हर-हर गंगे के जयघोष के साथ लगाई आस्था की डुबकी

हर-हर गंगे के जयघोष के साथ लगाई आस्था की डुबकी
पवित्र गंगा में ब्रहम मुहूर्त में डुबकी लगा कर पुण्य लाभ अर्जित करते भक्त
पवित्र गंगा में ब्रहम मुहूर्त में डुबकी लगा कर पुण्य लाभ अर्जित करते भक्त

कार्तिक पूर्णिमा का पर्व आस्था-श्रद्धा और हर्षोल्लास पूर्वक मनाया जा रहा है। गंगा तटों पर भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है। चारों ओर हर-हर गंगे का ही उद्घोष सुनाई पड़ रहा है। आज सुबह ब्रह्म मुहूर्त से ही शुरू हुआ गंगा स्नान का सिलसिला निरंतर जारी है। अब तक लाखों लोग पवित्र गंगा में डुबकी लगा चुके हैं।

गंगा किनारे मेला ककोड़ा में बसा तंबुओं का विशाल नगर
गंगा किनारे मेला ककोड़ा में बसा तंबुओं का विशाल नगर

रूहेलखंड क्षेत्र में चौबारी स्थित रामगंगा के किनारे भक्तों का अस्थाई नगर ही बसा नज़र आ रहा है। गंगा स्नान के साथ जप-तप और हवन-पूजन में भक्त आनंदमग्न हैं, वहीँ मेले में खरीदारी, घुड़सवारी और कबड्डी का लुत्फ़ लेते देखे जा रहे हैं। झूले में झूलने के साथ मौत का कुआँ में करतब देखकर बच्चे भी बेहद रोमांचित नज़र आ रहे हैं। इसी तरह मिनी कुम्भ के रूप में विख्यात भागीरथी के तट पर आयोजित बदायूं जिले के मेला ककोड़ा में भी जनसैलाब उमड़ पड़ा है। गाँव के भक्त परिवार सहित बैलगाड़ियों और ट्रैक्टर से पहुंचे हैं, तो शहरियों की लग्ज़री कारों का भी बेड़ा दिखाई दे रहा है। धार्मिक और आध्यात्मिक दिनचर्या के बीच मस्ती के भी सभी साधन मौजूद हैं। बच्चे, बूढ़े, जवान और महिलाओं के लिए बाज़ार सजा हुआ है। सुबह स्नान के बाद गंगा किनारे खिचड़ी का स्वाद भक्तों को और भी आनंदित कर देता है। मनोरंजन के रात्रिकालीन साधन भी सब मौजूद हैं, लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद पुलिस प्रशासन गंगा किनारे अंडा और शराब की बिक्री पर रोक नहीं लगा पा रहा है। जुए के टेंट भी खुलेआम लगे नज़र आ रहे हैं। कुल मिलाकर भक्तों के बीच आसुरी प्रवृत्ति के लोग भी बड़ी संख्या में गंगा किनारे मौजूद हैं, तभी अंडा, जुआ, शराब जैसे धंधे कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर भी फल-फूल रहे हैं।

एसपी सिटी के नेतृत्व में भक्तों की सुरक्षा के लिए तैनात घुड़सवार पुलिस
एसपी सिटी के नेतृत्व में भक्तों की सुरक्षा के लिए तैनात घुड़सवार पुलिस

उधर गंगा किनारे हजारों-लाखों लोगों के प्रवास करने के बाद भी बस-ट्रेन और डग्गामार वाहन खचाखच भरे नज़र आ रहे हैं। परिवहन की अतिरिक्त व्यवस्था होने के बावजूद यातायात व्यवस्था ध्वस्त नज़र आ रही है, वहीँ मेलों में माफिया भी पूरी तरह हावी है। खाने-पीने की अधिकाँश ब्रांडेड वस्तुएं ओवर रेट बिकती नज़र आ रही हैं, जिस पर प्रशासन की नज़र ही नहीं है।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

बरेली-बदायूं में युद्ध स्तर पर चल रही हैं मेलों की तैयारियां

कार्तिक पूर्णिमा पर विशेष: मोक्षदायिनी को भी तो बचाव

Leave a Reply