सरकार ने जिम कार्बेट को बनाया पर्यटकों का अड्डा

सरकार ने जिम कार्बेट को बनाया पर्यटकों का अड्डा
 शंभूनाथ शुक्ल

शंभूनाथ शुक्ल

घुमक्कड़ी और टूरिज्म में फर्क है। घुमक्कड़ी एक लगन है, एक जुनून और इसके लिए पैसों की जरूरत नहीं होती। लेकिन टूरिज्म एक व्यवसाय है। एक घुमक्कड़ दुनिया घूमता है कुछ नया जानने के लिए और कुछ नया समझने के लिए। वह शांति पूर्वक, धैर्य के साथ कहीं भी किसी भी जगह रह लेगा और बसर कर लेगा। लेकिन एक पर्यटक बिना शोर शराबे के नहीं रह सकता। वह जहां जाएगा सबको बता देगा कि वह कुछ खास है। इस इलाके को उपकृत करने के मकसद से आया है। इसीलिए आप पाएंगे कि पर्यटन ने सारे संसार का नक्शा बिगाड़ दिया है। उसे भांति-भांति की शराब चाहिए, औरतें चाहिए और हर तरह के व्यंजन। बैंकाक हो, मकाऊ हो, मनीला हो या दुबई आज इसीलिए बदनाम हैं। लेकिन वहां की सरकारें इसे अच्छा समझती हैं।
यही हाल अपने देश में होता जा रहा है। पर राज्य सरकारें पैसों के लालच में पर्यटकों को लुभाने के लिए वह सब करती हैं, जिनसे वहां की जलवायु प्रभावित होती है और संस्कृति का ढांचा बिगड़ता है। आज अगर जगह-जगह परदेसियों को बाहर करने की मांग उठ रही है, उसके पीछे यही मानसिकता है। पर्यटक दक्षिण भारत में जाकर मटर, पनीर अथवा दाल मखानी या तंदूरी चिकन की मांग करेगा और उत्तर में आकर डोसा, बड़ा एवं इडली मांगेगा। उसे  समझ में नहीं आता कि अपनी इस तरह की हरकत से वो बायो डायवर्सिटी को चौपट कर रहा है।
हमारे देश में बाघों को बचाने के लिए टाइगर प्रोजेक्ट की स्थापना उस समय की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1971 में कपूरथला के महाराजा ब्रजेंद्र सिंह की अगुआई में की थी। उसे राज्य सरकारों ने पैसों के लालच में चौपट कर डाला है। जिम कार्बेट जैसे अभयारण्य इन्हीं पर्यटकों की बेशुमार आवाजाही से खत्म होता जा रहा है। यदि जिम कार्बेट को बचाना है, तो केंद्र सरकार इसे अपने हाथों में ले ले और इसे अफसरों की बीवियों और धनाढ्य पर्यटकों केलिए सैरगाह न बनाए। यहां वही आ सकें, जिनकी वाइल्ड लाइफ में दिलचस्पी हो, वरना उन्हें गेट से ही बाहर कर दिया जाए। इसके लिए जिम कार्बेट के हर प्रवेश द्वार पर सुशिक्षित और प्रशिक्षित लोग रहें, जो पर्यटकों को अंदर प्रवेश की अनुमति तभी दें, जब वे खुद उनके संयम से संतुष्ट हो जाएं। दुख है कि उत्तराखंड की सरकार जिम कार्बेट का व्यवसायीकरण किये जा रही है। इस पर अंकुश बहुत जरूरी है।
अभी पिछली 25 दिसंबर को मेरा सपरिवार जिम कार्बेट जाने का कार्यक्रम बना। जिम कार्बेट के बारे में पहले मैने अपने परिवार को पूरी जानकारी दी। हिमालय की तराई में शिवालिक पहाडिय़ों के आसपास का सारा जंगल रामगंगा के दोनों तरफ लंबी-लंबी घास के जंगलों से घिरा है। इन्हीं घास के जंगलों में बाघ रहता है। सूर्य की रोशनी उसके शरीर में लंबी घास के बीच में से आती है। इसीलिए बाघ के शरीर में चारों तरफ लाइनें होती हैं, जबकि तेंदुआ सागौन के पेड़ों के ऊपर रहता है, इसीलिए पत्तों के बीच से छनकर आई रोशनी उसे मिलती है। उसके बदन पर चित्तियां होती हैं। जंगल के कुछ कायदे-कानून होते हैं, उन्हें हमें फालो करना चाहिए। किसी भी अभयारण्य में हथियार लेकर अथवा कोई मादक पदार्थ लेकर नहीं जा सकते। अभयारण्य का मतलब ही है कि हम वाइल्ड लाइफ के बीच जा रहे हैं। यह उनका घर है, इसलिए हमें उनकी सुविधा-असुविधा का ख्याल रखना चाहिए। हम वहां जंगल में गेस्ट हाउस के बाहर कुछ खाएं पिएंगे नहीं। कोई पोलीथीन नहीं इस्तेमाल करेंगे और न ही कोई चीज फेकेंगे, न ही हम वहां शोर शराबा अथवा मोबाइल इस्तेमाल करेंगे।
हम तो खैर उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के अमानगढ़ के फारेस्ट रेस्ट हाउस में रुके। अमानगढ़ को अब एटीआर यानी अमानगढ़ टाइगर रिजर्व का दर्जा मिल गया है। हम तड़के वहां से जंगल की ट्रैकिंग को निकले। मेरे परिवार ने सारे कानून कायदों का पालन किया। लेकिन मैने पाया कि बगल के जिम कार्बेट अभयारण्य में गाडिय़ों की आवाजाही, पर्यटकों का धूम धड़ाका इतना अधिक था कि वहां कोई भी जानवर रह ही नहीं सकता। पर उत्तराखंड की सरकार ने आज तक किसी पर्यटक को नहीं रोका। यही हाल लगभग हर रिजर्ब फारेस्ट या अभयारण्य का है। उन्हें बस धनीमानी लोगों के उपभोग का अड्डा बना दिया गया है। यहां तक कि शिवपुरी के माधव राष्ट्रीय उद्यान में तो अब एक भी जंगली जानवर नहीं बचा है। वहां की झील के मगरों का शिकार होता है। राजाजी नेशनल पार्क को हाथी तस्करों और सागौन माफियाओं ने खत्म कर दिया है।

( लेखक देश के जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार हैं एवं हाल ही में अमर उजाला से सेवानिवृत हुए हैं)

Leave a Reply