1883 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास

1883 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास

 

  • ताजगंज परियोजना से क्षेत्र का सौन्दर्यीकरण तथा विश्वस्तरीय सुविधाओं का विकास होगा
  • मुख्यमंत्री द्वारा सिंचाई, लोक निर्माण, आवास, पर्यटन, नगर विकास एवं विद्युत की लगभग 1883 करोड़ रु0 की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास


लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर सिंचाई, लोक निर्माण, आवास, पर्यटन, नगर विकास एवं विद्युत की लगभग 1883 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के दौरान बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर सिंचाई, लोक निर्माण, आवास, पर्यटन, नगर विकास एवं विद्युत की लगभग 1883 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के दौरान बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।



उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर सिंचाई, लोक निर्माण, आवास, पर्यटन, नगर विकास एवं विद्युत की लगभग 1883 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इनमें डा. राम मनोहर लोहिया नवीन नलकूप परियोजना के तहत 307 करोड़ रुपए की लागत से 1820 राजकीय नलकूपों का लोकार्पण, लगभग 980 करोड़ रुपए की लागत की 27 सड़क परियोजनाओं का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, 108.41 करोड़ रुपए की लागत की ताजगंज परियोजना, आगरा, 306.95 करोड़ रुपए लागत की आगरा इनर रिंग रोड परियोजना का प्रथम चरण, लगभग 21.12 करोड़ रुपए की लागत से सैंया से इटावा मार्ग पर शमसाबाद में बाईपास का निर्माण, लगभग 97.78 करोड़ रुपए लागत की शमसाबाद सीवरेज परियोजना, लगभग 25.45 करोड़ रुपए लागत की शमसाबाद पेयजल पुनर्गठन परियोजना तथा शमसाबाद में लगभग 36.08 करोड़ रुपए की 132 के.वी. उपकेन्द्र के निर्माण के शिलान्यास भी शामिल हैं।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने इन योजनाओं को समय पर पूरा करने के निर्देश देते हुए कहा कि ताजमहल पूरी दुनिया में मशहूर है, लेकिन जब पर्यटक आगरा में ताजमहल देखने के लिए आते हैं तो उन्हें ताजगंज में सुविधाओं के अभाव का सामना करना पड़ता है। इससे देश एवं विदेश में प्रदेश की छवि प्रभावित होती है। उन्होंने कहा कि ताजगंज परियोजना से इस क्षेत्र का सौन्दर्यीकरण होगा और यहां विश्वस्तरीय सुविधाओं का विकास होगा, जिससे पर्यटकों को सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार यमुना एक्सप्रेस-वे का पूरा लाभ उठाने के लिए आगरा इनर रिंग रोड परियोजना का पूरा होना अत्यन्त आवश्यक है। उन्होंने परियोजना के शुरु किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इन दोनों परियोजनाओं से ताजमहल देखने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी और इसका लाभ प्रदेश की जनता को मिलेगा।
श्री यादव ने कहा कि वर्तमान सरकार के आने के बाद प्रदेश में सिंचाई एवं लोक निर्माण विभाग में काफी काम हुआ है। पहले से अधूरी कई परियोजनाओं को पूरा कराया गया है। साथ ही कई नई परियोजनाओं को शुरु कराया गया है। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 में नदियों, नहरों एवं नालों का बड़ा संजाल है। इसको देखते हुए सुगम यातायात हेतु राज्य सरकार ने पुलों के निर्माण को प्राथमिकता दी है। उन्होंने कहा कि खुशहाली लाने के लिए जनपद मुख्यालयों को 4 लेन की सड़कों से जोड़ना आवश्यक था। उन्होंने कहा कि इसके लिए कार्ययोजना तैयार करके निर्माण कार्य शुरु करा दिया गया है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस परियोजना से प्रदेश की जनता को काफी लाभ होगा। उन्होंने लखनऊ नगर में निर्मित वर्तमान बैराज को और किसी उपयुक्त स्थान पर स्थानांतरित करने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि जब यह बैराज बना था तो नगर का आकार छोटा था, लेकिन अब नगर की बढ़ती सीमा को देखते हुए इसे आगे बढ़ाने की जरूरत है। इसी प्रकार उन्होंने रामपुर नगर में भी एक बैराज बनाने की आवश्यकता बताते हुए इन दोनों बैराजों के लिए बजट में आवश्यक प्राविधान करने के निर्देश भी दिए।
मुख्यमंत्री ने पूर्व में निर्मित पकरी के पुल की चर्चा करते हुए कहा कि यह पुल लगभग 01 लाख स्थानीय जनता के लिए आवागमन का साधन था। उन्होंने कहा कि इस पुल का निर्माण पुनः कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज शिलान्यास की गई परियोजनाओं के पूरा होने से प्रदेश विकास के रास्ते पर और अधिक आगे बढ़ेगा। कानपुर घटना को लेकर चिकित्सकों द्वारा की जा रही हड़ताल के सम्बन्ध में मीडिया द्वारा पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि इलाज के बिना किसी की मौत होना दुःखद है। उन्होंने कहा कि किसी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा और घटना के लिए जिम्मेदार किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों को मरीजों का इलाज पूरी कर्तव्यनिष्ठा एवं ईमानदारी से करना चाहिए। क्योंकि इलाज के बिना किसी की मौत सभ्य समाज के लिए ठीक नहीं है।
इससे पूर्व नगर विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री आजम खां ने कहा कि प्रदेश के किसान आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने सिंचाई की मुफ्त व्यवस्था की है।
सिंचाई एवं लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि राज्य सरकार 03 वर्षों में 3,000 नलकूप स्थापित कराएगी। उन्होंने प्रदेश की नहर व्यवस्था को दुनिया की सबसे बड़ी सिंचाई व्यवस्था बताते हुए कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में सिंचाई सुविधाओं के विकास के लिए तेजी से काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पिछले 02 वर्षों में राज्य सरकार ने 09 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता में वृद्धि की है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह ने कहा कि कई देशों की अर्थव्यवस्था पर्यटन उद्योग पर ही आधारित है। उन्होंने पर्यटन के क्षेत्र में वर्तमान सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों की भी जानकारी दी।
लोकार्पण एवं शिलान्यास के लिए प्रस्तावित योजनाओं की विस्तृत जानकारी देते हुए मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने कहा कि राज्य सरकार अवस्थापना सृजन के लिए लगातार प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं के पूरा हो जाने से यातायात के साधन बढ़ेंगे साथ ही आगरा आने वाले पर्यटकों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी होगी। इस अवसर पर राज्य मंत्रिमण्डल के कई मंत्री तथा वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply