बरेली के सुलगने के बावजूद बेपरवाह है बदायूं प्रशासन

बरेली के सुलगने के बावजूद बेपरवाह है बदायूं प्रशासन

बरेली में हो रहे बवाल के कारण आसपास के जनपदों की स्थिति भी सामान्य नहीं है। अफवाहों और चर्चाओं का सिलसिला लगभग सभी जगह चल रहा है, फिर भी जनपद बदायूं का प्रशासन गंभीर नजर नहीं आ रहा। बिनावर थाना क्षेत्र के गांव विलहत में तीन दिन पूर्व अचानक एक नवनिर्मित भवन में कुछ लोग नमाज पढ़ते दिखाई दिये, साथ ही लाउडस्पीकर से आवाज भी लगनी शुरू हो गयी, जिस पर दूसरे संप्रदाय के लोग लामबंद होने लगे। बातचीत नोंकझोंक में बदलते देर नहीं लगी। सूचना पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गयी और भारी संख्या में फोर्स मौके पर तैनात कर दिया गया। अगले दिन पुलिस-प्रशासन ने मिल कर गांव में पंचायत कराई और फैसला सुनाया कि मस्जिद के रूप में भवन का इस्तेमाल नहीं करने दिया जायेगा, लेकिन लाउडस्पीकर का उपयोग किया जा सकता है। पुलिस-प्रशासन द्वारा यह निर्णय थोपने से स्थिति सामान्य नहीं हो पा रही है। गांव के लोग इतने समझदार होते, तो एक-दूसरे की धार्मिक गतिविधियों पर आपत्ति ही नहीं करते और जब आपत्ति कर रहे हैं, तो जाहिर है कि उतने बुद्धिमान नहीं है, इसलिए नई परंपरा शुरू कराने की फिलहाल कोई आवश्यकता नहीं थी। पुलिस-प्रशासन की यह मनमानी बड़ी घटना का कारण भी बन सकती है, जिसका दुष्परिणाम आम आदमी ही झेलेगा।

Leave a Reply