सस्ता व अच्छा इलाज उपलब्ध कराना चुनौती: मुख्यमंत्री

सस्ता व अच्छा इलाज उपलब्ध कराना चुनौती: मुख्यमंत्री

साइंटिफिक कन्वेशन सेण्टर में आयोजित 31वीं एनुअल कान्फ्रेन्स आफ यू0पी0 चैप्टर आफ एसोसिएशन आफ फिजीशियन आफ इण्डिया (यू0पी0 एपिकान-2013) का दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारम्भ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
साइंटिफिक कन्वेशन सेण्टर में आयोजित 31वीं एनुअल कान्फ्रेन्स आफ यू0पी0 चैप्टर आफ एसोसिएशन आफ फिजीशियन आफ इण्डिया (यू0पी0 एपिकान-2013) का दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारम्भ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि गरीब को सस्ता व अच्छा इलाज उपलब्ध कराना एक बड़ी चुनौती है। प्रदेश सरकार सीमित वित्तीय संसाधनों के बावजूद इस चुनौती से निपटने के लिए हर सम्भव कोशिश कर रही है।
मुख्यमंत्री आज लखनऊ में साइंटिफिक कन्वेशन सेण्टर में आयोजित 31वीं एनुअल कान्फ्रेन्स आफ यू0पी0 चैप्टर आफ एसोसिएशन आफ फिजीशियन आफ इण्डिया (यू0पी0 एपिकान-2013) का दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारम्भ करने के पश्चात् अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार की कोशिश है कि समाजवाद आए और गैर-बराबरी खत्म हो। राज्य सरकार इसी उद्देश्य से हर क्षेत्र में विकास की गतिविधियों को तेजी से आगे बढ़ाने के लिए काम कर रही है। जिला मुख्यालयों को चार लेन की सड़क से जोड़ने से लेकर मेडिकल कालेज खोलने तक सभी क्षेत्रों में प्रदेश सरकार तत्परता से कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की विकास की आवश्यकताओं को हर कीमत पर पूरा किया जाएगा।
कान्फ्रेन्स के आयोजन की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारियों, इलाज और दवाइयों में लगातार हो रहे बदलाव के मद्देनजर ऐसे आयोजन जरूरी हैं। इन आयोजनों के जरिये ज्ञान, अनुभव और नवीनतम अनुसंधान के आदान-प्रदान से बीमारियों के सफल इलाज की सम्भावनाएं बेहतर होती हैं। चिकित्सक तथा मरीज के सम्बन्ध को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि मरीज को डाक्टर से मिलकर तथा दवा पाकर अपने ठीक होने का पूरा भरोसा हो जाता है। इसके मद्देनजर उन्होंने चिकित्सकों से मरीजों, खासकर गरीब मरीजों का विशेष ध्यान रखने की अपील की।
श्री यादव ने कहा कि प्रदेश में अच्छे चिकित्सकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार गम्भीरता से कोशिश कर रही है। प्रदेश सरकार की कोशिशों से इस वर्ष प्रदेश के मेडिकल कालेजों में एम0बी0बी0एस0 की 500 सीटें बढ़ी हैं तथा तीन नए मेडिकल कालेज भी खोले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज मनमर्जी के मुताबिक नहीं खोले जा सकते। इसके लिए एम0सी0आई0 के मानदण्डों को पूरा करना पड़ता है। प्रदेश सरकार की कोशिश है कि राज्य में और मेडिकल कालेज खोले जाएं और पहले से चल रहे मेडिकल कालेजों को बेहतर बनाया जाए। पिछली सरकार द्वारा किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (के0जी0एम0यू0) का नाम बदले जाने को इस संस्थान की पहचान मिटाने की कोशिश बताते हुए उन्होंने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में के0जी0एम0यू0 का देश-विदेश में बड़ा नाम है। समाजवादी सरकार ने इस चिकित्सा शिक्षा संस्थान को इसका नाम और पहचान वापस दिलाई है। उन्होंने कहा कि इस नाम को बचाए और बनाए रखने की जरूरत है।
कान्फ्रेन्स को प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन तथा किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 डी0के0 गुप्ता ने भी सम्बोधित किया।
इस अवसर पर प्रदेश के योजना राज्यमंत्री फरीद महफूज किदवई, एसोसियेशन आफ फिजीशियन आफ इण्डिया के सेक्रेटरी डा0 मिलिन्द वाई0 नाडकर, मुख्यमंत्री के विशेष सचिव पन्धारी यादव, यू0पी0 चैप्टर आफ एसोसिएशन आफ फिजीशियन आफ इण्डिया के पदाधिकारी, आयोजन समिति के अध्यक्ष डा0 ए0के0 वैश, सचिव डा0 कौसर उस्मान सहित अन्य चिकित्सक एवं चिकित्सा विज्ञान के छात्र उपस्थित थे।

Leave a Reply