चुनावी समर में जाने के लिए अखिलेश, रथ और सेना तैयार

चुनावी समर में जाने के लिए अखिलेश, रथ और सेना तैयार
समाजवादी विकास रथ का बायाँ भाग।
समाजवादी विकास रथ का बायाँ भाग।

चुनावी और पारिवारिक युद्ध में विजय पाने के उददेश्य से अखिलेश यादव अर्जुन से कई गुना ज्यादा साहस के साथ तैयार हैं, उनका रथ भी तैयार है। अखिलेश यादव की 3 नवंबर से शुरू होने वाली बहुचर्चित समाजवादी विकास रथ यात्रा की उलटी गिनती शुरू हो गई है, जो विकास से विजय की ओर जायेगी। आम आदमी से लेकर खास आदमी तक यात्रा का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। टीम अखिलेश यात्रा को भव्य बनाने में दिल से जुटी हुई है। संभावना जताई जा रही है कि अखिलेश के रथ के पीछे तीस से पचास कि.मी. लंबा वाहनों का काफिला हो सकता है।

अखिलेश की यात्रा को लेकर जनता में जितनी उत्सुकता है, उतनी उत्सुकता उनके रथ को लेकर भी है। समाजवादी रंग में चमकते हाईटेक रथ में एलईडी स्क्रीन लगी है, जिस पर अखिलेश यादव की तस्वीर दूर से दिखाई देगी, साथ ही एलईडी पर प्रदेश सरकार की योजनाओं का भी उल्लेख होता रहेगा। रथ के अंदर बैठने पर भी अखिलेश यादव को जनता आसानी से देख सकेगी। रथ के अंदर एक छोटा सा कार्यालय भी बनाया गया है, जिसमें हाई-फाई इंटरनेट कनेक्टिविटी रहेगी, इसी तरह आराम करने के लिए शानदार सोफे और टॉयलेट की भी व्यवस्था की गई है, साथ ही रथ में हाइड्रोलिक लिफ्ट की व्यवस्था है, जो अखिलेश को नायक के अंदाज में आसानी से ऊपर ले जायेगी। सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखा गया है।

समाजवादी विकास रथ का दायाँ भाग।
समाजवादी विकास रथ का दायाँ भाग।

विशेष ध्यान देने की बात यह है कि रथ पर दिख रही लुभावनी तस्वीर में अखिलेश जिस साईकिल पर सवार हैं, वह समाजवादी पार्टी वाली साईकिल नहीं है, वह नये दौर की स्पोर्ट्स साईकिल है, जो बड़े परिवर्तन का प्रतीक कही जा सकती है। अखिलेश के रथ पर सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को विशेष सम्मान दिया गया है। रथ की एक दिशा में अखिलेश ही नजर आते हैं, वहीं दूसरी तरफ मुलायम सिंह यादव की बड़ी सी तस्वीर लगी है, उनकी तस्वीर रथ के पीछे भी लगी है, साथ ही समाजवादी पार्टी के आदर्श कहे जाने वाले डॉ. राम मनोहर लोहिया, जयप्रकाश नारायण और जनेश्वर मिश्र की तस्वीरें भी नजर आ रही हैं, जो स्वयं ही बता रही हैं कि अखिलेश जड़ों से दूर नहीं गये हैं।

खैर, रथ तैयार है, अर्जुन तैयार है, सेना तैयार है, लेकिन इस महायुद्ध में सारथी जनता को रहना है, जो अखिलेश की सारथी बनेगी, या नहीं?, यह आने वाले समय में ही स्पष्ट हो सकेगा। युद्ध रूपी चुनाव में भी हार-जीत निश्चित रूप से होनी ही है, लेकिन अखिलेश की भूमिका को जिस तरह सराह जा रहा है, वह जीत से कम नहीं कही जा है।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

अखिलेश यादव तीन नवंबर से यात्रा के जरिये मचायेंगे धूम

One Response to "चुनावी समर में जाने के लिए अखिलेश, रथ और सेना तैयार"

  1. Himanshu Gupta   November 2, 2016 at 8:57 AM

    तो आप आ रहे हैं न विकास रथ यात्रा में.. ??

    आगामी 3 नवम्बर से उत्तर प्रदेश नया इतिहास लिखने वाला है। ये उदय है इस सदी के युवानायक हर दिल अजीज़ अखिलेश यादव की समाजवादी विकास रथ यात्रा का। जिसका नारा ” विकास से विजय की ओर है”।

    जानते हैं इस यात्रा में कौन कौन आ रहा है?
    वो लैपटॉप प्राप्तकर्ता छात्र आ रहा है।
    1090 से लाभान्वित महिलाऐं आ रही है।
    कर्ज माफ़ी और मुफ़्त सिंचाई से खुश किसान आ रहा है। 108 एम्बुलेंस से बचाये गए मरीज़ का परिवार आ रहा है।
    एक्सप्रेस वे और मेट्रो से उत्साहित शहरी युवा नौजवान आ रहा है।
    निवेश मित्र योजना से खुश निवेशक आ रहा है।
    कौशल विकास से काबिल होता अल्पसंख्यक समाज आ रहा है।
    कामधेनु योजना से खुशहाल होता दुग्ध उत्पादक आ रहा है।
    लोहिया आवास से आसरा पाया ग़रीब परिवार आ रहा है। खुशहाली, प्रगति और सुरक्षा की उम्मीदों से सराबोर पूरा प्रदेश आ रहा है।

    तो आप आ रहे हैं न विकास रथ यात्रा में..??
    हिमांशु गुप्ता

    Reply

Leave a Reply