मुख्यमंत्री ने स्टार्च परियोजना का शिलान्यास किया

मुख्यमंत्री ने स्टार्च परियोजना का शिलान्यास किया
 
 
  • मुख्यमंत्री द्वारा 19,649 लाख रु0 की पेयजल योजनाओं का शिलान्यास तथा 863.87 लाख रु0 की योजनाओं का लोकार्पण 
जिला कन्नौज के तिर्वा विधान सभा क्षेत्र के उमर्दा में मक्का आधारित स्टार्च एवं अन्य उत्पाद निर्माण इकाई परियोजना का सांसद डिंपल यादव की उपस्थिति में शिलान्यास करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
जिला कन्नौज के तिर्वा विधान सभा क्षेत्र के उमर्दा में मक्का आधारित स्टार्च एवं अन्य उत्पाद निर्माण इकाई परियोजना का सांसद डिंपल यादव की उपस्थिति में शिलान्यास करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज कन्नौज जनपद के तिर्वा विधान सभा क्षेत्र के उमर्दा में मक्का आधारित स्टार्च एवं अन्य उत्पाद निर्माण इकाई परियोजना का शिलान्यास किया। उन्होंने कन्नौज विधान सभा क्षेत्र के गांवों में त्वरित ग्राम विकास योजना के अन्तर्गत उ0प्र0 जल निगम द्वारा 19,649 लाख रुपए की लागत से स्थापित की जाने वाली पेयजल योजनाओं का शिलान्यास तथा 863.87 लाख रुपए की योजनाओं का लोकार्पण भी किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा उ0प्र0 राज्य सहकारी ग्राम विकास बैंक से ऋण प्राप्त करने वाले 7017 किसानों को 18 करोड़ 79 लाख रुपए की धनराशि के कर्ज माफी प्रमाण पत्र वितरित किए गये।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए श्री यादव ने कहा कि उ0प्र0 औद्योगिक विकास निगम द्वारा उमर्दा जैसे पिछड़े क्षेत्र में स्थापित मक्का आधारित स्टार्च परियोजना में 108 करोड़ रुपए का निवेश किया जा रहा है। यह परियोजना 30 एकड़ क्षेत्र में स्थापित की जा रही है। इस परियोजना के पूरे हो जाने पर दो लाख टन मक्का की प्रोसेसिंग की जा सकेगी। इसके अतिरिक्त 130 एकड़ क्षेत्र में 225 भूखण्डों में अन्य उद्योग स्थापित किए जाएंगे, जिसमें विभिन्न उद्यमियों द्वारा 500 करोड़ रुपए का निवेश सम्भावित है। उन्होंने क्षेत्र में औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने के लिए उद्यमियों का आह्वान करते हुए कहा कि राज्य सरकार इसके लिए हर सम्भव सहायता उपलब्ध कराएगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी सरकार किसानों की हितैषी है। किसान तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास के लिए सरकार द्वारा पिछले दो वर्षों में लिए गए निर्णयों से प्रदेश का किसान खुशहाल हो रहा है। इस वर्ष किसानों के लिए खाद एवं बीज की पहले से व्यवस्था कर ली गयी थी। साथ ही गेहूँ एवं धान की खरीद के लिए सुचारू प्रबन्ध किये गए,  जिससे किसानों को काफी सुविधा हुई। उन्होंने कहा कि राज्य सबसे अधिक दुग्ध उत्पादन करता है। दुग्ध उत्पादन को और बढ़ाने के लिए कामधेनु डेयरी योजना प्रारम्भ की गई है। प्रदेश में अमूल की तीन दुग्ध प्रसंस्करण इकाइयों तथा इटावा में मदर डेयरी की स्थापना कराई जा रही है। दुग्ध उत्पादन करने वाले किसानों को इससे बहुत लाभ होगा।
श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार ने जनहित में सबसे अधिक कार्य किए हैं। प्रदेश सरकार जनता के हितों को देखते हुए विकास योजनाओं का संचालन कर रही है। सरकार गांवों में बेहतर सड़कों, बिजली तथा चिकित्सा सेवाओं की पर्याप्त व्यवस्था करने के लिए प्रतिबद्ध है। वर्ष 2016 तक गांवों में 16 से 18 घंटे तथा नगरों में 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि कन्नौज से उमर्दा तक सी0सी0 रोड तथा विधूना से किसनी तक आर0सी0सी0 रोड बनायी जाएगी। 108 समाजवादी एम्बुलेंस सेवा तथा गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं के लिए चलाई गई 102 नेशनल एम्बुलेंस सेवा, राजकीय अस्पतालों में निःशुल्क चिकित्सा, दवाई, एक्स-रे तथा पैथालॉजी जांचों की सुविधा का लाभ प्रदेश की जनता द्वारा बड़े पैमाने पर उठाया जा रहा है। चिकित्सा सेवाओं को और बेहतर बनाने के लिए प्रदेश में एम0बी0बी0एस0 की 500 सीटें बढ़वाई गई हैं तथा मेडिकल कॉलेज तथा पैरामेडिकल कॉलेजों की स्थापना भी की जा रहा है।
इस अवसर पर उ0प्र0 राज्य सहकारी ग्राम विकास बैंक के प्रबन्ध निदेशक राम जनक यादव ने बताया कि प्रदेश के 8 लाख किसानों का 1650 करोड़ रुपए की धनराशि का ऋण माफ किया गया, जिसमें कन्नौज जनपद के 7017 किसानों का 18 करोड़ 79 लाख रुपए का ऋण भी सम्मिलित है। इस मौके पर माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री विजय बहादुर पाल, सांसद डिम्पल यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply