लेखपाल को गरियाने वाला सुधाकर अमर उजाला से आउट

लेखपाल को गरियाने वाला सुधाकर अमर उजाला से आउट
  • चिन्मयानंद का खुल कर साथ देने वाले अरुण पाराशरी के विरुद्ध अभी तक नहीं हुई कार्रवाई
शाहजहाँपुर स्थित एक कार्यक्रम में धुत खड़े अरुण पाराशरी का फ़ाइल फोटो
शाहजहाँपुर स्थित एक कार्यक्रम में धुत खड़े अरुण पाराशरी का फ़ाइल फोटो

अमर उजाला की प्रतिष्ठा की आड़ में बवाल करने के लिए कुख्यात हो चुके सुधाकर शर्मा को अमर उजाला ने आउट कर दिया है, जिससे उसके द्वारा सताये लोग राहत महसूस कर रहे हैं। सुधाकर के स्थान पर फ़िलहाल बदायूं कार्यालय में तैनात तरुण नाम के रिपोर्टर को ही बिसौली तहसील की रिपोर्टिंग की अतिरिक्त जिम्मेदारी दे दी गई है।

उल्लेखनीय है कि सुधाकर शर्मा जनपद बदायूं की तहसील बिसौली में संवाददाता था, लेकिन खुद को अमर उजाला का ब्यूरो चीफ बताते हुए अमर उजाला की प्रतिष्ठा का खुल कर लंबे समय से दुरूपयोग कर रहा था। पिछले दिनों अपने किसी निहाल सिंह नाम के ख़ास व्यक्ति के काम को लेकर फोन पर बिल्सी तहसील में तैनात एक लेखपाल राजेन्द्र प्रसाद को जमकर हड़काने का मामला प्रकाश में आया था। सुधाकर ने फोन पर लेखपाल और तहसीलदार को गालियाँ दीं थीं, जिसकी शिकायत अमर उजाला प्रबन्धन से की गई थी। अमर उजाला का शीर्ष नेतृत्व ख़राब छवि के लोगों को लेकर बेहद सजग रहता है, इसके बावजूद सुधाकर को हटाने में देर होने से अधिकाँश लोग स्तब्ध हैं, वहीँ अभी ऐसे कुछ और चेहरे बाकी हैं, जिनके विरुद्ध कार्रवाई होने से अमर उजाला की प्रतिष्ठा और बढ़ सकती है, जिनमें हाल ही में शाहजहाँपुर से हटाये गए अरुण पाराशरी का नाम प्रमुख तौर पर लिया जा सकता है।

बताया जाता है कि अरुण पाराशरी बलात्कार के आरोपी कुख्यात चिन्मयानंद के लॉ कॉलेज की प्रबंध समिति में उपाध्यक्ष है, जिसके चलते अरुण पाराशरी ने चिन्मयानंद का अखबार के माध्यम से ही नहीं, बल्कि पुलिस के माध्यम से भी खुल कर साथ दिया। बिसौली के सीओ विवेचक थे। अरुण पाराशरी ने सुधाकर के माध्यम से चिन्मयानंद की सेटिंग करा कर केस को कमजोर कराने का पूरा प्रयास किया, जिसकी शिकायत अमर उजाला प्रबन्धन से की जा चुकी है, लेकिन अभी तक अरुण पाराशरी को प्रबन्धन ने अमर उजाला से आउट नहीं किया है।

लेखपाल राजेन्द्र प्रसाद को फोन पर हड़काने की सुधाकर शर्मा की पूरी बात सुनने और खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

ब्यूरो चीफ बन कर रिपोर्टर ने लेखपाल को गरियाया

One Response to "लेखपाल को गरियाने वाला सुधाकर अमर उजाला से आउट"

  1. adhasach   October 10, 2013 at 4:17 PM

    अमर उजाला में और भी दागी काम करते है। शाहजहांपुर में पुवायां तहसील के हरीओम त्रिवेदी पर दुर्घटना के मामले में कोर्ट ने 2003 तीन में 645500 रुपयें का जुर्माना लगाया। अमर उजाला ने सब कुछ जानते हुए भी हरीओम को नौकरी पर रख लिया। इस मामले की शिकायत भी अमर उजाला के अधिकारीयों से की जा चुकी है पर हरीओम के खिलाफ किसी तरह की कार्यवाही नही की गई है। यह हाल है अमर उजाला का

    Reply

Leave a Reply