मेडिकल कॉलेज और फ्लाई ओवर का क्या हुआ?

मेडिकल कॉलेज और फ्लाई ओवर का क्या हुआ?

– बजट पर जमी रही बदायूं के लोगों की नज़रें, कुछ नहीं मिला

– 20 करोड़ से मैनपुरी में बनेगा इंजीनियरिंग कॉलेज 

सदन में बजट पेश करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
सदन में बजट पेश करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अब तक का सबसे बड़ा 2 लाख 21 हजार करोड़ का बजट सदन में पेश किया, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बजट की इतनी बूंदे भी नहीं पड़ी हैं, जिससे लोगों का गला भी तर हो सके। आश्चर्य की बात यह है कि जनपद बदायूं में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा हो चुकी है, साथ ही जाम से निजात के लिए फ्लाई ओवर बेहद आवश्यक है, लेकिन बजट में इन दोनों की ही चर्चा नहीं दिखी।

मैनपुरी में एक राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना के लिए बजट में 20 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है, लेकिन मुख्यमंत्री के अनुज सांसद धर्मेन्द्र यादव की बदायूं में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा के बावजूद बजट में धन की व्यवस्था की चर्चा सुनाई नहीं दी, वहीं बदायूं शहर में फ्लाई ओवर बेहद आवश्यक है। जाम की समस्या ने सभी को बेहद परेशान कर रखा है, जिससे फ्लाई ओवर बनाने की सभी की एक स्वर में लंबे समय से मांग लंबित है, लेकिन पड़ोसी जनपद रामपुर में दो फ्लाई ओवर बनने का जिक्र बजट के दौरान सुनाई दिया। 160 करोड़ रुपये एवं 19 करोड़ रुपये की लागत से रामपुर में दो फ्लाई ओवरों का निर्माण होगा, पर बदायूं में फ्लाई ओवर निर्माण के बारे में बजट में चर्चा तक सुनाई नहीं दी, जिससे बदायूं के लोगों को बजट से मायूसी ही मिली है।

सच क्या है?

बदायूं के जिलाधिकारी चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी कल सोमवार को ही मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए जगह देखने गये थे, जिसका प्रेस नोट भी जारी किया गया। बजट में धन की चर्चा न होने से यह सवाल स्वतः ही सबके अंदर हलचल मचाये हुए है कि सच क्या है? अधिकारियों के साथ सत्ता पक्ष के लोग कुछ भी साफ़-साफ़ बताने को तैयार नहीं हैं। एक सत्ता पक्ष के नेता ने कहा कि जब सांसद धर्मेन्द्र यादव ने घोषणा की है, तो इसका मतलब साफ़ है कि मेडिकल कॉलेज बनेगा ही। बजट में धन न मिलने के सवाल पर वह बोले कि धन कहाँ से और कैसे आएगा, यह समस्या ही नहीं है। सांसद ने कह दिया, तो मेडिकल कॉलेज बन जाएगा। सांसद के कहे का सभी को विश्वास करना चाहिए।

Leave a Reply