बसपा ने खोजा सपा के गढ़ को ढहाने का सूत्र

बसपा ने खोजा सपा के गढ़ को ढहाने का सूत्र

– 15 जनवरी को बसपा में शामिल हो सकते हैं मुस्लिम खां

हाजी मुस्लिम खां
हाजी मुस्लिम खां
हाजी बिट्टन अली
हाजी बिट्टन अली

– चुनाव का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं मुस्लिम मतदाता

बदायूं लोकसभा क्षेत्र समाजवादी पार्टी का मजबूत गढ़ है, लेकिन इस गढ़ को बहुजन समाज पार्टी का मुस्लिम प्रत्याशी आसानी से तहस-नहस कर सकता है। सूत्रों का कहना है कि बसपा हाईकमान के संज्ञान में यह आंकड़ा आ गया है, जिससे बहुजन समाज पार्टी बदायूं लोकसभा क्षेत्र से मुस्लिम प्रत्याशी उतारने का मन बना चुकी है।

बसपा से जुड़े सूत्रों का कहना है कि बदायूं लोक सभा क्षेत्र से हाईकमान ने मुस्लिम प्रत्याशी उतारने की हरी झंडी दे दी है, लेकिन अभी प्रत्याशी का नाम तय नहीं है। बसपा से टिकट मांगने वालों की सूची लंबी है, लेकिन बिल्सी विधान सभा क्षेत्र से विधायक हाजी बिट्टन अली और उसहैत विधान सभा क्षेत्र से विधायक रह चुके हाजी मुस्लिम खां के नाम चर्चा में उभर कर सामने आये हैं। हालांकि मुस्लिम खां पिछले चुनाव में टिकट कटने के कारण विद्रोह कर पीस पार्टी से चुनाव लड़े थे, पर सूत्रों का कहना है 15 जनवरी को बसपा नेता मुनकाद अली के द्वारा मुस्लिम खां की पार्टी में वापसी की घोषणा की जाने की संभावना है, जिससे लोग कयास लगाने लगे हैं कि मुस्लिम खां ही प्रत्याशी हो सकते है। वैसे लोकप्रियता की दृष्टि से देखा जाए, तो मुस्लिम खां की तुलना में बिट्टन अली अधिक प्रभावशाली साबित होंगे, वहीं आम मुस्लिम मतदाता रसाज ग्रुप के चेयरमैन रईस अहमद को टिकट मिलने की आस लगाए बैठा है। रईस अहमद को टिकट मिल गया, तो उनकी बंपर जीत के दावे किये जा रहे हैं।

खैर, हार-जीत का निश्चय तो चुनाव में ही होता है, दावों और वादों से कुछ नहीं होता, पर इतना निश्चित है कि बसपा ने मैदान में मुस्लिम प्रत्याशी उतार दिया, तो सपा के लिए जीत पाना आसान न होगा, क्योंकि सदर विधायक आबिद रज़ा की बेरुखी से आम मुसलमान चुनाव का बेसब्री से इंतज़ार करते नज़र आ रहे हैं।

Leave a Reply