मुख्यमंत्री ने सैफई महोत्सव में नाटक का उद्घाटन किया

मुख्यमंत्री ने सैफई महोत्सव में नाटक का उद्घाटन किया
शतरंज के मोहरे नाटक का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, साथ में मौजूद सांसद धर्मेन्द्र यादव
शतरंज के मोहरे नाटक का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, साथ में मौजूद सांसद धर्मेन्द्र यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सैफई महोत्सव में मुंबई से आए कलाकारों द्वारा चौधरी चरण सिंह पी0जी0 कॉलेज हैवरा के आडिटोरियम में ‘शतरंज के मोहरे’ नाटक का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर किया।
मुख्यमंत्री ने इस नाटक के भावपूर्ण मंचन को देखा तथा नाटक की समाप्ति पर कलाकारों को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए धन्यवाद दिया। ‘शतरंज के मोहरे’ नाटक मंचन में नारी को शतरंज के मोहरे के भांति प्रयोग करने पर कुठाराघात करते हुए स्त्री भावना को महसूस करने की सीख दी गई। साथ ही, घर परिवार के बुर्जुगों की देखभाल, आवश्यकताओं की पूर्ति व उनके सम्मान को बनाए रखने का संदेश दिया गया। नाटक में गृहस्थ जीवन को मिल-जुल कर प्रेम भाव से जीने की बात कही गई। सत्य ही शान्ति का आधार है, यह नाटक में प्रदर्शित किया गया।
नाटक में बताया गया कि इंसान को अन्न, वस्त्र व छत के अतिरिक्त अपनों के स्नेह की महती जरूरत होती है। समाज के हर वर्ग व क्षेत्र-चाहे गृहस्थ घर हो या आध्यात्मिक क्षेत्र, सभी जगह रहने वाले इंसानों की मानवीय भावना को समझने की सीख नाटक मंचन में दी गई। रूढि़वादिता एवं अहंकार पर कुठाराघात कर उसका नाश होना प्रदर्शित किया गया। बडे़-बूढ़ों के प्रति सम्मान से बोलने व अपने कर्तव्य निर्वहन के प्रति निष्ठा से सजग रहने का संदेश भी नाटक में दिया गया। इस नाटक में बाहरी दिखावे को ढोंग तथा मन की शुद्धता व सच्चाई को अच्छाई के रुप में प्रदर्शित किया गया। इस अवसर पर महोत्सव के अध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव, संयोजक तेज प्रताप सिंह ने कलाकारों को शाल भेंटकर उनका स्वागत किया। नाटक प्रदर्शन के दौरान मनोरंजन व भावपूर्ण दृश्यों एवं संवादों पर खचाखच भरे आडिटोरियम में तालियों की गड़गड़ाहट गूंजती रही।
उधर दंगल के समापन समारोह के अवसर पर सपा सुप्रीपो मुलायम सिंह यादव ने कहा कि खेलों से शरीर के स्वस्थ रहने के साथ-साथ व्यक्ति मानसिक रुप से भी चैतन्य रहता है। खेलों के माध्यम से व्यक्ति ख्याति प्राप्त कर अपना तथा अपने देश-प्रदेश का नाम रोशन करता है। इसलिये सभी खिलाडि़यों को स्वस्थ मन से खेल भावना के साथ अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन करना चाहिए।
विजयी पहलवान को शील्ड प्रदान करते सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव
विजयी पहलवान को शील्ड प्रदान करते सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव
सांसद एवं पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव ने कहा कि कुश्ती भारतीय खेल है, इसे सम्मान मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि अन्य देशों के खेलों को खेलने के साथ-साथ अपने देश के खेलों को राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाएं। उन्होंने कहा कि भारतीय खेलों में कुश्ती, कबड्डी एवं पहलवानी मुख्य रुप से आती है, इसे बढ़ावा मिलना चाहिए। अभी हाल में हुए ओलम्पिक खेलों में देश के सुशील कुमार व योगेश्वर दत्त ने कुश्ती में उच्चकोटि का प्रदर्शन कर देश का नाम रोशन किया है। हमारी आज के सभी नौजवानों यही अपेक्षा है कि वे भारतीय खेलों को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाएं, जिससे प्रदेश और देश का नाम रोशन हो सके।
दंगल में हरियाणा, दिल्ली एवं उत्तराखण्ड से आयी महिला पहलवानों ने भी अपने-अपने दांव पेंच के प्रदर्शन किए। कु0 सोनिया (दिल्ली) ने कु0 शालू (हरियाणा) को, आकांक्षा (दिल्ली) ने सुमन (हरियाणा) को हराया। इसी प्रकार कु0 दिव्या सेन ने अलीगढ़ के नदीम को अपने दांव पेंच से चित्त कर विजय प्राप्त की। जिला जीत की कुश्ती का मुकाबला सोनू व डिम्पल सिंह के मध्य हुआ, जिसमें डिम्पल सिंह जिला जीत घोषित हुई। इसी प्रकार से जिला जीत विद्यार्थी की कुश्ती बैजनाथ व नितिन के मध्य हुई, जिसमें बैजनाथ विजयी रहे। दंगल में कुश्ती लड़ने वाले सभी पहलवानों को पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर मंत्रिगण, सांसद एवं अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी, बड़ी संख्या में दूर-दराज से आए पहलवान व अपार जनसमूह उपस्थित था।

Leave a Reply