बदायूं कांड की जांच में जुटी सीबीआई ने प्रकृति से हार मानी

बदायूं कांड की जांच में जुटी सीबीआई ने प्रकृति से हार मानी
शनिवार देर शाम कब्र के ऊपर बहता पानी।
शनिवार देर शाम कब्र के ऊपर बहता पानी।

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में स्थित उसहैत थाना क्षेत्र के गाँव कटरा सआदतगंज के पेड़ पर दो बहनों को मार कर लटकाने की चर्चित घटना में सीबीआई ने प्रकृति से हार मान ली है। लाशों को कब्र से निकाल कर पुनः पोस्टमार्टम कराने की मंशा पर गंगा ने पानी फेर दिया है। जलस्तर बढ़ने से कब्र के ऊपर दस फुट से भी ज्यादा पानी बह रहा है, जिससे आज सीबीआई की टीम मौके का नज़ारा देख कर वापस लौट गई।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को कब्र के चार फुट ऊपर पानी बहने लगा था। कब्र के चारों ओर घेरा बना कर सीबीआई पानी निकलवाने में देर रात तक जुटी भी रही। उधर नरौरा बैराज से लगभग 92 हजार क्यूसेक पानी और छोड़ दिया गया, जो रात में ही घटना स्थल तक पहुँच गया, जिससे जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। बता दें कि अटैना घाट पर स्थित कब्र से लाशें निकालने के लिए बीस जुलाई का दिन निश्चित किया गया था, लेकिन शनिवार को गंगा का जलस्तर बढ़ने लगा, तो आनन-फानन में सीबीआई की टीम पैनल और एक्सपर्ट के साथ मौके पर पहुंच गई, लेकिन पूर्व में मेडिकल करने वाले पैनल के डॉ. राजीव गुप्ता बरेली में थे और दूसरे डॉ. अवधेश कुमार बुलंदशहर में थे। उनके मौके पर न होने के कारण देर होती चली गई और दोपहर दो बजे के बाद जलस्तर बढ़ने से कब्र पानी में पूरी तरह डूब गईं।

शनिवार को टीम मौके पर पहुंची थी, तब पानी कब्र से तीन-चार फुट दूर था, ऐसे में सीबीआई लाशों को निकाल कर ताबूत में रख सकती थी, लेकिन ऐसा न कर सीबीआई कब्र के चारों ओर घेरा बनवाने में जुटी रही। कहीं न कहीं सीबीआई की नासमझी भी दिखाई दे रही है। अब सूचना मिल रही है कि नरौरा, बिजनौर और हरिद्वार से दो लाख क्यूसेक के आसपास पानी और छोड़ दिया गया है, साथ ही बारिश लगातार हो रही है, जिससे गंगा में पानी हर क्षण बढ़ रहा है, इसलिए माना जा रहा है कि पुनः पोस्टमार्टम के लिए सीबीआई के हाथ लाश शायद, नहीं लग पायेंगी। कुल मिला कर लचर सिस्टम, सीबीआई की नासमझी के चलते पुनः पोस्टमार्टम नहीं हो पाया और अब प्रकृति से पार पाने की शक्ति समूचे सिस्टम में भी नहीं है।

घटना के खुलासे में सीबीआई पुनः पोस्टमार्टम को अहम मान रही थी, इसलिए कहा जा सकता है घटना की जांच में प्रश्न वाचक चिन्ह लग गया है और अब उँगलियाँ सीबीआई की ओर भी उठने लगी हैं।

अगवा कर दुष्कर्म के बाद यादवों पर बहनों की हत्या का आरोप

कटरा सआदतगंज में सदियों याद की जाती रहेगी यह घटना

बदायूं कांड: सीबीआई ने लिया पुनः पोस्टमार्टम का निर्णय

सिस्टम की चूक, प्रकृति की भेंट चढ़ी बदायूं कांड की जांच

Leave a Reply