दबाव में तीस क्षेत्र पंचायत सदस्यों की नजर कमजोर कर दी

दबाव में तीस क्षेत्र पंचायत सदस्यों की नजर कमजोर कर दी
विजयी प्रत्याशियों के साथ प्रदेश के ग्राम्य विकास विभाग के राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव, प्रदेश के पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष, दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव तथा शेखूपुर के विधायक आशीष यादव।
विजयी प्रत्याशियों के साथ प्रदेश के ग्राम्य विकास विभाग के राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव, प्रदेश के पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष, दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव तथा शेखूपुर के विधायक आशीष यादव।
बदायूं जिले में क्षेत्र पंचायत प्रमुख के चुनाव में मनमानी की सारी हदें पार होती जा रही हैं, लेकिन सत्ताधारियों के समक्ष पुलिस-प्रशासन के शीर्ष अफसर असहाय नजर आ रहे हैं, साथ ही प्रेक्षक भी मूक दर्शक बने हुए हैं। इसके अलावा ग्यारह ब्लॉकों में निर्विरोध निर्वाचित होने वाले विजयी प्रत्याशियों को जिला निर्वाचन अधिकारी (पंचायत) ने आज प्रमाण पत्र वितरित किए।
सूत्रों के अनुसार सत्ता पक्ष के एक नेता ने आज सीएमओ व प्रभारी सीएमएस पर सालारपुर ब्लॉक के लगभग चालीस क्षेत्र पंचायतों सदस्यों को दृष्टि दोष प्रमाण पत्र देने का दबाव बनाया। हालाँकि स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने मना किया, लेकिन सत्ता पक्ष के नेता के सामने उनकी नहीं चली और अंत में सीएमएस ने तीन डॉक्टरों का पैनल बना दिया, जिसमें डॉक्टर परवीना माहेश्वरी, डॉक्टर हरपाल सिंह और डॉक्टर रियाज अहमद रहे। पैनल ने लगभग तीस सदस्यों को कमजोर दृष्टि होने का प्रमाण पत्र जारी कर दिए हैं, इन प्रमाण पत्रों के सहारे सत्ता पक्ष के नेता का इरादा है कि पीठासीन अधिकारी, या जिला निर्वाचन अधिकारी मतदान के समय सदस्यों को सहायक दे दें, इससे सत्ता पक्ष का नेता अपनी पसंद के प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करा लेगा। यह सब जिला निर्वाचन अधिकारी के संज्ञान में है, लेकिन वे सत्ता पक्ष के नेता के सामने असहाय नजर आ रहे हैं, साथ ही जिले में प्रेक्षक भी मौजूद हैं और वे भी मूक दर्शक बने हुए हैं, लेकिन सवाल यह उठता है कि जिन सदस्यों ने अपना नामांकन पत्र भरा था और मतदान भी किया था, उनकी नजर अचानक कमजोर कैसे हो गई?
उधर शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभा कक्ष में प्रदेश के ग्राम्य विकास विभाग के राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव, प्रदेश के पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष, दर्जा राज्यमंत्री बनवारी सिंह यादव तथा शेखूपुर के विधायक आशीष यादव की मौजूदगी में ब्लॉक आसफपुर की निर्विरोध निर्वाचित ब्लॉक प्रमुख प्रेमवती, जगत की सुनीता देवी, कादरचौक के कौशल कुमार, अम्बियाुपर की विजेता यादव, दातागंज के कालीचरन, समरेर की शशि प्रभा, बिसौली की श्रीवती देवी, उसावां के राजेश कुमार, दहगवां के सतीश यादव, ब्लॉक म्याऊं की संगीता रानी तथा ब्लॉक सहसवान के निर्विरोध निर्वाचित प्रमुख नेम सिंह को जिला निर्वाचन अधिकारी (पंचायत) शम्भू नाथ द्वारा प्रमाण पत्र दिए गए।
इधर ब्लॉक उझानी में मंजू देवी द्वारा नामांकन वापस लेने के बाद अब दो प्रत्याशी रतनेश यादव और हरवंश सिंह यादव चुनाव मैदान में हैं। ब्लॉक इस्लामनगर में कैलाशो द्वारा पर्चा वापस लेने के पश्चात दिनेश, मनोरमा और त्रिभुवन शर्मा चुनाव मैदान में हैं। ब्लॉक सालारपुर में जयपाल द्वारा नाम वापसी के बाद किरन देवी एवं गेंदा देवी चुनाव मैदान में हैं। ब्लॉक वजीरगंज में किसी प्रत्याशी द्वारा नामांकन पत्र वापस नहीं लिया गया है, यहां धीरेन्द्र यादव, सुमता देवी तथा सत्यपाल चुनाव मैदान में हैं।

निष्पक्ष चुनाव कराने का नाटक, शिकायत हेतु सार्वजनिक किये नंबर 

बदायूं जिले में क्षेत्र पंचायत प्रमुख के निर्वाचन में यदि किसी व्यक्ति को कोई शिकायत, अथवा समस्या हो, तो वह चुनाव प्रेक्षक के मोबाइल नम्बर- 9415152317, अथवा दूरभाष नम्बर 05832-268174 पर शिकायत दर्ज करा सकता हैै।
क्षेत्र पंचायत प्रमुख के निर्वाचन को शान्ति पूर्ण तथा निष्पक्ष ढंग से सम्पन्न कराने हेतु राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा ग्राम्य विकास विभाग के विशेष सचिव नरेन्द्र कुमार सिंह को चुनाव प्रेक्षक बनाया गया है, वह स्थानीय लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन के कक्ष संख्या पांच में रूके हुए है। जिला निर्वाचन अधिकारी शम्भू नाथ द्वारा आजीविका मिशन के उपायुक्त आरपी सिंह को लाइजिंग अफसर नामित किया गया है, लेकिन सवाल उठता है कि जब प्रत्याशियों द्वारा की जा रही उत्पीड़न की शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं हो पा रही है, तो फोन पर की गई शिकायत पर क्या कार्रवाई होगी?
संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply