फैसले पर नाबालिग अपराधी की माँ ने जताया संतोष

फैसले पर नाबालिग अपराधी की माँ ने जताया संतोष

– पिता की पहले से ही मानसिक अवस्था ठीक नहीं है

– नाबालिग अपराधी के भाई-बहन सहमे नज़र आ रहे

– फैसले पर भवानीपुर के लोगों की है मिलीजुली राय

नाबालिग अपराधी की माँ अनीसा बेग़म
नाबालिग अपराधी की माँ अनीसा बेग़म

दिल्ली में हुई बलात्कार की चर्चित घटना के नाबालिग आरोपी को आज बाल न्यायालय ने दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुना दी। उसे तीन वर्ष तक बाल सुधार गृह में रखा जायेगा। अदालत के इस फैसले को लेकर देश भर में प्रतिक्रियायें दी जा रही हैं। अधिकाँश लोग नाबालिग अपराधी को कड़ी सज़ा देने की वकालत करते नज़र आ रहे हैं।

जनपद बदायूं में स्थित थाना इस्लामनगर क्षेत्र के गाँव भवानीपुर के रहने वाले नाबालिग आरोपी को न्यायालय ने 12 मामलों में अपराधी माना, जबकि पुलिस ने उसके विरुद्ध लूट, हत्या और गैंगरेप समेत 15 धाराओं में चार्जशीट लगाई थी। उसे बाल सुधार गृह में 21 वर्ष की आयु तक रखा जायेगा। घटना के दिन उसकी उम्र 17 साल 6 महीने 11 दिन थी, जिससे उसे नाबालिग माना गया है।

नाबालिग अपराधी का पिता वसरुद्दीन
नाबालिग अपराधी का पिता वसरुद्दीन

देश भर की तरह ही नाबालिग अपराधी के गाँव भवानीपुर के लोग भी मिलजुली प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं। उसके पिता वसरुद्दीन की मानसिक स्थिति पहले से ही सही नहीं है, जिससे वह कुछ भी कहने की अवस्था में नहीं है। माँ अनीसा बेग़म बीमार है, लेकिन अदालत के फैसले को संतोषजनक मान रही है। माँ का कहना है कि फांसी हो जाती, तो मर ही जाता, पर अब सुधरने का मौका तो है। उसने बताया कि वह पांच दिन पहले ही मिल कर आई थी, तब वह चीख-चीख कर रो रहा था और कह रहा था कि अब वह दिल्ली में नहीं रहेगा। गाँव आकर ही मेहनत-मजदूरी करेगा और अच्छे से रहेगा, वहीं गाँव वालों में कुछ लोगों का कहना है कि सज़ा पूरी होने के बाद भी उसे गाँव में घुसने नहीं देंगे, साथ ही कुछ लोगों का कहना है कि अच्छे से रहेगा, तो वह भी रहे, पर सुधार नहीं हुआ, तो गाँव से भगा देंगे। सज़ा याफ्ता नाबालिग अपराधी के बाकी बहन-भाई सहमे हुए हैं।

Leave a Reply