विश्व स्तरीय बनाये जायें पर्यटन स्थल: अखिलेश यादव

विश्व स्तरीय बनाये जायें पर्यटन स्थल: अखिलेश यादव
लखनऊ स्थित एनेक्सी में पर्यटन विभाग के कार्यों की समीक्षा करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
लखनऊ स्थित एनेक्सी में पर्यटन विभाग के कार्यों की समीक्षा करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

 

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश के प्रमुख पर्यटक स्थलों का तेजी से विकास किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मथुरा, वृन्दावन, आगरा, फतेहपुर सीकरी, गढ़ मुक्तेश्वर, चित्रकूट, अयोध्या, देवगढ़, पटियाली आदि स्थलों में प्राथमिकता के आधार पर पर्यटकों के लिए विश्वस्तरीय पर्यटन सुविधाएं विकसित कराई जाएं। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं के लिए धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी। साथ ही इन स्थानों के विकास कार्यों और पर्यटकों के लिए अवस्थापना सुविधाओं में किसी भी प्रकार की शिथिलता व गुणवत्ता की कमी को गम्भीरता से लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्यटन की अपार सम्भावनाएं हैं। समयबद्ध कार्यों तथा ठोस रणनीति से पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार और राजस्व में उल्लेखनीय वृद्धि की जा सकती है।
मुख्यमंत्री आज लखनऊ स्थित एनेक्सी में पर्यटन विभाग के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पर्यटन विकास के लिए चरणबद्ध रणनीति अपनाते हुए पर्यटकों के लिए बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराकर उनकी संख्या तथा प्रवास अवधि बढ़ाई जा सकती है। इसके लिए विभिन्न विभागों के बीच बेहतर ताल-मेल के साथ-साथ प्रचार-प्रसार को भी गति देने की आवश्यकता है। ऐतिहासिक एवं हेरिटेज पर्यटन, सांस्कृतिक पर्यटन के साथ-साथ ‘डिस्कवर योर रूट्स’ जैसे कार्यक्रम पर जोर देने की जरूरत है। उन्होंने ब्रज-आगरा, बौद्ध, बुन्देलखण्ड, अवध, विन्ध्य-वाराणसी, सूफी, वन विहार-ईको टूरिज्म आदि परिपथों के सुनियोजित एवं समेकित पर्यटन विकास के लिए शीघ्र मास्टर प्लान तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।
श्री यादव ने नई पर्यटन नीति, पर्यटन निगम की इकाइयों को लीज पर दिए जाने, मेगा टूरिस्ट सर्किट एवं टूरिज्म डेस्टिनेशन, मैत्रेय परियोजना कुशीनगर से सम्बन्धित कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश के पर्यटन उत्पादों व आकर्षणों का प्रचार-प्रसार किए जाने की रणनीति अपनाते हुए टूरिस्ट फ्रेण्डली माहौल बनाने का प्रयास जोर-शोर से किया जाए। पारम्परिक मेले और महोत्सवों के माध्यम से भी देशी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षिक किया जा सकता है। प्रदेश में पर्यटक स्थलों के मध्य बेहतर सड़क मार्ग व आवागमन की सुविधा विकसित की जाए। उन्होंने डिस्कवर योर रूट्स कार्यक्रम के तहत अप्रवासीय भारतीयों के प्रदेश में आगमन को बढ़ावा दिए जाने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने पर्यटन निगम को लाभ की स्थिति में लाए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि यह तभी सम्भव है, जब पर्यटकों की आवासीय एवं खान-पान की सुविधा में बढ़ोत्तरी हो, जलपान गृहों, मार्ग सुविधा तथा मनोरंजन स्थलों की स्थापना हो। उन्होंने कहा कि पर्यटन निगम की इकाइयों का उच्चीकरण एवं आधुनिकीकरण किया जाए, जिससे पर्यटन प्रदेश की अच्छी छवि लेकर जाएं। उन्होंने कहा कि लखनऊ अरबन हाट का संचालन शीघ्र किया जाए।
इस अवसर पर सचिव एवं महानिदेशक पर्यटन अमृत अभिजात ने मुख्यमंत्री को पर्यटन विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों एवं गतिविधियों की जानकारी दी। बैठक में पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह, राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, पर्यटन राज्यमंत्री ठाकुर मूलचन्द्र चौहान, उ0प्र0 पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष सुदीप सेन, मुख्य सचिव आलोक रंजन, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री राकेश गर्ग सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply