बिहार में विषाक्त मध्यान्ह भोजन खाने से नौ बच्चों की मौत

बिहार में विषाक्त मध्यान्ह भोजन खाने से नौ बच्चों की मौत

– लालू ने की तत्काल कार्रवाई की मांग

बिहार में विषाक्त मध्यान्ह भोजन खाने से नौ बच्चों की मौत
बिहार में विषाक्त मध्यान्ह भोजन खाने से नौ बच्चों की मौत

बिहार की वास्तविक स्थिति को छुपा कर मीडिया के सहारे जो प्रचारित कराया है, वैसा बिल्कुल भी नहीं है। असलियत में बिहार में अब वह हो रहा है, जो बिहार में कभी नहीं हुआ। आतंकवाद की काली छाया से बिहार दूर था, पर पिछले दिनों धमाके हो गये। विकास और सुशासन की बात करें, तो जमीन पर कुछ नहीं है। छपरा जिले में मशरक प्रखंड के नवसृजित प्राथमिक विद्यालय धरमसती, गंडामन में आज मध्याह्न भोजन खाने से नौ बच्चों की मौत हो गई और 45 से अधिक बीमार हैं, जिनका उपचार किया जा रहा है। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा के साथ जांच का आदेश दे दिया है, लेकिन सवाल उठता है कि सुशासन कैसा?

प्रभारी प्रधानाध्यापिका मीणा कुमारी का कहना है कि मध्याह्न भोजन में विद्यालय में भात और सब्जी बनी थी, जिसे खाते बच्चों को उल्टी होने लगी। बच्चों की हालत बिगड़ने लगी, साथ ही एक बच्चे ने मशरक पीएचसी में दम तोड़ दिया, जिसके बाद बाकी बच्चों को छपरा सदर अस्पताल भेजा गया, जहां आठ बच्चों की मौत हो चुकी है। बीमार बच्चों में कई की हालत गंभीर बनी हुई है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने की मांग की है।

Leave a Reply