हत्यारोपी को छोड़ने पर भीड़ बेकाबू, पथराव, आगजनी, जाम

हत्यारोपी को छोड़ने पर भीड़ बेकाबू, पथराव, आगजनी, जाम
बदायूं जिले के दातागंज में बेकाबू भीड़ द्वारा तोड़ी गई पुलिस की जिप्सी।
बदायूं जिले के दातागंज में बेकाबू भीड़ द्वारा तोड़ी गई पुलिस की जिप्सी।

बदायूं में लगातार हो रही आपराधिक वारदातों को लेकर प्रदेश सरकार ही नहीं, बल्कि केंद्र सरकार की भी बदायूं पर विशेष नज़र है, लेकिन स्थानीय पुलिस-प्रशासन सुधरने को तैयार नहीं है। हत्यारोपी को हिरासत में लेने के बाद पुलिस द्वारा छोड़ने से नाराज भीड़ आज बेकाबू हो गई और जमकर बवाल किया। इंस्पेक्टर सहित पुलिस कर्मियों को भीड़ ने कोतवाली में घुस कर दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। पथराव किया, जिप्सी तोड़ दी और आग लगाने का भी प्रयास किया, इसके बाद रोड जाम कर दिया, जिससे कई घंटों तक दहशत और अफरा-तफरी का माहौल रहा।

घटना दातागंज कोतवाली क्षेत्र के गाँव नगरिया की है। शुक्रवार सुबह आरती नाम की विवाहिता की किसी तरह मृत्यु हो गई। सूचना पर आये मायके वालों ने मृत्यु को हत्या करार दिया और दातागंज कोतवाली में ससुराल पक्ष के पति सहित छः लोगों के विरुद्ध दहेज़ हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। इसके बाद पुलिस ने गाँव में जाकर पति प्रेम शंकर को हिरासत में ले लिया। बताया जाता है कि कोतवाली लाते समय रास्ते में ही प्रेम शंकर को पुलिस ने छोड़ दिया, इस पर मायके पक्ष के लोग भड़क गए और पैसे लेकर प्रेम शंकर को छोड़ने का पुलिस पर आरोप लगाते हुए बवाल शुरू कर दिया। पुलिस ने भी मौके ही स्थिति के अनुरूप व्यवहार नहीं किया और बात बढ़ती चली गई, तो भीड़ ने कोतवाली प्रभारी इंस्पेक्टर सुरेन्द सिंह यादव और अन्य पुलिस कर्मियों को पीटना शुरू कर दिया। बेकाबू भीड़ ने एक तरह से कोतवाली पर कब्जा ही कर लिया, जिससे पुलिस कर्मी इधर-इधर छुपते नज़र आये, पर आक्रोशित भीड़ ने पुलिस कर्मियों को खोज-खोज कर पीटा। जमकर पथराव भी किया और आग लगाने का प्रयास किया। पुलिस की जिप्सी को तोड़ कर जमीन पर पलट दिया, इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने रोड भी जाम कर दिया, जिससे आवागमन भी बाधित रहा। घटना को लेकर कस्बे में काफी देर तक आराजकता जैसी स्थिति रही, जिससे आम जनता डरी-सहमी नज़र आई। सूचना पर पहुंचे एसपी (ग्रामीण) ओपी यादव ने भीड़ को समझा कर जाम खुलवाया। स्थिति को सामान्य करने में ओपी यादव ने बड़ी भूमिका निभाई।

बताया जाता है कि भटौली निवासी ऋषि पाल ने अपनी की बेटी आरती की छः साल पहले नगरिया निवासी प्रेम शंकर से शादी की थी। उस वक्त हैसियत के अनुसार ऋषि पाल ने शादी में खूब दान-दहेज दिया। अब दो लडकियाँ पैदा हो चुकी हैं। बताया जाता आरोप है कि पिछली 19 जून को आरती की छोटी बहन की शादी थी, जिसमें प्रेम शंकर भी गया था। इस शादी में दिए दहेज़ को लेकर वह नाराज हो गया और अपने ससुर पर आरोप लगाने लगा कि साली की शादी में जितना दहेज़ दिया, उतना उसे नहीं दिया, इसलिए उसे अब और दहेज़ दिया जाये। इसीलिए प्रेम शंकर आरती को लगातार प्रताड़ित कर रहा था। आरती की मृत्यु का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा। शव मुख्यालय आ चुका है, वहीं एसएसपी एलआर कुमार दातागंज पहुंच गये हैं और घटना की जानकारी ले रहे हैं। सूत्रों का कहना है पुलिस की ओर से भीड़ पर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। पुलिस व भीड़ की ओर से कई लोग घायल भी बताये जा रहे हैं, लेकिन उनका मेडीकल परीक्षण कराने की बात अभी सामने नहीं है।

Leave a Reply