बासमती, लीची और सहस्त्रधारा के बाद देहरादून की नई पहचान-सेक्स हब

बासमती, लीची और सहस्त्रधारा के बाद देहरादून की नई पहचान-सेक्स हब

अपनी खूबसूरत पहाड़ियों, बासमती चावल, सुंदरता का पैमाना गढ़ती महिलाओं और सहस्त्रधारा जैसे धार्मिक स्थल के लिए जाना जाने वाला देहरादून आजकल एक नयी पहचान बना रहा है। पहचान भी ऐसी जिस पर कोई भी शर्मिंदा हो जाये। विदेशियों के आकर्षण का केंद्र यह शहर सेक्स हब बन गया है। जो सुंदरता वैभव थी वह अब एक बिकाऊ वस्तु बनकर रह गयी है। सेक्स रेकिट में पकड़ीं गईं अधिकांश लड़कियां धनाड्य वर्ग की निकलीं जो केवल शौक और नाजायज खर्चों के लिये पैसे जुटाने को यह काम कर रही हैं। हाई-फ़ाई अँग्रेजी बोलती और उच्च वर्ग से संबंध रखने वाली इन लड़कियों की बहुत मांग है और फीस भी उतनी ही है। कॉलेज पढ़ने को जिस लड़की को भेजा था वह क्या कर रही है, यह जानकर अभिभावकों की नींद उड़ना लाज़मी है। फिलहाल, सहस्त्रधारा के पास की एक कोठी से बरामद इन लड़कियों कि विस्थापना के लिए काम किया जा रहा है।

Leave a Reply