बहुत कठिन है डगर पनघट की: मोदी रेस से बाहर

बहुत कठिन है डगर पनघट की: मोदी रेस से बाहर

जब नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री देखने के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं का जोश चरम पर था, तब लालकृष्ण आडवाणी ने ब्लॉग लिखकर सनसनी मचा दी। आडवाणी ने साफ कर दिया कि मोदी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं होंगे। इस पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का ब्लॉग समग्रता से देखा जाना चाहिए। जो पूरा लेख पढ़ेगा उसे कोई गलतफहमी नहीं होगी। उनके अनुसार यह लेख मोदी के नहीं बल्कि काँग्रेस के खिलाफ है।

बुधवार को नीतीश ने पटना में कहा-‘लोकसभा चुनाव से पहले राजग का नेता घोषित होना चाहिए। जो बड़ा दल हो उसका बड़ा नेता नेतृत्व करे। इसका तात्पर्य यही है कि वे प्रधानमंत्री पद के लिए आडवाणी की उम्मीदवारी का समर्थन कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, संप्रग के गठबंधन  की दोबारा सत्ता में आने की कोई संभावना नहीं है। आडवाणी ने वही लिखा जो उन्हें उचित लता। आज महंगाई व भ्रष्टाचार से जनता त्रस्त है। यह केंद्र सरकार की विफलता  है। चुनाव में उतारने के पहले नेता की घोषणा कर देनी चाहिए। नेता की पहले घोषणा कर देने से लोगों को उसे देखने परखने और अपना मन बनाने का मौका मिल जाता है।  इससे चुनाव में फायदा मिलता है। जब अटल बिहारी वाजपेयी के नाम की घोषणा ही थी तो भाजपा को चुनाव में बहुत लाभ मिला था।

नीतीश ने कहा कि, उन्होंने प्रधानमंत्री पद के लिये कोई दावेदारी पेश नहीं की है। वे सिर्फ इतना चाहते हैं कि, बड़े दल का बड़ा नेता प्रधानमंत्री बने। ज्ञात ही कि, उनकी गडकरी से मुलाक़ात के बाद यह कयास लगाए जा रहे थे कि वे प्रधानमंत्री पद के दावेदारी बनना चाहते हैं। उन्होने साफ किया कि, उनके और मोदी के बीच किसी प्रकार की प्रतिस्पर्धा नहीं है, यह केवल मीडिया की उपज है, और कुछ नहीं। जब उनसे पूछा गया कि प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा से उनकी कोई पसंद है तो उन्होने जवाब दिया कि हाँ है, पर यह वे मीडिया को क्यों बताएं। उन्होने कहा कि वे सही समय आने पर अपने पत्ते खोलेंगे। उन्होने केवल इतना इशारा भर दिया कि प्रधानमंत्री कोई सेक्यूलर व्यक्ति ही बन सकता है। अब वे कितना ही रटें कि उनके और मोदी के बीच कोई लड़ाई नहीं, पर उनका मोदी विरोधी होना तो खुल ही गया है। इस रार से मोदी प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी से एक कदम और दूर हो गए हैं और भाजपा की जान सांसत में है कि उनके पत्ते खुलकर जाने और कौन सा धमाका करेंगे।

Leave a Reply