दो लड़कों के माता-पिता बन चुके प्रेमी जोड़े की दहशत बरकरार

दो लड़कों के माता-पिता बन चुके प्रेमी जोड़े की दहशत बरकरार
एसपी ग्रामीण ओपी यादव से सुरक्षा दिलाने की गुहार लगाते भूपेन्द्र, दीपा और उसकी विधवा माँ।
एसपी ग्रामीण ओपी यादव से सुरक्षा दिलाने की गुहार लगाते भूपेन्द्र, दीपा और उसकी विधवा माँ।

उच्चतम न्यायालय और सरकार के कड़े निर्देशों के बावजूद सामाजिक सोच और पुलिस की कार्यप्रणाली में परिवर्तन नहीं आ पा रहा है। प्रेम विवाह करने वाले जोड़ों की जिंदगी में शांति, प्रेम और आनंद नहीं बचता। उन पर डर इस हद तक हावी हो जाता है कि जिंदगी ही ठहर जाती है, इससे भी बड़े दुर्भाग्य की बात यह है कि पुलिस साथ नहीं देती। ऐसे ही एक भयभीत जोड़े ने एसपी से मिल कर जान की सुरक्षा की गुहार लगाई है।

बदायूं जिले में इस्लामनगर थाना क्षेत्र के कस्बा नूरपुर पिनौनी के रहने वाले भूपेन्द्र व दीपा ने बताया कि उन्होंने वर्ष 2008 में प्रेम विवाह किया था। अब उनके पास दो लड़के हैं। मेहनत-मजदूरी कर जिंदगी गुजार रहे हैं और किसी से कुछ नहीं कहते, इसके बावजूद दीपा का फुफेरा चाचा उन्हें जीने नहीं दे रहा। भूपेन्द्र ने बताया कि मुनेन्द्र और उसका लड़का विशाल जहां भी मिल जाते हैं, वहीं गाली देने लगते हैं। गालियों का विरोध न करो, तो भी गिरेबान पकड़ लेते हैं। सीने पर अक्सर तमंचा रख देते हैं और गाँव से न भागने पर जान से मारने की धमकी देते हैं। उन लोगों ने जब अति कर ली, तो वह एसओ इस्लामनगर के पास गया, लेकिन एसओ ने मदद करने की जगह यह कहा कि गाँव छोड़ दो और किसी शहर में जाकर रहो।

पीड़ित भूपेन्द्र, दीपा अपनी विधवा माँ के साथ शनिवार को एसपी ग्रामीण ओपी यादव से मिले और उन्हें अपने साथ हो रही घटनाओं के बारे में बताया, इस पर ओपी यादव ने एसओ इस्लामनगर सतीश यादव को दंपत्ति की मदद करने के कड़े निर्देश दिए। बता दें कि उघैती थाना क्षेत्र के गाँव रियोनाई निवासी धनपाल सिंह की बेटी दीपा नूरपुर पिनौनी में एक दूर के रिश्तेदार के घर रह कर पढ़ती थी, तभी वह रिश्तेदार दीपा की शादी अपनी पसंद के लड़के से करने का दबाव देने लगा, इस बीच दीपा और भूपेन्द्र नजदीक आ गये, तो दोनों ने शादी कर ली, तब से वह रिश्तेदार दीपा और भूपेन्द्र से रंजिश मानता है।

Leave a Reply