बरेली-बदायूं में युद्ध स्तर पर चल रही हैं मेलों की तैयारियां

बरेली-बदायूं में युद्ध स्तर पर चल रही हैं मेलों की तैयारियां
मेला ककोड़ा में सुरक्षा व्यवस्था और गंगा स्नान संबंधी निर्देश देते अधिकारी
मेला ककोड़ा में सुरक्षा व्यवस्था और गंगा स्नान संबंधी निर्देश देते अधिकारी

रूहेलखंड क्षेत्र में कार्तिक माह में दो बड़े मेलों का आयोजन होता है। बदायूं में भागीरथी के तट पर लगने वाले मेला ककोड़ा को रूहेलखंड का कुंभ भी कहा जाता है, इसी तरह बरेली जनपद में रामगंगा के किनारे भी भव्य मेले का आयोजन होता है। इन मेलों में आसपास के कई जनपदों के श्रद्धालु गंगा किनारे तीन दिनों तक परिवार सहित प्रवास करते हैं।

बदायूं के मेला ककोड़ा में दुकानें लगाते दुकानदार
बदायूं के मेला ककोड़ा में दुकानें लगाते दुकानदार

बदायूं के जिलाधिकारी सीपी त्रिपाठी ने गंगा नदी में पानी अधिक होने के कारण श्रद्धालुओं के स्नान हेतु सुरक्षित स्नान घाटों को बनाने तथा मेले में मुख्य स्नान के दिन तक कैम्प कर सुरक्षित स्नान की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी तथा बाढ़ खण्ड के अधिशासी अभियन्ता को जिम्मेदारी सौंपी है। यह अधिकारी प्रति सांय जिलाधिकारी को स्थिति से अवगत भी कराएंगे।
जिलाधिकारी सीपी त्रिपाठी के निर्देशानुसार उप जिलाधिकारी सदर प्रदीप कुमार यादव, पुलिस क्षेत्राधिकारी उझानी आनन्द कुमार सहित बाढ़ खण्ड के अधिशासी अभियन्ता डीके जैन ने जिला पंचायत के अधिकारियों के साथ ककोड़ा मेला स्थित गंगा घाट पर पहुंच कर स्नान घाटों का मौका मुआयना कर घाट पर लगाए गए पीएसी के जवानों, जिला पंचायत तथा प्राईवेट गोताखोरों एवं नाव चलाने वालों को निर्देश दिए कि बनाए गए स्नान घाट पर ही श्रद्धालुओं को स्नान करने को कहा जाए। उन्होंने अपील की कि निर्धारित बैरीकेटिंग के बाहर जल स्तर बढ़ा हुआ है, इसलिए इसमें स्नान करना सुरक्षित नहीं है।

बरेली क्षेत्र में रामगंगा किनारे मेले में लगा विशाल झूला
बरेली क्षेत्र में रामगंगा किनारे मेले में लगा विशाल झूला

एसडीएम सदर प्रदीप कुमार यादव, सीओ उझानी तथा बाढ़ खण्ड के अधिशासी अभियन्ता डीके जैन ने सुरक्षा की दृष्टि से स्नान घाट पर पर्याप्त लाइट व्यवस्था कराने के साथ वाच टावर से निरन्तर लाउडस्पीकर द्वारा एलाउंसमेंन्ट कर अधिक जल स्तर वाले स्थान की ओर न जाने की चेतावनी दिए जाने की व्यवस्था कराने हेतु जिला पंचायत के एएमए से कहा है। स्नान घाट की ओर चौपहिया वाहनों के जाने पर पूर्णतया प्रतिबन्ध रहेगा। सुरक्षा व्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए घाट पर पीएसी के जवानों सहित बाढ राहत पीएसी एवं प्राईवेट गोताखोर तथा नाव चलाने वाले लोग नाव सहित बैरीकेटिंग के किनारे-किनारे खड़े रहेंगे ताकि किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित न होने पाए। इस अवसर पर एएमए अशोक यादव, बाढ़ खण्ड के जेई दिलशाद अली सहित जिला पंचायत के अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे। इसी तरह रामगंगा के किनारे चौबारी में लगने वाले मेले की भी तैयारियां युद्ध स्तर पर चल रही हैं।

Leave a Reply