सीडीओ के छापे में निवर्तमान सीडीओ के चमचे फंसे

सीडीओ के छापे में निवर्तमान सीडीओ के चमचे फंसे

विकास भवन में छापा, तीन अधिकारी 22 कर्मचारी अनुपस्थित, स्पष्टीकरण सहित वेतन रोकने के आदेश

विकास भवन में उपस्थिति रजिस्टर देखते प्रभारी सीडीओ जयंत कुमार दीक्षित
विकास भवन में उपस्थिति रजिस्टर देखते प्रभारी सीडीओ जयंत कुमार दीक्षित

बदायूं के प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी जयन्त कुमार दीक्षित ने कहा कि कार्यालय देर से पहुंचने वालों के साथ कोई रियायत नहीं बरती जाएगी और छापामार कार्यवाही निरन्तर जारी रहेगी। श्री दीक्षित ने आज आकस्मिक रूप से विकास भवन पहुंचकर कार्यालयों में अधिकारियों/कर्मचारियों की उपस्थिति को चेक किया और विकास भवन में गन्दगी,  जगह-जगह पान की पीक को देखकर गहरी नाराज़गी व्यक्त करते हुए सफाई व्यवस्था पर ज़्यादा ध्यान देने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि कार्यालय में देर से आने वाले लेटलतीफ अधिकारियों एवं कर्मचारियों की लापरवाही को क्षम्य नहीं किया जाएगा। ज्ञातव्य हो कि श्री दीक्षित के पास मुख्य विकास अधिकारी का भी अतिरिक्त कार्यभार है। विकास भवन में जिला कार्यकारी अधिकारी मत्स्य, जिला कार्यक्रम अधिकारी तथा मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी उपस्थित नहीं पाए गए, जब उनके सम्बन्ध में प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी ने जानकारी चाही, तो इधर-उधर जाने का बहाना किया गया और जब मूवमेंट पंजिका तलब की, तो दिखाई नहीं गई, जिस पर उन्होंने नाराज़गी जताई और निर्देश दिए कि बिना मूवमेंट पंजिका में एंट्री करे कोई अधिकारी कर्मचारी बाहर जाता है, तो उसे अनुपस्थित माना जाएगा। सहकारिता विभाग  में कुर्सियां टूटी पड़ी पाए जाने पर नाराज़गी जताते हुए उन्हें तत्काल ठीक कराने अथवा वहां से हटाने के निर्देश दिए। प्रभारी सीडीओ ने जब आज प्रातः 10.30 बजे विकास भवन स्थित लघु सिंचाई कार्यालय में छापा मारा तो वहां तौक़ीर अहमद एवं कान्ता देवी, ग्रामीण अभियन्त्रण सेवा में अबरार अहमद, त्रिभुवन सिंह, नेकपाल, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी कार्यालय में जोगेन्द्र सिंह यादव, गोपाल, मनोज गिरी, सतीश गुप्ता, अनुराग सैनी, अजय कुमार, जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय में धर्मवीर यादव एवं चन्द्र केश, वाल विकास परियोजना कार्यालय में राधे लाल, कुमार बब्बन, जिला युवा कल्याण में प्रेमपाल, अपर जिला समाज कल्याण में रामखिलाड़ी, चन्द्र प्रकाश, जिला प्रोवेशन में जमील अहमद बिना अवकाश स्वीकृति के ही नदारद पाए गए। प्रभारी सीडीओ ने जिला कार्यक्रम अधिकारी के मौजूद न मिलने पर काफी नाराज़गी जताई और कहा कि अब लेटलतीफ लोगों की मनमानी नहीं चलने दी जाएगी। इस अवसर पर जिला विकास अधिकारी प्रदीप कुमार सोम, परियोजना निदेशक डीआरडीए कृपा राम सिंह अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। अनुपस्थित कई कर्मचारियों में निवर्तमान सीडीओ आईएएस अधिकारी सूर्यपाल गंगवार के चमचे भी शामिल हैं। कुछ दिन पहले इन चमचों से अधिकारी भी डरते थे, जिससे रजिस्टर में अनुपस्थित दर्ज होने से मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। निवर्तमान सीडीओ इस समय हापुड़ के डीएम हैं।

Leave a Reply