लेकर पहुँच गये, लेकिन उपचार से पहले ही मुकेश सक्सेना ने दम तोड़ दिया। मुकेश सक्सेना के निधन की सूचना जिसने भी सुनी, वह दंग रह गया। हर कोई उनके अंतिम दर्शन के लिए दौड़ पड़ा। शहर व जिले के तमाम गणमान्य नागरिकों ने शोक व्यक्त कर शोकाकुल परिवार को सांत्वना दी।

Leave a Reply